नवाबों के शहर में दहशत का सन्नाटा

  • कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने में जुटी सरकारी मशीनरी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कोरोना वायरस को लेकर पीएम मोदी ने पूरे देश में 21 दिनों का लॉकडाउन कर दिया है। प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी आज सडक़ों पर सन्नाटा पसरा रहा। जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को छोडक़र अधिकांश लोग घरों में ही दुबके रहे। केवल पुलिस की गाडिय़ों की आवाज से यह सन्नाटा कभी-कभी टूटता रहा। हालांकि सुबह कुछ लोग घरों से निकले, जिन्हें पुलिस ने वापस भेज दिया। लॉकडाउन को लेकर पुलिस और प्रशासन के कर्मचारी पूरी तरह मुश्तैद रहे।

लॉकडाउन के समर्थन में आगे आए साधु-संत

  • कोरोना से जंग के लिए शुरू किया जागरूकता अभियान

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
प्रयागराज। कोरोना वायरस के खतरे से मुकाबले के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के 21 दिन के देशव्यापी लॉकडाउन की अपील का अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने भी समर्थन किया है। साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने पीएम मोदी के आह्वान पर देश के सभी संत महात्माओं से अपने-अपने मठ, मंदिरों व आश्रमों में ही रहने और बाहर नहीं निकलने को कहा है। उन्होंने कहा है कि देश के कोने-कोने में मठ मंदिरों में रहने वाले साधु-संत पीएम मोदी के संदेश पर पूरी तरह से अमल करेंगे।
अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने कहा है कि संत महात्मा न सिर्फ लॉकडाउन पर पूरी तरह से अमल करेंगे बल्कि इस बारे में अपने भक्तों व दूसरे लोगों को जागरूक करेंगे। उनके मुताबिक पीएम मोदी का यह फैसला देशहित व इंसानियत की रक्षा के लिए है इसलिए सभी को इसका सम्मान करते हुए इस पर पूरी तरह अमल भी करना चाहिए। महंत नरेंद्र गिरि ने कहा है कि संगम स्थित बड़े हनुमान मंदिर को भी बंद रखने की अवधि 2 अप्रैल तक बढ़ा दी गयी है। इसके साथी नवरात्रि में भी सभी मंदिरों में श्रद्धालुओं के पूजा-पाठ करने पर रोक लगाई गई है। इस दौरान मंदिरों में प्रतीकात्मक पूजा व आरती हो रही है और देश को कोरोना के कहर से निजात मिलने की प्रार्थना की जाएगी।

लॉकडाउन में भाजपा नेता को घूमना पड़ा महंगा

  • खिंची गई समाज का दुश्मन वाली फोटो, घर से बाहर निकलने की संतोषजनक वजह नहीं बता पाए जिला महामंत्री संतोष कटारा

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
आगरा। लॉकडाउन के दौरान बिना वजह कार से घुमने पर भाजपा जिला महामंत्री संतोष कटारा की मैं समाज का दुश्मन वाली तस्वीर इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल है। भाजपा जिला महामंत्री लॉकडाउन के दौरान अपनी कार से निकले थे लेकिन पुलिस ने जब रोका और उनसे बाहर निकलने की वजह पूछी तो वे कोई ठोस वजह नहीं बता पाए। उसके बाद पुलिस ने उनकी तस्वीर उस पर्चे के साथ खिंची जिसमें लिखा था, मैं समाज का दुश्मन हूं. बिना कारण ही घुमूंगा।
बताया जा रहा है कि यह तस्वीर सिकंदरा थाना क्षेत्र में पुलिस ने खींची है, दरअसल, पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस की इस जंग में लोगों से घरों में ही रहने की अपील की है लेकिन इसके बावजूद कुछ लोग बेवजह सडक़ों पर माहौल देखने निकल रहे हैं जिनके खिलाफ अब पुलिस सख्ती पर उतर आई है। आज सुबह आगरा की सडक़ों पर हजारों लोग बेवजह तफरीह करने के लिए बाइक और कार लेकर निकल पड़े। अपने घरों की लक्ष्मण रेखा लांघकर खुद और दूसरों के लिए खतरा बने ऐसे लोगों को जब पुलिस ने रोककर कारण पूछा तो उनके पास घर से बाहर निकलने का कोई जवाब नहीं था। इसके बाद पुलिस ने ऐसे लोगों को कड़ा सबक सिखाया। पुलिसकर्मियों ने कहीं हिदायत देकर तो कहीं डंडा चलाकर लोगों को वापस उनके घर भेजा।

दुल्हन से ऑनलाइन बोला दूल्हा, कबूल है

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
पटना। कोरोना वायरस के संक्रमण के खिलाफ जंग में लॉकडाउन का असर शादियों पर भी दिखने लगा है। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद का दूल्हा पटना की दुल्हन से निकाह करने बारात लेकर नहीं आ सका तो उसने ऑनलाइन ही शादी कर ली।
लॉकडाउन के कारण पटना में एक अनोखा निकाह हुआ। दूल्हा यूपी के गाजियाबाद स्थित साहिबाबाद में था तो दुल्हन पटना के समनपुरा में। दोनों अपने-अपने घरों में सज-धज कर स्वजनों के साथ थे। दोनों परिवार लैपटॉप पर एक-दूसरे के ऑनलाइन संपर्क में आए, फिर काजी ने ऑनलाइन निकाह कराया। यह पटना के समनपुरा के मरहूम हाजी मोहम्मद अलाउद्दीन की बेटी सादिया नसरीन का साहिबाबाद निवासी सैमुदुल हसन के बेटे दानिश रजा के साथ निकाह था। 23 मार्च को होने वाले पटना के हारूण नगर स्थित एक कम्युनिटी हॉल में निकाह की तैयारियां पूरी हो चुकी थीं। निमंत्रण भी भेजे जा चुके थे लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण बनी स्थिति में निकाह टालने की नौबत आ गई। ऐसे में दोनों परिवारों ने ऑनलाइन निकाह करने का फैसला किया। ऑनलाइन निकाह के दौरान दूल्हा-दुल्हन सज-संवरकर लैपटॉप के सामने बैठे। पटना में दुल्हन के घर में मौजूद काजी ने दोनों का निकाह कराया। दूल्हे-दुल्हन ने एक-दूसरे को देखा और निकाह कबूल किया।

कोरोना: आसाराम सहित अन्य कैदी भूख हड़ताल पर, रिहाई की मांग

  • जोधपुर सेंट्रल जेल में है बंद संक्रमण की जता रहे आशंका

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
जयपुर। जोधपुर सेंट्रल जेल में बंद आसाराम और राजस्थान सरकार के पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा सहित अन्य कैदियों ने भूख हड़ताल शुरू की है। आसराम और अन्य बंदी जेल में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने की आशंका जताते हुए रिहाई की मांग कर रहे हैं। कैदियों ने जेल प्रशासन को प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, सुप्रीम कोर्ट और राजस्थान हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के नाम अपनी मांगों का ज्ञापन सौंपा है। जानकारी के अनुसार जोधपुर सेंट्रल जेल में इस समय सजायाफ्ता और ट्रायल वाले 1375 कैदी मौजूद हैं।
कोरोना वायरस के संक्रमण और महामारी को देखते हुए सभी कैदियों ने भूख हड़ताल कर दी। सुबह सेंट्रल जेल में खाना बनाया गया, लेकिन किसी भी कैदी ने खाना नहीं खाया हैं। कैदी खुद को छोडऩे ने की मांग कर रहे हंै । उधर जेल प्रशासन ने ऐसे कैदियों की सूची तैयार की है, जिन्हें पैरोल पर छोड़ा जा सकता है । यह सूची राज्य सरकार के पास भेजी जाएगी। उसके बाद राज्य सरकार तय करेगी कौन से कैदी को पैरोल पर भेजना है या किसकी सजा माफ करके छोड़ा जाना है। राजस्थान के भीलवाड़ा और झुंझुनूं में फिलहाल कफ्र्यू जारी रहेगा। भीलवाड़ा में अब तक 13 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। वहीं संदिग्धों की संख्या भी अधिक है।

https://www.youtube.com/watch?v=8oSIkqvlKAA

Loading...
Pin It