हर जिले में केंद्र और प्रदेश सरकार के मंत्री करेंगे विश्राम: सीएम योगी

  • सीएम ने प्रस्तावित गंगा यात्रा की तैयारियां परखी
  • कहा आस्था संग गंगा की आर्थिक अहमियत भी बताएं

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंत्रियों और अफसरों के साथ बैठक कर 27 से 31 जनवरी तक प्रस्तावित गंगा यात्रा के तैयारियों की समीक्षा की। केंद्र और प्रदेश सरकार के मंत्रियों को गांवों में रात्रि विश्राम करने की सलाह दी। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों से कहा कि लोगों को आस्था के साथ गंगा की आर्थिक अहमियत भी समझाएं। गंगा के किनारे के गांवों में जीरो बजट व जैविक खेती को बढ़ावा दें। खेती के बारे में हर दो ग्राम पंचायतों के बीच एक प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करें। प्रशिक्षण के लिए विषय विशेषज्ञों को आमंत्रित करें।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रभारी मंत्री अभी से अपने-अपने जिलों में जाकर यात्रा के रूट का दौरा कर लें। साथ ही प्रशासन और स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ बैठकर तैयारियों को अंतिम रूप दे दें। जिस जिले से यात्रा गुजरे उसके हर तटवर्ती गांव में उस दिन कोई न कोई कार्यक्रम होना चाहिए। जन जागरूकता के लिए वॉल राइटिंग करवाएं। गंगा के किनारे किसानों को कृषि जलवायु क्षेत्र की अनुकूलता और उनकी पसंद के मुताबिक फलदार पौधे उपलब्ध करवाएं। जो पूरे खेत में पौध लगाना चाहते हैं, उनको तय समय के लिए अनुदान भी दें। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम के दौरान हर जिले में केंद्र और प्रदेश सरकार के मंत्री रहेंगे। रात्रि विश्राम भी होगा और चौपाल भी लगेगी। अलग-अलग गांवों में प्रभारी मंत्री, केंद्रीय मंत्री, सांसद, विधायक, राज्यसभा सदस्य, विधानसभा सदस्य रात्रि विश्राम करेंगे। योगी ने गंगा यात्रा के लिए थीम सांग तैयार करने का भी निर्देश दिया। योगी ने कहा कि वाराणसी से हल्दिया तक के जलमार्ग के जरिए बांग्लादेश और दक्षिण पूर्वी एशिया के देशों में किन-किन चीजों का निर्यात हो सकता है, इसकी संभावनाएं तलाशें। इस बैठक में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और डॉ. दिनेश शर्मा सहित अन्य मंत्री व अधिकारी मौजूद थे।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.