अयोध्या पर मध्यस्थता की विफलता के मायने...

सवाल यह है कि मध्यस्थता कमेटी मामले का हल निकालने में कामयाब क्यों नहीं हो सकी? क्या दोनों ही पक्ष कोर्ट के इतर की गई कोशिशों में दिलचस्पी नहीं ले रहे थे? क्या सुप्रीम कोर्ट जल्द इस मामले पर फैसला दे...

सुप्रीम कोर्ट का आदेश और सरकार की साख...

सवाल यह है कि आखिर शीर्ष अदालत को इस मामले में दखल क्यों देना पड़ा? क्या कोर्ट के आदेश ने प्रदेश सरकार और पुलिस तंत्र की साख को कठघरे में नहीं खड़ा कर दिया है? क्या पुलिस की लापरवाही ने सरकार की एक ब...

‘सबका विकास’ के लिए प्रतिबद्ध...

जयंत सिन्हा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल के पहले 50 दिनों में यह सिद्ध किया है कि ‘सबका विकास’ अभी भी उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता है। कई अहम फैसलों और बड़े नीतिगत कदमों से प्रधानमंत्...

अब एनआईए हुई और सशक्त

अवधेश कुमार भारत को आतंकवाद का सामना करने के लिए देश के पास सांस्थानिक, कानूनी, न्यायिक, हर तरह का सशक्त ढांचा चाहिए। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को नये संशोधन द्वारा बढ़ाया गया अधिकार, कार्यक्षेत्...

हर बात पर हड़ताल और सरकार का रवैया...

सवाल यह है कि देश में बात-बात पर हड़ताल की प्रवृत्ति बढ़ती क्यों जा रही है? क्या बातचीत से समस्या के समाधान के रास्ते बंद हो चुके हैं? क्या सरकार इन हड़तालों से होने वाली परेशानी को लेकर गंभीर नहीं ह...