IIT का रिजल्ट आता है तो आनंद का जिक्र होता है: अखिलेश

  • सीएम आवास पर आनंद कुमार की पुस्तक 
  • ‘सुपर-30’ का अखिलेश ने किया विमोचन

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज 5 कालिदास स्थित अपने सरकारी आवास पर एक कार्यक्रम में आनंद कुमार के जीवन पर आधारित पुस्तक ‘सुपर-30’ का विमोचन किया। सुपर-30 आनंद कुमार के जीवन पर आधारित पुस्तक है और इसे कनाडा के डॉक्टर बिजू मैथ्यूज ने लिखा है। इस अवसर पर सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि जब भी आईआईटी का रिजल्ट आता है तो आनंद कुमार का जिक्र होता है। विपरीत परिस्थितियों में उन्होंने जिस तरह से कार्य किया है, वह बहुत कम लोग कर पाते हैं। आनंद कुमार का संघर्ष प्रेरणास्रोत है। आपने बहुत लोगों को सपने देखने का मौका दिया है। इस पुस्तक को पढऩे के बाद बहुत सारे लोग प्रोत्साहित होंगे।
सीएम अखिलेश यादव ने इस अवसर पर सुपर-30 को यूपी में लाने के लिए आनंद कुमार और उनकी पूरी टीम को बधाई दी। उन्होंने कहा कि जरूरतों और गरीबी की वजह से टैलेंट छिप जाता है। आनंद जिस तरह से गरीब मेधावी छात्रों का चयन कर उनकी मदद कर रहे हैं, एक दिन ऐसा आएगा कि पूरी दुनिया उनके काम को जानेगी। सीएम ने कहा कि मैं जब सीएम बना था तो मेरी उम्र कम होने की वजह से लोगों को मुझ पर भरोसा नहीं हो रहा था। लेकिन नेताजी के आशीर्वाद से मैंने चार साल में बहुत काम किया। यूपी में बड़े काम हो रहे है। मेट्रो से नौकरिया, सुविधाएं मिलेंगी। मैं तो कहता हूं लोग यूपी में आएं। अच्छा काम करें। उन्हें सारी सुविधाएं सरकार मुहैया कराएगी।
मालूम हो कि आनंद कुमार पटना में सुपर-30 नाम से आईआईटी कोचिंग संस्थान चलाते हैं, जहां वे आर्थिक तौर पर कमजोर छात्रों को हॉयर एजुकेशन मुहैया कराते हैं। पटना में जन्मे, पले और शिक्षित हुए आनंद कुमार को आज दुनिया सुपर-30 संस्था के संस्थापक के रूप में जानती है। हर साल आईआईटी रिजल्ट्स के दौरान सुपर-30 संस्थान की चर्चा अखबारों में खूब सुर्खियां बटोरती हैं। आनंद कुमार के कोचिंग संस्थान में बच्चों का प्लेसमेंट 100 फीसदी रहता है। सन 2003 से हर साल आईआईटी में सुपर-30 से आए बच्चे सफलता हासिल कर रहे हैं। इतनी बड़ी कामयाबी आनंद कुमार को यूं ही नहीं मिली। इसके पीछे उनकी जिंदगी का लंबा संघर्ष और मजबूत इरादों की बहुत भावुक, संघर्षमयी और प्रेरक कहानी है।

Pin It