यूपी में सियासी जमीन को मजबूत करने में जुटी कांग्रेस, मिशन 2022 पर नजर

  • रायबरेली में सोनिया और प्रियंका ने पदाधिकारियों को दिए सफलता के टिप्स
  • कार्यकर्ताओं से जनता के बीच जाने के निर्देश, प्रदेश सरकार को घेरने की बनाई रणनीति

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कांग्रेस उत्तर प्रदेश में अपने खोए जनाधार को पाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है। उसकी नजर 2022 में होने वाले विधान सभा चुनाव पर है। देश के कई राज्यों में सत्ता में वापसी करने के बाद कांग्रेस नेताओं के हौसले बुलंद हैं। प्रदेश में सियासी जमीन को हमसार करने के लिए कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी व महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने रायबरेली में पिछले दिनों डेरा डाला और पदाधिकारियों को सियासत में सफलता पाने के कई टिप्स दिए। इसके अलावा कार्यकर्ताओं से जनता के बीच सक्रिय होने को भी कहा गया है। कांग्रेस की रणनीति विभिन्न मुद्दों पर भाजपा की योगी सरकार को घेरने की है।
सीएए और एनआरसी को लेकर देश भर में चल रहे प्रदर्शनों के बीच कांग्रेस उत्तर प्रदेश में फिर से अपने पांव जमाने की कोशिश कर रही है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी लगातार उत्तर प्रदेश के दौरे कर रही हैं। पिछले दिनों कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र में अपनी मां सोनिया के साथ दौरे पर पहुंची प्रियंका गांधी ने कांग्रेस की आगामी रणनीति बनायी। सोनिया व प्रियंका अपने कार्यकर्ताओं को सियासी टिप्स दिए। इस दौरान पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 125 पार्टी जिलाध्यक्ष व शहर अध्यक्ष प्रशिक्षण में शामिल हुए। प्रियंका गांधी की बैठक में शामिल हुए रायबरेली के नेता कमलाकर वर्मा का कहना हैं कि प्रियंका ने पार्टी में युवा शक्ति पर सबसे अधिक चर्चा की है। कांग्रेसियों ने भी डिमांड रखी है कि पार्टी के हर फ्रंट की जिम्मेदारी अब युवा हाथों में दी जाए। फरवरी से रायबरेली कांग्रेस के नेता पदयात्रा करके संगठन को मजबूत करने के लिए गांव-गांव और गली-गली घूमेंगे। उन्होंने बताया कि कई योजनाएं बनाई गई हैं। उस पर लखनऊ में अगले सप्ताह होने वाली बैठक में चर्चा होगी। प्रियंका ने सभी को निर्देशित किया है कि कार्यकर्ता लोगों के बीच स्थानीय मुद्दे उठाएं।

राफेल और जीडीपी को किया नजरअंदाज

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को निर्देशित किया है कि अब स्थानीय स्तर पर जीडीपी और राफेल का मुद्दा उठाने का समय नहीं है बल्कि पब्लिक को एक्टिव करने की जरूरत है। इसके लिए गांव के बाजार से लेकर ब्लाक और शहर स्तर तक महंगाई, बेरोजगारी, गोवंश से फसलों का हो रहा नुकसान इन बेसिक मुद्दों को लोगों के बीच उठाएं।

किसानों को लेकर आंदोलन की तैयारी

सोनिया और प्रियंका गांधी ने इस बैठक में एक ओर जहां उत्तर प्रदेश के राजनीतिक परिस्थितियों पर न सिर्फ गहन चिंतन और मंथन किया, बल्कि कांग्रेस के संगठन को बूथ स्तर तक मजबूत बनाने की रणनीति के साथ ही अब किसानों के मुद्दों को लेकर योगी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोले जाने का ऐलान कर दिया है। किसानों की समस्याओं को लेकर सरकार के खिलाफ सडक़ से लेकर सदन तक और ब्लाक से लेकर राजधानी तक प्रर्दशन किए जाने की रूपरेखा भी तय कर दी गई है।

 

Loading...
Pin It