एलडीए में जुगाड़ तंत्र के दम पर बड़े-बड़े कारनामों को अंजाम देने वाले जितेन्द्र पाल सिंह से नहीं छूट रहा गोमतीनगर विस्तार का मोह

  • सेक्टर-6 में शहीद पथ के पास रिटेनिंग वाल के निर्माण के लिए फर्जी आगणन तैयार कर अफसरों को गुमराह करने की कर चुके हैं कोशिश

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लखनऊ विकास प्राधिकरण में तैनाती के दौरान बड़े-बड़े कारनामों को अंजाम देने वाले अवर अभिंयता जितेन्द्र्र पाल सिंह (जे.पी सिंह) के जुगाड़तंत्र के आगे प्राधिकरण के तेज तर्रार अफसर भी फेल नजर आ रहे हैं। यही कारण है कि जितेन्द्र पाल सिंह पिछले कई सालों से जोन-एक में तैनात हैं। जबकि उक्त क्षेत्र में तैनाती के दौरान जितेन्द्र पाल सिंह के बड़े-बड़े कारनामे उजागर हो चुके हैं।
वर्ष 2016 में सेक्टर-6 में शहीद पथ के पास रिटेनिंग वाल के निर्माण के लिए 61 लाख से अधिक का फर्जी आगणन तैयार कर जितेन्द्र पाल सिंह ने अफसरों को गुमराह करने की कोशिश की। मामले की शिकायत आला अफसरों तक पहुंची तो उन्होंने जांच के आदेश दिये। जांच में पता चला कि जितेन्द्र पाल सिंह ने यह कारनामा अपने चहेते ठेकेदार को फायदा पहुंचाने के लिए किया। इस कारनामे से नाराज जितेन्द्र को तत्कालीन उपाध्यक्ष अनूप यादव ने प्रतिकूल प्रविष्टि दे दी और यह निर्देश दिए कि ऐसे अभियंताओं को महत्वपूर्ण कार्य न सौंपे। इसके आलावा गोमतीनगर विस्तार के सौंपे गए कार्यो में लापरवाही, जलभराव, अफसरों के आदेशों की अवहेलना करने पर तत्कालीन उपाध्यक्ष अनूप यादव ने जितेन्द्र पाल के निलंबन की संस्तुति शासन से की थी। लेकिन इस बीच उपाध्यक्ष का तबादला हो गया और मामले को दबा दिया गया।
सूत्र बताते हैं कि शासन में जुगाड़ तंत्र के चलते आज तक जितेन्द्र पाल सिंह के खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं हो सकी है। यही कारण है कि जितेन्द्र प्राधिकरण से लेकर फील्ड में दबंगई के लिए मशहूर हो चुके हैं। गोमतीनगर विस्तार के लोगों का कहना है कि मौजूदा समय में जितेन्द्र पाल क्षेत्र में कई अवैध कार्यों में भी संलिप्त हैं। ऐसे में जितेन्द्र पाल सिंह को एक ही जोन में तैनाती देना एलडीए की कार्यप्रणाली पर भी सवालिया निशान लगा रहा है।

आज ईकाना में बीआईपीएल का होगा आगाज

  • दो मैचों की समाप्ति के बाद मनोरंजक शो का भी होगा आयोजन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी के अटल बिहारी वाजपेयी ईकाना अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में आज से भोजपुरी इंडस्ट्री प्रीमियर लीग (बीआईपीएल) का आगाज हो जायेगा। इस लीग मैच में शामिल हो रही सभी टीमें अपने खिलाडिय़ों के साथ लखनऊ पहुंच चुकी हैं। बीआईपीएल को लेकर लोगों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है।
ईकाना स्टेडियम में खेले जा रहे बीआईपीएल के चौथे संस्करण में कुल चार टीमें हिस्सा ले रही हैं, जिनके नाम भोजपुरी सुल्तान, भोजपुरी योद्घा, भोजपुरी टाइगर, भोजपुरी जवान हैं। हर टीम में 15-15 प्लेयर होते हैं। एक टीम को एक करोड़ प्वाइंट्स देते हैं। इस बार सबसे अधिक कीमत खिलाड़ी प्रदीप यादव की लगाई गई, उन्हें 27 लाख प्वाइंट मिले हैं। इसके बाद स्टार खिलाड़ी 20 लाख और 25 लाख प्वाइंट देकर टीमों ने खरीदे हैं। इस लीग मैच को पूरी तरह से मनोरंजक शो बनाया गया है। रोज दो मैच के बाद एक मनोरंजक शो रखा गया है, जिससे कि जनता मैच के साथ शो का भी आनंद ले सके।

पीएम मोदी के मिलेंगे राम मंदिर ट्रस्ट के सदस्य

  • योगी सरकार का कार्यकाल खत्म होने तक मंदिर निर्माण पूरा करने की तैयारी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की कवायद शुरू हो गई है। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सभी सदस्य आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे। ये सभी लोग प्रधानमंत्री के सरकारी आवास लोक कल्याण मार्ग पर शाम 5.30 बजे मिलेंगे। फिलहाल ट्रस्ट की पहली बैठक में महंत नृत्य गोपालदास को ट्रस्ट का अध्यक्ष और चंपत राय को महासचिव बनाया गया है।
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने कहा कि मंदिर एक-दो महीने में बनना शुरू हो जाएगा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यकाल में ही बनकर तैयार हो जाएगा।

चुनाव में दूसरे शहर से ही अपने क्षेत्र के लिए जल्द कर सकेंगे मतदान

  • आधार कार्ड को वोटर कार्ड से लिंकअप की तैयारी में जुटी सरकार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। निर्वाचन आयोग ने चुनाव के दौरान वोटिंग प्रतिशत बढ़ाने को लेकर तैयारियां तेज कर दी हैं। इसी क्रम में आधार कार्ड को वोटर कार्ड से जोडऩे की कवायद शुरू हो गई है। यह काम पूरा होने के बाद आप दूसरे शहर में रहकर भी अपने क्षेत्र में मतदान कर सकेंगे। हालांकि इसके लिए जरूरी कानून में बदलाव को कैबिनेट से मंजूरी मिलने का इंतजार है।
सरकार आधार कार्ड को वोटर कार्ड से लिंक करने की तैयारी में है। इन दोनों को लिंक करने के लिए तकनीकी सुरक्षा पर पूरा फोकस किया जाएगा। लेकिन इसके लिए आधार के सर्वर से चुनाव आयोग का सर्वर लिंक नहीं होगा। सिर्फ आधार के आंकड़े का इस्तेमाल होगा। एक से ज्यादा मतदाता पहचान पत्र होने पर मतदाता से पूछताछ की जाएगी। मतदाता से पूछने के बाद ही बाकी पहचान पत्र रद्द किए जाएंगे। आधार नहीं होने पर भी मतदाता पहचान पत्र वैध होगा। दूसरे क्षेत्र में रहकर भी अपने क्षेत्र का मतदान करने के लिए, चुनाव से पहले आयोग को सूचना देनी होगी। चुनाव आयोग आपके शहर में मतदान का स्थान निर्धारित करेगा। बता दें कि इस सॉफ्टवेर को आईआईटी चेन्नई तैयार कर रहा है, जिसमें ब्लॉक चेन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जा रहा है। फिलहाल तो वोटर आईडी कार्ड को आधार कार्ड से जोडऩे के चुनाव आयोग के प्रस्ताव पर कानून मंत्रालय ने भी सहमति जता दी है। इस काम के लिए सरकार चुनाव आयोग को कानूनी शक्ति देगी। वोटर आईडी को आधार से लिंक करने पर फर्जी और डुप्लिकेट वोटरों को हटाया जा सकेगा। साथ ही प्रवासी मतदाताओं को रिमोट वोटिंग अधिकार देने में आसानी होगी।

https://www.youtube.com/watch?v=hxE5mCHGRqo

Loading...
Pin It