युवक की गोली मारकर हत्या, खेत में मिला शव

  • नहीं हुई शिनाख्त, जांच-पड़ताल में जुटी पुलिस

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
हमीरपुर। भरुआ सुमेरपुर कस्बे के रेलवे स्टेशन के पास युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई। उसका शव नलकूप के पास खेत में पड़ा मिलने से सनसनी फैल गई। अभी युवक की पहचान नहीं होने से हत्या की वजह स्पष्ट नहीं हो सकी है। पुलिस ने नलकूप मालिक को हिरासत में लेकर छानबीन शुरू की है। नलकूप पर रोजाना कई लोगों के एकत्र होने की बात सामने आ रही है।
थानाक्षेत्र के मुंडेरा गांव के मूल निवासी रणविजय सिंह ने पुलिस महकमे से वीआरएस लेने के बाद भरुआ सुमेरपुर बस स्टाप के पास आवास बनाकर रहने लगे और रेलवे स्टेशन से पांच सौ मीटर की दूरी पर डेढ़ बीघे खेत पर नलकूप लगवाकर आवास बनवा दिया था। नलकूप के आवास पर श्याम कुंवर को देखरेख के लिए रख दिया था। इस नलकूप पर युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई और शव को गेहूं के खेत में फेंक दिया गया। रविवार सुबह नलकूप पर पहुंचे रणविजय ने खेत पर शव पड़ा होने की जानकारी पुलिस को दी। थानाध्यक्ष श्रीप्रकाश यादव के निर्देश पर तत्काल पुलिस बल लेकर चौकी इंचार्ज सतीश कुमार पहुंच गए। पुलिस को मौके से 315 बोर का एक खोखा एवं एक कारतूस गड्ढे में पड़ा मिला। युवक के मुंह तथा सीने में गोली लगने के निशान मिले। युवक के बाल और दाढ़ी बढ़ी हुई थी और काले रंग का लोवर, धारीदार हॉफ स्वेटर तथा फुल आस्तीन की टी-शर्ट पहन रखी थी। मृतक की जेब से पुलिस को कुछ नहीं मिला। उसकी उम्र 30 से 35 वर्ष के बीच प्रतीत हो रही है।

अलीगढ़ में लिच्छवी एक्सप्रेस को किया गया सेनेटाइज

  • ओमान से लौटे दो लोग कर रहे थे यात्रा, आईसोलेशन वार्ड में भर्ती

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
अलीगढ़। विदेश से लौटे दो यात्रियों के दिल्ली बाया अलीगढ़ के रास्ते सीतामढ़ी जा रही लिच्छवी एक्सप्रेस में सफर करने से खलबली मच गई। कोरोना वायरस के शक में यात्रियों की शिकायत पर दोनों को अलीगढ़ स्टेशन पर उतार लिया गया। करीब 20 मिनट तक ट्रेन को सेनेटाइज करने के बाद ही रवाना किया गया। दोनों यात्री जांच के लिए दीनदयाल अस्पताल के आईसोलेशन वार्ड में भर्ती किए गए हैं।
लिच्छवी एक्सप्रेस के कोच संख्या बी-टू में सीट संख्या 63 व 64 पर 34 व 44 वर्षीय यात्री दिल्ली से मऊ तक के लिए सवार हुए। दोनों ओमान की राजधानी मस्कट से लौटे थे। यह जानकारी कोच में सवार यात्रियों को उनके हाथ पर एयरपोर्ट की लगी मुहर देखकर हुई। पूछताछ में टालमटोल करने पर यात्रियों का शक और गहरा गया। कोरोना का शक होने पर यात्रियों ने उनकी जानकारी रेलवे के कंट्रोल रूम नंबर 138 व ट्वीट करके नंबर पर दी। इससे रेलवे अफसरों में खलबली मच गई। डीएम को भी सूचित किया गया। कोच से दोनों को नीचे उतार कर दीनदयाल लाया गया। ट्रेन के साथ ही कोच संख्या बी-टू में सवार सभी 64 यात्रियों को नीचे उतारकर उन्हें सेनेटाइज किया गया। तब ट्रेन करीब आठ बजे कानपुर की ओर रवाना हो गई। दीनदयाल अस्पताल के सीएमएस डॉ. वीके गुप्ता ने बताया कि दोनों यात्रियों के नमूने लेकर मेडिकल कॉलेज भेजे गए हैं।

https://www.youtube.com/watch?v=3s3i8pIMikc

Loading...
Pin It