दिहाड़ी मजदूरों के खातों में जल्द भेजे जाएं रुपये: सीएम योगी

  • मुख्यमंत्री ने राशन वितरित करने के भी दिए आदेश
  • कमांड सेंटर को जोड़ा जाएगा सीएम हेल्प लाइन से
  • जमाखोरी और कालाबाजारी रोकने के निर्देश

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कोरोना वायरस को थर्ड स्टेज में पहुंचने से रोकने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश के 16 जिलों को लॉकडाउन कर दिया है। इसी कड़ी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जल्द से जल्द दिहाड़ी मजदूरों के खातों में डीबीटी के माध्यम से एक साथ 1000 रुपये की सहायता राशि भेजें। ठेला-खोमचा, रेहड़ी वालों के साथ ही रिक्शा और ई-रिक्शा वालों को भी इससे जोड़ते जाए और उनके अकाउंट में भी सहायता राशि भेजी जाए। यही नहीं अतिरिक्त खाद्यान्न की व्यवस्था कर इन सभी को राशन भी वितरित किया जाए।
अपने सरकारी आवास पर लॉकडाउन जनपदों की समीक्षा बैठक में सीएम ने कहा कि समाज कल्याण विभाग दिव्यांगजन, विधवा और निराश्रित महिलाओं को पेंशन अधिकारी इसी माह भेज दें। इन सभी को भेजी जाने वाली अगली किश्त 8-9 अप्रैल तक चली जाए। मुख्यमंत्री ने कोरोना को लेकर स्वास्थ्य विभाग की तरफ से बनाए गए कमांड सेटंर को इंटीग्रेटेड करते हुए उसे सीएम हेल्प लाइन, 108, और 112 से जोडऩे के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में किसी भी प्रकार की आपदा से निपटने के लिए एक इंटीग्रेटेड कमांड सेंटर स्थापित करें, जिससे किसी भी आपदा के आने पर समय पर रिस्पांस किया जा सके। मुख्यमंत्री ने कहा जिन शहरों को लॉकडाउन किया गया है वहां सप्लाई चेन को व्यवस्थित करें। लोगों को कोई दिक्कत न हो इसके लिए मंडी परिषद फलों और सब्जी बेचने वालों को चिन्हित कर मोहल्लों और कॉलोनियों में भेजें। इसके साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि लोगों की भीड़ न लगे। ज्यादा दाम पर बिक्री न की जाए और लोग जमाखोरी न करने पाएं। इसी तरह से दूध की भी आपूर्ति की जाए। सीएम योगी ने कहा कि प्रदेश के किसी भी जनपद में बिजली और पानी की व्यवस्था में भी कोई दिक्कत नहीं आनी चाहिए।

पीआरवी लोगों तक पहुंचाएगी जरूरी सामान

लखनऊ। लॉकडाउन या कफ्र्यू जैसे हालात के दौरान यूपी 112 की पीआरवी लोगों तक जरूरी सामान भी पहुंचाएगी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस बात की घोषणा की है कि यूपी 112 की पीआरवी लोगों की सुरक्षा के साथ ही आपात स्थिति में मदद भी करेंगी। अगर कोई कहीं फंसा हुआ है और उस तक जरूरी सामान की सप्लाई नहीं हो पा रही है तो वह यूपी 112 से मदद मांग सकता है। सीएम ने कोरोना संक्रमित संदिग्धों के बारे में भी सूचना देने की अपील की है। मुख्यमंत्री ने 112 के निर्बाध संचालन के लिए 32.5 करोड़ रुपये तुरंत स्वीकृत कर कहा कि धन की कोई कमी नहीं होने देंगे।

 

लॉकडाउन के दौरान दावत-ए-वलीमा पड़ा महंगा, 32 लोगों के खिलाफ एफआईआर

  • दुल्हन के पिता पर भी दर्ज हुआ मुकदमा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
पीलीभीत। कोरोना वायरस के संक्रमण की चेन को रोकने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन को सख्ती से पालन करने के लिए कहा गया है। बावजूद इसके कुछ लोग इसकी अनदेखी कर रहे हैं। लिहाजा अब पुलिस प्रशासन भी सख्त नजर आ रहा है। इसी क्रम में पीलीभीत के गजरौला थाना क्षेत्र में 32 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। दरअसल, लॉकडाउन के बावजूद ये लोग दावत-ए-वलीमा में शिरकत कर रहे थे। दुल्हन के पिता पर भी एफआईआर दर्ज हुई है।
कोरोना वायरस का मरीज मिलने के बाद जिले में पूरी तरह से लॉकडाउन का आदेश है। इसके बावजूद गजरौला कसबे में दावत-ए-वलीमा का आयोजन किया जा रहा था, जिसकी सूचना मिलने के बाद गजरौला थाने में धारा 188 के तहत 32 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। गौरतलब है कि किसी भी तरह के अनुष्ठान, आयोजन व शादी समारोह में भीड़ इकट्ठा करने पर रोक लगी है।

https://www.youtube.com/watch?v=eYhy5rJZ8DM

Loading...
Pin It