भारत-नेपाल सीमा एक सप्ताह के लिए पूरी तरह सील

  • दोनों देशों के अफसरों ने बैठक में लिया फैसला

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
गोरखपुर। विदेशियों के लिए 15 मार्च से सील हुई भारत-नेपाल सीमा को अब पूरी तरह से सील कर दिया गया है। कोरोना वायरस के कारण बीते 15 मार्च को भारत और नेपाल ने अपनी-अपनी सीमा को सील कर दिया था लेकिन नेपाल ने भारतीय और भारत ने नेपाल और भूटान के लोगों को इससे मुक्त रखा था। लेकिन इस बीच कोरोना वायरस के कारण स्थिति गंभीर होने के बाद सोमवार को दोनों देश के अधिकारियों की बैठक के बाद सीमा पूरी तरह से सील कर दी गई। नेपाल ने चीन की तरफ से आने वाले मार्गों को भी पूरी तरह से बंद कर दिया है।
कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इससे बचाव के लिए भारत-नेपाल के जनपद स्तरीय अधिकारियों की समन्वय बैठक सोमवार को सिद्धार्थनगर जिले के एसएसबी 43वीं वाहिनी के चौकी ककरहवा के परिसर में हुई। बैठक में दोनों देशों के अधिकारियों ने निर्णय लिया कि सीमाई क्षेत्र में कोरोना से जंग एक साथ मिलकर लड़ा जाएगा। सीमाई क्षेत्र में एसएसबी और एपीएफ के जवान मिलकर पेट्रोलिंग करेंगे और लोगों को कोरोना से बचाव हेतु साफ सफाई पर भी जागरूक करेंगे। नेपाल सीमा क्षेत्र के जनपद रूपनदेही में एक कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद यह कदम उठाए गया है। नेपाल से सटे भारत के सिद्धार्थनगर जनपद के ककरहवा, अलीगढ़वा, धनगढ़वा, बजहा आदि शहरों को लॉकडाउन कर दिया गया है। इन जगहों पर सिर्फ जरूरत की चीजों वाली दुकानें जैसे राशन, दवाई, सब्जी, दूध की दुकानों को खोलने की लिए छूट दी गई है। दोनों देशों के अधिकारियों ने इस बात पर भी जोर दिया है कि किसी भी वस्तु की कालाबाजारी नहीं होने पाएगी। इसकी पूरी निगरानी की जा रही है। कालाबाजारी की शिकायत मिलने पर प्रशासन द्वारा सख्त कार्यवाही की जाएगी।

https://www.youtube.com/watch?v=ukNKx24hMIQ

Loading...
Pin It