राहुल के सामने तीन जातिवादी नेताओं की चुनौती...

यह हास्य-विनोद का विषय कतई नहीं, बल्कि एक राष्ट्रीय दल के राष्ट्रीय नेता के बौना होने की घटना समझाने का प्रयास भर है कि एक बार हरियाणवी ताऊ गाड़ी में बैठ कर कहीं जा रहे थे। पैसेंजर गाड़ी थी बहुत धीरे...

टुकड़े-टुकड़े हो बिखरी मर्यादा...

नवीन जोशी साल 2014 का आम चुनाव नरेंद्र मोदी ने परिवर्तन, सुशासन, विकास, अच्छे दिन और भ्रष्टाचार के खिलाफ युद्ध के नारे से लड़ा था। यूपीए-2 की विफलताओं और घोटालों से आजिज जनता ने बड़ी आशा से मोदी के न...

धार्मिक उन्माद के बढ़ते दौर में...

राजस्थान के राजसमंद की एक घटना ने पूरे देश को हिला कर रख दिया है, जिसमें शंभूलाल नामक व्यक्ति ने अफराजुल नामक अल्पसंख्यक समुदाय के एक मजदूर की हत्या कर उसका वीडियो बना कर वायरल कर दिया था। इस तरह की ...

क्या मणिशंकर अय्यर एपिसोड से बाकी नेता सबक सीखेंगे?...

राजनीति में स्वस्थ माहौल में एक-दूसरे पर टीका-टिप्पणी करने की पुरानी परंपरा रही है। लेकिन अपने देश में नेताओं की भाषा कभी इस कदर गंदी हो जाएगी ये हमने सोचा नहीं था। कांग्रेस में अपने तुनकमिजाजी स्वभा...

किस करवट बैठेगा गुजरात चुनाव...

गुजरात विधानसभा चुनावों पर पूरे देश की निगाहें लगी हुई हैं। नतीजे किस करवट बैठेंगे, इसे लेकर भाजपा और कांग्रेस नेताओं की धडक़नें तेज हैं। वैसे तो हर विधानसभा चुनाव हर दल के लिए चुनौती होता है और सभी द...