सिख विरोधी दंगों के 34 साल कोर्ट का फैसला और निहितार्थ...

सवाल यह है कि सिख विरोधी दंगों की जांच के लिए सरकारों द्वारा नियुक्त तीन आयोग, दो कमेटियां और दो एसआईटी गठित करने के बाद भी फैसला आने में साढ़े तीन दशक क्यों लगे? क्या कोर्ट की इस टिप्पणी से इंकार कि...

बीजेपी को कम आंकना गलत

अजय कुमार सियासत में ठप्पे की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है। एक बार किसी नेता के ऊपर कोई ठप्पा लग जाए तो फिर ठप्पे के दाग मिटाने में वर्षों लग जाते हैं। ऐसा नहीं कि ठप्पा हमेशा नुकसानदायक ही होता है...

जिद… सच की कब शांत होगी कश्मीर में हिंसा की आग?...

सवाल यह है कि कश्मीर के युवकों को सेना का दुश्मन कौन बना रहा है? क्या अपने ही कश्मीर की शांति के दुश्मन बन चुके हैं? क्या आतंकवादियों के समर्थन में जवानों पर पत्थरबाजी की वारदातें सोची-समझी साजिश का ...

लक्ष्मण मूर्छित हुआ है परास्त नहीं...

  राकेश सैन भारत चाहे कांग्रेस मुक्त नहीं हुआ परंतु मिजोरम की पराजय के बाद पूर्वोत्तर भारत तो पूरी तरह से उस कांग्रेस से मुक्त हो गया जो कभी गांधी परिवार की अचल राजनीतिक संपत्ति माना जाता था। चाहे कि...

कृषि: गलत नीति से जन्मा भ्रष्टाचार...

एन के सिंह पिछले चार सालों में सात राज्य सरकारों ने अपने यहां चुनाव आते ही किसानों 1,82, 802 लाख करोड़ कर्ज माफ किया और तीन राज्यों में चुनाव नतीजों से घबराई केंद्र की भारतीय जनता पार्टी की मोदी सरका...