अब बदला-बदला दिखेगा नजारा महाभारतकालीन लाक्षागृह का कायाकल्प शुरू

  • गंगा यात्रा के बहाने हो रहा जीर्णोद्वार, सुंदरीकरण का काम भी शुरू

गीताश्री
प्रयागराज। महाभारत कालीन लाक्षागृह अब बदला-बदला नजर आएगा। गंगा यात्रा के बहाने लाक्षागृह का भी कायाकल्प होने लगा है। इसके लिए जिले का सरकारी अमला जुट गया है। पर्यटन विभाग यहां भव्य तोरण द्वार बनवा रहा है। वहीं लाक्षागृह किला कोट के सुंदरीकरण का कार्य भी शुरू हो गया है। यह शहर से करीब 45 किमी दूर हंडिया तहसील में स्थित है। माना जाता है कि अज्ञातवास के दौरान यहां कौरवों ने पांडवों को जलाकर मारने का प्रयास किया था इसलिए धार्मिक और ऐतिहासिक दृष्टि से इसका अधिक महत्व है। अभी तक इसके रखरखाव की ओर शासन और प्रशासन का ध्यान नहीं जा रहा था।
प्रदेश सरकार की ओर से 27 जनवरी को गंगा यात्रा बलिया से शुरू होगी। प्रयागराज में यह यात्रा 29 जनवरी को दोपहर बाद पहुंचेगी। यहां पर लाक्षागृह में मुख्य कार्यक्रम होगा। जनसभा भी होगी। यात्रा का नेतृत्व प्रदेश के जल शक्ति मंत्रालय के मंत्री डॉ. महेंद्र सिंह करेंगे। जिले में यात्रा जल नहीं बल्कि थल मार्ग से आएगी और इसी मार्ग से कौशांबी के कड़ा के लिए रवाना होगी। यात्रा को लेकर लाक्षागृह में युद्धस्तर पर तैयारियां शुरू कराई गईं हैैं। इसमें जिला प्रशासन के साथ ही पर्यटन विभाग, लोक निर्माण विभाग, विद्युत विभाग, ग्राम्य विकास विभाग, मनरेगा को लगाया गया है। पीडब्ल्यूडी के अधिशासी अभियंता सुनील कुमार कठेरिया ने बताया कि हंडिया से लाक्षागृह तक की सडक़ की मरम्मत कराई जा रही है। प्रधानमंत्री ग्रामीण सडक़ योजना का भी काम चल रहा है। विद्युत विभाग के अधिशासी अभियंता सतीश कुमार मौर्य ने बताया कि उनका विभाग सडक़ों के किनारे स्थित पोलों को शिफ्ट कराने के साथ ही ढीले तारों को दुरुस्त करा रहा है। इसके अलावा लाक्षागृह घाट तक एरियल बंच कंडक्टर (एबीसी) लगाया जा रहा है।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.