फिर सज गई पत्रकारपुरम की सब्जी मंडी

  • कुछ दिन पहले ही एलडीए ने हटवाया था सब्जी मंडी को
  • सब्जी के दुकानदारों ने किया था जमकर विरोध
  • पार्किंग की जगह पर वर्षों से लग रही है सब्जी मंडी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी के पॉश इलाकों में शुमार पत्रकारपुरम अतिक्रमण का शिकार है। हाल यह है कि अतिक्रमण हटाने वाले दस्तों के लौटते ही अतिक्रमणकारी फिर उसी जगह पर काबिज हो जाते हैं। हाल ही में यहां से हटाई गई सब्जी मंडी फिर सज गई है और इसके चलते जाम की हालत पहले जैसी हो गई है। वहीं स्थानीय पुलिस प्रशासन आंखें मूंदे बैठा है।
केन्द्रीय विद्यालय के सामने सब्जी मंडी की करीब 400 दुकानें लगती हैं जिससे यहां अक्सर जाम लगा रहता है। स्कूल छूटने के बाद यह और बढ़ जाता है। इससे लोगों को भारी परेशानी उठानी पड़ती है। हालांकि आज जहां सब्जी मंडी लग रही है वह पार्किंग की जगह है। अतिक्रमण कर सब्जी मंडी लग रही है। इसके कारण लोगों का रोड पर निकलना मुश्किल हो गया है। शिकायत के बाद पिछले हफ्ते एलडीए की टीम ने मंडी में लगी सभी दुकानों को हटवा दिया था। उस समय दुकानदारों ने जमकर हंगामा भी किया था। अतिक्रमण हटने के एक हफ्ते बाद ही यहां एक बार फिर सब्जी मंडी गुलजार हो गई है। दुकानदारों का कहना है कि हम कहां जाएं। पिछले 10 सालों से यहां सब्जी बेच रहे हैं। सरकार की ओर से कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की गई है। यहां के व्यापारी भी हमें हटाने का दबाव बना रहे हैं लेकिन कोई इसका समाधान नहीं बता रहा है। दूसरी ओर दोबारा अतिक्रमण होने से पुलिस प्रशासन पर सवालिया निशान उठने लगे हैं।

बिना सूचना कार्रवाई का आरोप

दुकानदार एखलाक ने आरोप लगाया कि उन्हें न पूर्व में सूचना दी गई न ही दुकानें खाली करने का वक्त दिया गया। अचानक बुलडोजर चलवा दिया गया, इससे काफी नुकसान हुआ है। वहां के अन्य दुकानदारों का कहना है कि हम लोगों को सन 1998 को दुकानें आवंटित करने का आदेश दिया गया था। तीन बाई तीन की 400 दुकानें थीं। अफसरों की कई बैठकें हुईं, लेकिन आदेश के बाद आवंटन नहीं हो पाया। मामले में हाईकोर्ट ने 2010 में दुकानदारों के पक्ष में आदेश किया है लेकिन उनकी सुनी नहीं जा रही है।

दो साल पहले लगी थी आग

इस सब्जी मार्केट में दो साल पहले आग लगी थी। आग लगने का कारण शॉर्ट सर्किट बताया गया था। हालांकि कुछ लोगों ने जगह खाली करवाने के लिए साजिशन आग लगवाने की आशंका भी जताई थी। इस मामले में किसी के खिलाफ आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

पार्किंग के लिए दी गई थी जगह
गोमतीनगर विकास खंड में 1600 वर्गफुट का भूखंड है। यहां 400 दुकानदारों को एलडीए ने ही जगह दी थी। यहां मल्टीलेवल पार्किंग के लिए चार जनवरी 2019 को आदर्श व्यापार मंडल व एलडीए के बीच एमओयू हुआ। हालांकि जमीन खाली न होने की वजह से पार्किंग निर्माण शुरू नहीं हो पाया था।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.