आखिरकार टेंट से निकलकर अस्थायी मंदिर में विराजे रामलला

  • सीएम योगी आदित्यनाथ व संतों ने की पूजा-आराधना
  • लॉकडाउन के कारण अभी भक्त नहीं कर सकेंगे दर्शन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
अयोध्या। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए घोषित लॉकडाउन के बीच अयोध्या में रामलला नवरात्रि के पहले दिन टेंट से निकलकर बुलेट प्रूफ अस्थाई मंदिर में विराजमान हो गए। दो दिन के वैदिक अनुष्ठान के बाद आज सुबह 4 बजे रामलला को स्थापित किया गया। अब रामलला के दर्शन इसी अस्थाई मंदिर में होंगे। हालांकि, लॉकडाउन की वजह से श्रद्धालु अभी दर्शन नहीं कर सकेंगे।
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के पदाधिकारी, सीएम योगी आदित्यनाथ व संत-महंतों की उपस्थिति में शिफ्टिंग का काम पूरा हुआ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामलला के पूजन और आरती में भाग लिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि रामलला के मंदिर निर्माण का पहला चरण पूरा हो गया है। जल्द ही भव्य मंदिर बनकर तैयार होगा। मुख्यमंत्री ने 11 लाख रुपए का चेक भी रामलला को दान दिया। श्रीराम जन्मभूमि परिसर में नवनिर्मित वैकल्पिक गर्भगृह में रामलला को शिफ्ट किया गया। रामलला की स्थापना के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को ही अयोध्या पहुंच गए थे। रामजन्मभूमि परिसर में चल रहे अनुष्ठान में सीएम योगी के साथ प्रधान पुजारी सत्येंद्र दास व ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपालदास के उत्तराधिकारी कमल नयन दास, श्रीराम जन्मभूमि तीथ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपतराय भी मौजूद रहे। रामलला को सीएम योगी आदित्यनाथ ने, भरत को राजा अयोध्या बिमलेंद्र मिश्र ने, लक्ष्मण को डॉ. अनिल मिश्र ने, शत्रुघ्न को दिनेन्द्रदास तथा शालिग्राम भगवान को महंत सुरेश दास ने वैकल्पिक गर्भगृह में पहुंचाया। नवनिर्मित वैकल्पिक गर्भगृह में रामलला को विराजमान करने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने देशवासियों को चैत्रशुक्ल प्रतिपदा और नवसंवत्सर की बधाई दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रीरामलला अपने नए आसन पर विराजमान होकर हम सब पर अपनी कृपा और आशीर्वाद निरंतर प्रदान करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश वर्तमान में जिस नई वैश्विक बीमारी से सामना करने के लिए तैयार हुआ है। उसकी दुनियाभर के तमाम संगठनों ने सराहना की है।

डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने भेजा छप्पन भोग

डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने रामलला के लिए छप्पन भोग का प्रसाद भिजवाया, जिसे विश्व हिंदू परिषद के नेताओं ने रामलला को अर्पित किया। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने श्रीरामलला को छप्पन भोग का प्रसाद समर्पित कर राष्ट्र समाज पर आये संकट से मुक्ति और कल्याण की प्रार्थना की। देश में लॉकडाउन के चलते वह अयोध्या नहीं पहुंच सके।

मतभेदों को छोडक़र कोरोना के खिलाफ हों एकजुट: अखिलेश

  • सपा प्रमुख ने लॉकडाउन में सहयोग की अपील की
  • कहा, सुखद भविष्य के लिए 21 दिन बेहद अहम
  • अखिलेश की अपील पर पार्टी नेताओं ने 5 करोड़ 20 लाख दिए

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कोरोनो वायरस के संक्रमण की चेन को तोडऩे के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश में 21 दिनों तक लॉकडाउन की घोषणा का सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने समर्थन करते हुए लोगों से सहयोग की अपील की है। अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा कि प्रत्येक नागरिक को सभी भेदभाव व मतभेदों को छोडक़र कोरोना के खिलाफ एकजुट होने की जरुरत है।
अखिलेश यादव ने ट्वीट किया, हर नागरिक को भेदभाव व मतभेद छोडक़र कोरोना के खिलाफ सामाजिक रूप से अलग व भावात्मक रूप से एकजुट होने की जरूरत है। ये 21 दिन भारत के सुखद भविष्य के निर्माण में ऐतिहासिक भूमिका निभाएंगे। जन-जन से अपील है कि वे इस कार्य में जुटें। प्रत्येक व्यक्ति व विभाग के साथ सहयोग करें। वहीं इससे पहले अखिलेश यादव की जनता के हितों के लिए की गई अपील पर समाजवादी पार्टी के विधायक एवं विधान परिषद सदस्यों ने कोरोना से बचाव के लिए अपने-अपने क्षेत्रों में अपनी निधि से कुल 5 करोड़ 20 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी। इनमें सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने अपनी सांसद निधि से 25 लाख रुपए देने का ऐलान किया। पुष्पराज जैन ने 60 लाख और अबू आजमी ने भी 50 लाख रुपए की सहायता की।

सांसद निधि से एक करोड़ देने का ऐलान

अखिलेश यादव ने एक और ट्वीट किया और लिखा, अपनी सांसद निधि से 1 करोड़ की राशि आजमगढ़ मेडिकल कॉलेज के समस्त चिकित्सकों-स्वास्थ्यकर्मियों के ‘पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विप्मेंट’ व कोरोना जांच की ‘टेस्टिंग किट’ के लिए देते हुए मैं समस्त जनता से इस कठिन समय में सहयोग की अपील करता हूं।

कैबिनेट बैठक में दिखी सोशल डिस्टेंसिंग दूरी बनाकर बैठे पीएम मोदी व मंत्री

  • पीएम मोदी के आवास पर हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के कारण देश में 21 दिन के लॉकडाउन का ऐलान किया गया है। इस दौरान लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की सलाह दी जा रही है। इस नियम का पालन खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कर रहे हैं। आज प्रधानमंत्री आवास पर बुलाई गई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में सभी मंत्री करीब एक-एक मीटर की दूरी पर बैठे।
कोरोना वायरस से जुड़े मसलों पर चर्चा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने आवास पर आज कैबिनेट की बैठक बुलाई। इस दौरान सभी मंत्रियों की कुर्सी को एक दूरी पर लगाया गया ताकि सोशल डिस्टेंसिंग को मैंटेन किया जा सके। बता दें कि दुनियाभर के एक्सपट्र्स ने सलाह दी है कि लोग एक दूसरे से दूरी बनाए रखें, ताकि किसी भी तरह की बीमारी एक-दूसरे में ना जा सके। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में भी सोशल डिस्टेंसिंग का जिक्र किया था. पीएम मोदी ने कहा था कि लॉकडाउन के वक्त ये जरूरी है कि आप किसी से ना मिलें, अपने घर में ही बने रहें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें।

यूपी में कोरोना आपदा घोषित

लखनऊ। योगी आदित्यनाथ सरकार ने उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस को आपदा घोषित कर दिया है। योगी सरकार ने इस मामले में अधिसूचना जारी की है। अधिसूचना में कहा गया है कि भारत सरकार के आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 की धारा-2 की उप धारा (डी) और उत्तर प्रदेश आपदा प्रबंध अधिनियम-2005 की धारा-2 की उप धारा (जी) में किए गए प्रावधान के क्रम में कोरोना वायरस के कारण फैल रही महामारी को आपदा घोषित किए जाने को राज्यपाल ने स्वीकृति दे दी है। अधिसूचना के मुताबिक इस दौरान आपात सामग्री की खरीद के संबंध में छूट दी जा रही है, लेकिन यह सिर्फ एक महीने के लिए होगी। यह छूट उन्हीं वस्तुओं की खरीद के लिए सरकार ने दी है, जो चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग और चिकित्सा शिक्षा विभाग के नॉम्र्स में कोरोना वायरस के उपचार और रोकथाम के लिए आवश्यक हैं। जरूरत होने पर अनुमोदन के बाद इस अवधि को बढ़ाया जा सकता है।

https://www.youtube.com/watch?v=8oSIkqvlKAA

Loading...
Pin It