राष्ट्र निर्माण में शिक्षकों की भूमिका महत्वपूर्ण: बंधु

  • कहा, पुरानी पेंशन शिक्षकों व कर्मचारियों का अधिकार

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अटेवा पेंशन बचाओ मंच ने राष्ट्र निर्माण में शिक्षकों की भूमिका को अहम माना है। इस संगठन के अध्यक्ष विजय कुमार बंधु ने राष्ट्र निर्माण में शिक्षकों व कर्मचारियों की भूमिका एवं सामाजिक सुरक्षा विषय पर 30 जनवरी को आयोजित होने वाली संगोष्ठी के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पुरानी पेंशन शिक्षकों व कर्मचारियों का अधिकार है, क्योंकि पुरानी पेंशन ही बुढ़ापे का सहारा है। शिक्षक कर्मचारी अपने जीवन के कई वर्ष सरकारी सेवा में गुजारता है और राष्ट्र निर्माण में भी महत्वपूर्ण योगदान देता है। रिटायरमेंट के बाद उसकी पेंशन ही सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित करती है। इसलिए शिक्षको व कर्मचारियों को पुरानी नियमावली से पेंशन मिलनी चाहिए।
अटेवा पेंशन बचाओ मंच उत्तर प्रदेश के प्रदेश मंत्री डॉ. रमेश चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि संगोष्ठी की तैयारियों के लिए आयोजित बैठक में पीडब्ल्यूडी सर्किल ऑफिसेज मिनिस्ट्रियल एसोसिएशन , सिंचाई विभाग, उप्र. ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ,लुआकटा, राम मनोहर लोहिया नर्सेज संघ,नगर निगम कर्मचारी संघ, केजीएमयू, लेखपाल संघ, डिप्लोमा फार्मासिस्ट संघ समेत कई अन्य कर्मचारी संगठनों के पदाधिकारियों ने भाग लिया। इस आयोजन को सफल बनाने के लिए सभी पदाधिकारियों को अलग-अलग जिम्मेदारियां दी गईं। इस बैठक में प्रमुख रुप से डॉ. नीरजपति त्रिपाठी, डॉ. राजेश यादव,श्रवण सचान, रजत यादव, अनूप त्रिपाठी, राकेश कुमर,अनिरुद्ध सिंह, प्रमोद पाठक आदि मौजूद रहे।

16 जनपदों के अधिकारी पंचायतीराज निदेशालय तलब

  • डिजिटल सिग्नेचर जुटाने में आ रही समस्या

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश की 14 हजार ग्राम पंचायतें अब तक फाइनेंशियल मैनेजमेंट सिस्टम (पीएफएमएस) से नहीं जुड़ी हैं। निदेशक पंचायतीराज विभाग किंजल सिंह ने संबंधित जिलों की टीमों को निदेशालय तलब किया है। उप निदेशक आरएस चौधरी ने बताया कि डिजिटल सिग्नेचर जुटाने में 16 जिलों की हालत खराब है। इन जिलों के डीपीआरओ से स्पष्टीकरण तलब करने के साथ ही कार्य कर रही टीमों को निदेशालय तलब किया गया है। उन्होंने बताया कि जिन ग्राम पंचायतों में 25 जनवरी तक डिजिटल सिग्नेचर नहीं जुटाए जाएंगे, उन पंचायतों के प्रधानों से लेकर ग्राम पंचायत अधिकारी और सचिवों के खिलाफ कार्रवाई होगी। निदेशक पंचायतीराज विभाग ने जौनपुर, आजमगढ़, लखीमपुर-खीरी, सीतापुर, सुलतानपुर, देवरिया, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, बहराइच, शाहजहांपुर, गोंडा, बाराबंकी, अम्बेडकरनगर, अयोध्या, मथुरा और अमेठी जिले में डिजिटल सिग्नेचर जुटा रही टीमों को निदेशालय आकर ही कार्य पूरा करने का निर्देश दिया गया है।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.