विश्वास पर टिकी है भारत-नेपाल की साझी विरासत : सीएम योगी

  • मुख्यमंत्री ने द्वितीय भारत-नेपाल द्विपक्षीय वार्ता को किया संबोधित
  • कहा, नेपाल को अपने शत्रु और मित्र की करनी होगी पहचान

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। भारत-नेपाल के सांस्कृतिक और आध्यात्मिक संबंध को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने साझी विरासत बताया है। उन्होंने कहा कि इसमें राजनीति बाधक नहीं होनी चाहिए। सीएम कालिदास मार्ग स्थित अपने सरकारी आवास पर आयोजित द्वितीय भारत-नेपाल द्विपक्षीय वार्ता को संबोधित कर रहे थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि दोनों देशों के लिए यह बेहतरीन पहल है। भारत-नेपाल प्राचीन काल से दो शरीर हैं, लेकिन हमारी सांस्कृतिक विरासत एक-दूसरे को एकात्म में जोड़ती है। दोनों देशों का एक-दूसरे से हित जुड़ा है। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना में नेपाल के लोग एक सामान्य सिपाही से लेकर उच्च पदों पर हैं। ये भारत का विश्वास है। इसी विश्वास पर साझी विरासत टिकी है। उन्होंने कहा कि नेपाल टूरिज्म का सबसे बड़ा हब बन सकता है। पीएम नरेंद्र मोदी ने काशी विश्वनाथ से पशुपतिनाथ जी को जोड़ा है। जनकपुरी से अयोध्या को जोड़ा गया। वाराणसी अगर स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित हो रहा है तो काठमांडू क्यों पीछे रहे? मुख्यमंत्री ने कहा कि नेपाल को पहचानना होगा कि उसका शत्रु कौन है और मित्र कौन है? सुझाव दिया कि काशी विश्वनाथ मंदिर की तरह नेपाल अपने मंदिरों और सांस्कृतिक धरोहर को रोजगार से जोड़ सकता है। वहीं भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने कहा कि भारत और नेपाल बहुत पुराने पड़ोसी हैं। भारत चाहता है कि दोनों देश एक साथ आगे बढ़ें। हमारे दो सिद्धांत हैं। पहला, पड़ोसी प्रथम और दूसरा, हम साथ में आगे बढ़ें। भारत तेजी से प्रगति कर रहा है। हम चाहते हैं कि इसका फायदा हमारे पड़ोसी देशों को भी मिले। वहीं, नेपाल कांग्रेस के महासचिव डॉ. शशांक कोइराला ने कहा कि स्पिरिचुअल टूरिज्म को लेकर नेपाल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से खासा प्रभावित है। इस अवसर पर दोनों देशों के प्रतिनिधि भी मौजूद थे।

युवा सिविल इंजीनियरों को दें ठेके: केशव

  • काम में लापरवाही पर होगी कड़ी कार्रवाई

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। पीडब्ल्यूडी विभाग के तथागत सभागार में अधिकारियों के साथ बैठक में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने युवा सिविल इंजीनियरों को 10 लाख रुपये तक के ठेके देने की कार्यवाही सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। ठेकों में पिछड़े व सामान्य वर्ग के गरीबों और एससीएसटी के लोगों को आरक्षण देने का प्रावधान जल्द से जल्द लागू करने को कहा।
उप मुख्यमंत्री ने कहा कि नई सडक़ों के निर्माण के साथ ही पुरानी जर्जर सडक़ों की मरम्मत को भी प्राथमिकता के आधार पर कराया जाए। उन्होंने कहा कि जांच के नाम पर सडक़ों का निर्माण कार्य न रोका जाए। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि बजट का सौ फीसदी उपयोग समय से करें। काम में शिथिलता बरतने वाले इंजीनियरों को दंडित किया जाए। साथ ही उन्होंने कॉलेजों, अस्पतालों, सार्वजनिक स्थलों और मंडियों तक सडक़ें बनाने के निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिए।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.