प्रकाश प्रिय हैं भारतीय

प्रकाश सनातन अभीप्सा है। हम भारतीय अनंतकाल से प्रकाशप्रिय हैं। मन प्रश्नाकुल है। आखिरकार प्रकाश ज्योति की अतृप्त अभिलाषा का मूल कारण क्या है? वस्तुत: यह सम्पूर्ण अस्तित्व ही अपने मूल स्वरूप में प्रका...

तीर्थस्थल हों शहीदों की यादगारें...

देश के लिए अपनी जान हथेली पर लेकर चलनेवालों की यादगारें हमारे लिए क्यों तीर्थ स्थल नहीं होते हैं ? क्यों हम अपने मन में यह नहीं ठानते हैं कि हम शहीदों की यादगारों पर हर बरस मेले लगायेंगे? क्यों हम उन...

भारत-अफ्रीका संबंध मजबूत

मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल के दौरान भारत ने अफ्रीका के साथ संबंधों को बेहतर करने के लिए अपनी विदेश नीति में बुनियादी परिवर्तन किया है। दो से छह अक्टूबर तक राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की जिबूती और...

तीन पीढ़ी बनाम तीन साल का विकास...

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को सियासत का एक बड़ा धड़ा और देश की बड़ी आबादी एक अपरिपक्व नेता मानती है। उनकी समझदारी और गंभीरता पर बीजेपी सहित अन्य विरोधी नेता समय-समय पर सवाल खड़े करते रहते हैं। पप...

औरों की तरह ममता बनर्जी भी सत्ता पाने के बाद बदल गयीं...

शिव शरण त्रिपाठी पश्चिम बंगाल की वर्तमान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की अतीत की जुझारू राजनीति भला कौन भूल सकता है। 1970 में कांग्रेस पार्टी से राजनीति की शुरूआत करने वाली ममता बनर्जी यदि वामपंथियों के ग...