डीजीपी ने माना एसएसपी नोएडा ने किया सर्विस रूल का उल्लंघन पर नहीं की कोई कार्रवाई

  • अश्लील वीडियो मामले में भी घिरे हैं एसएसपी, विपक्ष ने सरकार की कार्यप्रणाली पर उठाए सवाल
  • आईजी अमिताभ ठाकुर ने आईपीएस एसोसिएशन की बैठक बुलाने की मांग की 

 

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। नोएडा के एसएसपी वैभव कृष्ण के अश्लील वीडियो से उठा तूफान थमने का नाम नहीं ले रहा है। अपने बचाव में जिस तरह वैभव ने सीेएम दफ्तर को भेजी रिपोर्ट का हवाला देते हुए उसे लीक करके अपनी जान बचाने की कोशिश की वही उनके गले की फांस बन गयी है। नोएडा पुलिस इस हद तक बौखला गयी है कि यह वीडियो आईजी को भेजने के कारण उसने मेरठ जाकर एक पत्रकार को गिरफ्तार करने की कोशिश की। तमाम पत्रकारों ने एसएसपी वैभव के इस आचरण की तीखी निंदा की है। वहीं आज डीजीपी ने इस रिपोर्ट को लीक किये जाने को सर्विस रूल का उल्लंघन माना। हालांकि इस उल्लंघन पर भी वैभव के खिलाफ कोई कार्रवाई न होना लोगों को हैरान कर रहा है। विपक्ष के हमलों के बीच आईजी अमिताभ ठाकुर ने इस मसले पर आईपीएस एसोसिएशन की बैठक तत्काल बुलाने की मांग की है।

यह ऐसी सरकार है कि इसके आईपीएस ही आरोप लगा रहे हैं। इस पर केन्द्र सरकार को संज्ञान लेना चाहिए लेकिन वह क्यों लेगी।
अखिलेश यादव, सपा प्रमुख

ये सरकार कार्रवाई की जगह सिर्फ जांच की बात करती है और जांच में कुछ नहीं होता है।
दीपक सिंह, एमएलसी, कांग्रेस

मुख्यमंत्री ने इसकी रिपोर्ट मांगी है। इसकी जांच एडीजी मेरठ को सौंपी गयी है। रिपोर्ट आने के बाद आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।
नवीन श्रीवास्तव, प्रवक्ता, भाजपा

गोपनीय पत्र वायरल करने पर वैभव से मांगा गया है जवाब: डीजीपी

  • हापुड़ एसपी की अगुवाई में सौंपी गई है जांच

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि गोपनीय पत्र वायरल करने के मामले में नोएडा के एसएसपी वैभव कृष्ण से स्पष्टीकरण तलब किया गया है। इसके अलावा एक वीडियो वायरल किया गया है, जिसको लेकर एसएसपी नोएडा की तरफ से एफआईआर दर्ज की गई है। इस केस की जांच हापुड़ एसपी की अगुवाई में सौंपी गई है। आईजी मेरठ रेंज भी इस केस पर नजर रखेंगे। डीजीपी ने कहा कि एसएसपी वैभव कृष्ण की तरफ से एक गोपनीय पत्र शासन को भेजा गया, जहां से डीजीपी मुख्यालय को ये पत्र भेजा गया जिसमें कुछ अफसरों पर आरोप लगाया कि उन्हें बदनाम करने की साजिश रची जा रही है। इसकी जांच उन्होंने मेरठ एडीजी को सौंपी। उन्होंने कार्रवाई भी की। मामले में जांच की जा रही थी, इसी बीच ये पत्र वायरल हो गया। डीजीपी ने कहा कि हमारा मानना है कि एसएसपी नोएडा की तरफ से ये अनाधिकृत कम्युनिकेशन किया गया। हमने आईजी मेरठ से कहा है कि वे एसएसपी से पूछें कि ये पत्र क्यों वायरल किया गया। ये सर्विस रूल के खिलाफ है।

आधार में जब जानकारी उपलब्ध तो एनपीआर क्यों: अखिलेश

  • सपा के लोग नहीं भरेंगे एनपीआर का फार्म
  • गन्ना किसानों के बकाए का नहीं हुआ भुगतान
  • संविधान से खिलवाड़ कर रही भाजपा सरकार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने एक बार फिर नागरिकता संशोधन कानून और एनपीआर को लेकर भाजपा सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि जब आधार कार्ड में सारी जानकारियां उपलब्ध हैं तो एनपीआर की क्या जरूरत है। हम एनपीआर का फार्म नहीं भरेंगे।
नागरिकता संशोधन कानून को लेकर अखिलेश ने निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा सरकार संविधान से खिलवाड़ कर रही है। भाजपा के नेता भडक़ाऊ बयान दे रहे हैं। प्रदर्शन के दौरान लोगों की जान पुलिस की गोली से गई। आर्थिक हालत खराब है। बैंक डूब गई। कोई प्रदेश में निवेश नहीं करना चाहता है। सपा कार्यकर्ता साइकिल चलाकर रोजगार मांगेंगे। गन्ना किसानों का पिछले साल का भुगतान बकाया है। नौजवानों को रोजगार नहीं मिल रहा है। नोटबंदी के बहाने देश को गुमराह किया गया। प्रदेश के अफसर ही एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं।

अंतरिक्ष की तरह समुद्र में ताकत बढ़ाएं वैज्ञानिक: पीएम मोदी

  • इनोवेशन इंडेक्स में भारत रैंकिंग में काफी ऊपर
  • साइंस के जरिए समाज को जोडऩे का हो सकता है काम

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। कर्नाटक दौरे पर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज भारतीय विज्ञान कांग्रेस को संबोधित किया। पीेएम कहा कि युवा वैज्ञानिक देश के विकास और आम लोगों के जीवन को आसान बनाने वाली तकनीक को विकसित करने पर काम करें।
उन्होंने कहा कि भारत ने अंतरिक्ष में अपनी ताकत बढ़ाई है, लेकिन अब वक्त आ गया कि हम समुद्र के क्षेत्र में भी अपनी ताकत को बढ़ाएं। समुद्र में भी हमें पानी, फूड और एनर्जी के क्षेत्र में काम करना होगा। समुद्र की गहराई में उतर वहां का मानचित्र बनाने और जिम्मेदारी से सतत पोषणीय विकास की भावना पर आधारित संसाधनों के दोहन की आवश्यकता है। देश आज विज्ञान के क्षेत्र में आगे बढ़ा है, ये लगातार 10 फीसदी की रफ्तार से बढ़ रहा है जबकि दुनिया की रफ्तार 4 फीसदी ही है। इनोवेशन इंडेक्स की रैंकिंग में भारत काफी ऊपर आ गया है, ये रफ्तार ऐसे ही आगे बढ़ती रहनी चाहिए। पीएम ने कहा कि भारत के समाज को जोडऩे का काम साइंस के द्वारा किया जा सकता है।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.