कारीगरों की मेहनत से चमक रहा प्रदेश : सीएम

एक जनपद, एक उत्पाद योजना से लोगों को मिल रहा फायदा
दस्तकारों व शिल्पकारों की हर तरह से मदद कर रही है सरकार
मुख्यमंत्री ने हुनर हाट का किया शुभारंभ
4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज अवध शिल्पग्राम में आयोजित हुनर हाट का शुभारंभ किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में हुनरमंदों की कमी नहीं है। कारीगरों की मेहनत से प्रदेश चमक रहा है। कभी यूपी शिल्पकारी और दस्तकारी में नंबर वन था। पिछली सरकारों की उपेक्षा के चलते यह लुप्त होने लगी थी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने एक जनपद, एक उत्पाद की योजना शुरू की। इसका फायदा शिल्पकारों और दस्तकारों को मिल रहा है। इसके जरिए कारीगरों के उत्पादों को एक उचित प्लेटफार्म दिया जा रहा है। यह कारीगरों की मेहनत का नतीजा है कि प्रदेश से 19 फीसदी उत्पाद बाहर भेजे जा रहे हैं। पहले यह आठ फीसदी था। उन्होंने कहा कि यूपी के हर जनपद की अपनी अलग पहचान है। कन्नौज इत्र के लिए तो मेरठ खेल सामानों लिए प्रख्यात है। इन उत्पादों को विश्वस्तर पर पहचान दिलाने के लिए सरकार प्रयास कर रही है। कारीगरों को सरकार हर संभव मदद दे रही है।

माटी कला पर भी फोकस

सीएम ने कहा कि परम्परागत उत्पादों पर भी सरकार फोकस कर रही है। माटी कला को आगे बढ़ाने का काम किया जा रहा है। सरकार परंपरागत उत्पादों के विकास के लिए ट्रेनिंग देगी। साथ ही प्रमाण पत्र भी जारी करेगी। गांव में तालाबों की सफाई कुम्हारों को दी गई है। कुम्हारों को यहां से फ्री मिट्टी मिलेगी। इससे उनकी आय दोगुनी होगी। इससे तालाब भी साफ होंगे और जल संरक्षण भी हो जाएगा। सरकार पीएम-सीएम रोजगार योजना के तहत लोन भी उपलब्ध करा रही है।

 

 

ईरान ने माना, गलती से मार गिराया यूक्रेन का विमान
विमान में सवार सभी 176 लोगों की हुई थी मौत
ईरानी विदेशमंत्री ने मानवीय भूल के लिए जताया खेद
4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। तेहरान से उड़ान भरने के कुछ ही मिनट में क्रैश हुए यूक्रेन के विमान को मार गिराने की जिम्मेदारी ईरान ने ली है। ईरान सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि ईरानी मिसाइलों ने ही विमान को गलती से निशाना बनाया था। ईरान के विदेश मंत्री ने इसकी पुष्टि करते हुए खेद जताया है। इस विमान हादसे में 176 लोगों की मौत हो गई जिनमें ईरान के 82 और कनाडा के 63 नागरिक थे। वहीं यूके्रन के 11, स्वीडन के 10, अफगानिस्तान के चार जबकि जर्मनी और ब्रिटेन के तीन-तीन नागरिक सवार थे। 8 जनवरी को यह विमान यूक्रेन की राजधानी कीव जा रहा था। ईरान सरकार ने कहा कि यूक्रेन का विमान मानवीय भूल के कारण निशाने पर आ गया। ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ ने ट्वीट किया, दुखी करनेवाला दिन। शुरुआती जांच में सामने आया है कि अमेरिका के हमले के वक्त मानवीय भूल की वजह से हादसा हुआ। इस पर हम पछतावा और खेद व्यक्त करते हैं।

 

 

निर्भया केस: क्यूरेटिव पिटिशन पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट
पांच जजों की बेंच 14 जनवरी को करेगी सुनवाई
चारों दोषियों को 22 जनवरी को फांसी पर लटकाने का है आदेश
4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। निर्भया केस में दोषियों को फांसी देने की तारीख करीब आ रही है। इस बीच फांसी की सजा पा चुके दो दोषियों विनय शर्मा और मुकेश सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटिशन यानी सुधारात्मक याचिका दाखिल की है। कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई की तारीख 14 जनवरी तय की है। अदालत ने 22 जनवरी को दोषियों को फांसी पर लटकाने का डेथ वॉरंट जारी किया था।
सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की बेंच विनय और मुकेश की क्यूरेटिव पिटिशन पर सुनवाई करेगी। इस बेंच में जस्टिस एनवी रमन्ना, जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस आरएफ नरीमन, जस्टिस आर भानुमती और जस्टिस अशोक भूषण का नाम शामिल है। निर्भया के गुनहगार विनय ने अपनी क्यूरेटिव पिटिशन में अपनी युवावस्था का हवाला देते हुए कहा है कि कोर्ट ने इस पहलू को त्रुटिवश अस्वीकार कर दिया है। याचिका में कहा गया है कि याचिकाकर्ता की सामाजिक-आर्थिक परिस्थितयों, उसके बीमार माता-पिता सहित परिवार के आश्रितों और जेल में उसके अच्छे आचरण और उसमें सुधार की गुंजाइश के बिन्दुओं पर पर्याप्त विचार नहीं किया गया है और जिसकी वजह से उसके साथ न्याय नहीं हुआ है। दिल्ली की एक अदालत ने मंगलवार को ही इस मामले के चारों दोषियों मुकेश, पवन गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय ठाकुर को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे तिहाड़ जेल में मौत होने तक फांसी के फंदे पर लटकाने के लिए जरूरी वॉरंट जारी किए थे। दक्षिण दिल्ली में 16 दिसंबर, 2012 की रात चलती बस में 6 व्यक्तियों ने निर्भया के साथ सामूहिक बलात्कार के बाद उसे बुरी तरह जख्मी करके बाहर फेंक दिया था। निर्भया की 29 दिसंबर को मौत हो गई थी।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.