डीजीपी को अपने आईजी से खतरा!

  • अमिताभ ठाकुर ने डीजीपी कार्यालय से मांगी थी अपनी सेवा संबंधी जानकारी
  • गलत सूचना देने पर उत्तर प्रदेश सूचना आयोग से आईपीएस अमिताभ ने की थी शिकायत
  • जान-माल की सुरक्षा का हवाला देते हुए अधिकारियों की पहचान को छुपाया

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस में सब-कुछ ठीक नहीं चल रहा है। हालत यह है कि अब खुद डीजीपी को अपने ही आईजी से जान का खतरा बताया जाने लगा है। इसका जिक्र खुद डीजीपी कार्यालय द्वारा आरटीआई के तहत जारी अभिलेखों में किया गया है। इस खुलासे के बाद पुलिस प्रशासन में हडक़ंप मच गया है।
आईपीएस व आईजी अमिताभ ठाकुर ने अपने सेवा संबंधी मामलों में आरटीआई के तहत डीजीपी कार्यालय से सूचना मांगी थी। इस मामले में डीजीपी कार्यालय ने उन्हें जो नोटशीट दिए, उनमें कई स्थानों पर काली स्याही लगाई गई थी। इस पर अमिताभ ने जानबूझ कर गलत सूचना देने के संबंध में उत्तर प्रदेश सूचना आयोग में शिकायत की तो उसके जवाब में एडीजी कार्मिक एल वी अंटोनी देव कुमार ने बताया कि उन्हें गलत सूचना नहीं दी गयी है, बल्कि मात्र नोटशीट में अधिकारियों के नाम को सुरक्षा हितों के लिए अपठनीय बना दिया गया है। उनका कहना है कि यदि इन अधिकारियों एवं कर्मचारियों के नाम और पहचान अमिताभ को बता दिया जायेगा तो उनका हित विपरीत रूप से प्रभावित किया जा सकता है। अत: उन्होंने आरटीआई एक्ट की धारा 8(1)(जी) में सूचना देने से मना कर दिया है, जिसमे संबंधित व्यक्ति की जान तथा शारीरिक सुरक्षा के मद्देनजर सूचना देने से मना किया जा सकता है। गौरतलब है कि आईपीएस अफसरों के सेवा संबंधी मामलों में एडीजी कार्मिक और डीजीपी जैसे वरिष्ठ अफसर नोट अंकित करते हैं।

नूतन ठाकुर ने एसआईटी प्रमुख को सौंपे महत्वपूर्ण साक्ष्य

लखनऊ(4पीएम न्यूज नेटवर्क)। एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर ने वैभव कृष्ण समेत कई आईपीएस अफसरों व अन्य के संबंध में एसआईटी प्रमुख एचसी अवस्थी, निदेशक, सतर्कता अधिष्ठान को महत्वपूर्ण साक्ष्य सौंपे हैं। डॉ. नूतन ठाकुर ने अपने पत्र में कहा कि उन्होंने इस संबंध में लोकायुक्त से भी शिकायत की है। क्योंकि उन्हें वैभव कृष्ण समेत कई अफसरों के संबंध में अत्यंत गंभीर आरोपों की जानकारी हुई है, जिसे वे प्रस्तुत कर रही हैं। इन अफसरों के संबंध में पूर्व में भी शिकायत की गयी लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। नूतन ने इन अफसरों के साथ ही इनके संबंध में की गयी शिकायतों पर कोई कार्रवाई नहीं करने वाले वरिष्ठ अफसरों के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की है।

बर्फ में फंसी गर्भवती की जान बचाने वाले जवानों को पीएम मोदी का सलाम

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में भारी बर्फबारी के बीच भारतीय सेना के जवानों ने एक अनोखी मिसाल पेश की। सेना के 100 से अधिक जवान एक गर्भवती महिला को अस्पताल ले जाने के लिए चार घंटे तक लगातार बर्फ पर साथ चलते रहे। इसके बाद स्ट्रेचर से उसे अस्पताल पहुंचाया। महिला और उसका नवजात दोनों स्वस्थ हैं। इसकी जानकारी होने पर पीएम नरेंद्र मोदी ने सैनिकों की बहादुरी पर खुशी जाहिर करते हुए उन्हें अपना सलाम भेजा है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर सेना को बधाई दी है। उन्होंने लिखा कि हमारी सेना को उसकी वीरता और प्रोफेशनलिज्म के लिए जाना जाता है और मानवता के लिए भी। जब भी लोगों को जरूरत होती है, हमारी सेना हर संभव चीज करती है। हमारी सेना पर गर्व है। उन्होंने शमीमा और बच्चे के स्वास्थ्य के लिए कामना भी की। बता दें, इंडियन आर्मी के चिनार कॉप्र्स ने भारी बर्फबारी के बीच गर्भवती शमीमा को अस्पताल ले जाने की जरूरत का जिक्र किया। इसके बाद चार घंटे तक 100 से ज्यादा सेना के जवान और 30 आम नागरिक शमीमा के साथ चलकर अस्पताल पहुंचे।

गोरखपुर: सीएम योगी ने गुरु गोरखनाथ को चढ़ाई खिचड़ी

  • देश भर में मनाया जा रहा मकर संक्रांति का त्यौहार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। देश भर में मकर संक्रांति का त्यौहार हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जा रहा है। इस अवसर पर लोगों ने गंगा, सरयू, यमुना समेत अनेकों नदियों में स्नान कर दान-पुण्य किया। घरों में भी लोगों ने स्नान कर भगवान सूर्य को खिचड़ी, तिल, गुड़ व लइया चढ़ाकर पूजा अर्चना की। इसके बाद खिचड़ी का प्रसाद ग्रहण किया। वहीं गोरक्षपीठाधीश्वर सीएम योगी आदित्यनाथ ने शिव अवतारी गुरु गोरखनाथ को परम्परागत तरीके से पुण्यकाल में पहली खिचड़ी चढ़ाई। उसके बाद नेपाल राजवंश की ओर से खिचड़ी चढ़ाई गई। फिर नाथ योगियों, साधु संतों ने खिचड़ी चढ़ा कर पूजा अर्चना की।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज भोर में ही श्रीनाथ मंदिर स्नान ध्यान करके पहुंच गये। उनके साथ प्रधान पुजारी योगी कमलनाथ, देवी पाटन मंदिर के महंत मिथलेशनाथ, शांतिनाथ, महंत पंचानन पुरी, कालीबाड़ी के महंत रविंद्रनाथ, योगी दिनेश नाथ, योगी धर्मेंद्र नाथ, सोमनाथ, बैरागी बाबा, सोमनाथ आदि साधु संत भी मौजूद रहे। योगी आदित्यनाथ ने नाथ संप्रदाय की परम्परा के मुताबिक जमीन पर बैठ कर प्रणाम किया। पूजा अर्चना के बाद गोरक्षपीठ की ओर से खिचड़ी चढ़ाई। उसके बाद त्रेतायुग से प्रज्ज्वलित अखण्ड ज्योति की पूजा कर आशीर्वाद लिया। प्रधान पुजारी योगी कमलनाथ ने नेपाल राजवंश की ओर से खिचड़ी चढ़ाई। उसके बाद एक-एक कर सभी नाथ योगियों ने खिचड़ी चढ़ाई। मंदिर परिसर ढोल, नगाड़ों से गूंज रहा था। श्रद्धालु गुरु गोरखनाथ की जय के नारे लगा रहे थे।

देशवासियों के दिल में सेना के लिए विशेष स्थान: नरवणे

  • 72वें थल सेना दिवस पर कमान मुख्यालय में सैन्य परेड व शक्ति प्रदर्शन

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। देश भर में आज थल सेना अपना 72वां सेना दिवस मना रही है। सेना कमान मुख्यालय के साथ-साथ देश के अन्य हिस्सों में सैन्य परेड और शक्ति प्रदर्शन के अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है। सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे के हवाले से भारतीय सेना ने ट्वीट कर इंडियन आर्मी के सभी सैनिकों को सेना दिवस की शुभकामनाएं दी हैं।
सेना दिवस पर आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे ने कहा कि हमारे देशवासियों के दिल और दिमाग में भारतीय सेना के लिए विशेष स्थान है। सेना में जाति, धर्म और क्षेत्र के ऊपर कभी भेदभाव नहीं किया जाता। मुझे भरोसा है कि आप नाम, नमक और निशान के सिद्धांत का पालन करते हुए देश के विश्वास पर खरा उतरेंगे। उन्होंने आगे कहा कि सेना दिवस के अवसर पर हम सभी अपने आपको देश को समर्पित करते हैं। सेना हर चुनौती को स्वीकारने के लिए तैयार है। वहीं उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भी सेना के सभी अधिकारियों को सेना दिवस की शुभकामनाएं दी हैं। इस अवसर पर पहली बार एक महिला अधिकारी कैप्टन तानिया शेरगिल ने पुरुषों की सभी टुकडिय़ों का नेतृत्व किया। तानिया शेरगिल सेना के सिग्नल कोर में कैप्टन हैं। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं कम्युनिकेशंस में बीटेक करने वाली तानिया शेरगिल मार्च 2017 में चेन्नई के ऑफिसर ट्रेनिंग अकादमी से सेना में शामिल हुई थीं।

प्रदर्शन

वेतन नहीं मिलने से नाराज होकर नगर निगम के कर्मचारियों ने नगर निगम मुख्यालय में तालाबंदी कर दी। इसके बाद मुख्यालय के समक्ष ही एकजुट होकर प्रदर्शन किया।

 

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.