अहंकार

बहुत समय पहले की बात है। एक गांव में एक मूर्तिकार रहता था। वह ऐसी मूर्तियां बनता था, जिन्हें देखकर हर किसी को मूर्तियों के जीवित होने का भ्रम हो जाता था। आस-पास के सभी गांव में उसकी प्रसिद्धि थी, लोग...

हंसना मना है

हर कहीं कॉम्पटीशन बढ़ सा गया है। किसी से अपनी परेशानी बताने जाओ तो वह अपनी परेशानी बताने में लग जाता है। उसका मकसद अपनी ही परेशानी को बड़ा बताना होता है। अमेरिका एक ऐसी कार लॉन्च करने वाला है जो बिना...

साड़ी का दाम

एक शहर में एक संत रहते थे वह प्रतिदिन साड़ी आदि बनाकर बाजारों में बेच देते थे, इसी से उनकी रोजी-रोटी और घर चलता था। एक दिन एक धनी लडक़ा बाजार में उस संत के पास पहुंचा, वह संत को ढ़ोगी समझता था। अत: उस...

4PM! खबरची, कुछ मीठी मिर्ची

हम नहीं सुधरेंगे बाबाजी जब से आसन छोड़ सिंहासन पर विराजमान हुए हैं, परेशान हैं। उनके मातहत रोज कोई न कोई कारनामा कर देते हैं। कुछ नहीं मिला तो फाइल ही दबा कर बैठ जाते हैं। जेब गर्म करने का कोई मौका न...

मैं ले डूबा

एक बार एक शिष्य को अपने गुरु के दर्शन की इच्छा जाग्रत हुई! गुरु की कुटीया जंगल में एक नदी के किनारे थी, जहां संकरे रास्ते से होते हुए नदी पार करते हुए जाना पड़ता था। एक दिन गुरु से मिलने की तीव्र इच्...