विहिप के राम मंदिर मॉडल को लेकर घमासान रामालय ट्रस्ट और संत समाज आमने-सामने

  • अविमुक्तेश्वरानंद की टिप्पणी पर भडक़े, लोगों को भ्रमित करने का लगाया आरोप

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
अयोध्या। राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण को लेकर विश्व हिंदू परिषद के तैयार मॉडल पर रामालय न्यास ट्रस्ट के सचिव अविमुक्तेश्वरानंद की टिप्पणी के बाद अब विश्व हिंदू परिषद और संत समाज ने नाराजगी व्यक्त की है। विहिप और अयोध्या के संत समाज ने अविमुक्तेश्वरानंद के ऊपर मंदिर निर्माण में बाधा पहुंचाने का आरोप लगाया है।
जगतगुरु वासुदेवानंद सरस्वती ने रामालय ट्रस्ट के दावों को खारिज करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि भारत सरकार ट्रस्ट बनाए और वही ट्रस्ट मंदिर का निर्माण करेगा। उसी के अनुसार मंदिर का निर्माण हो। उन्होंने कहा कि रामालय ट्रस्ट एक व्यक्तिगत संस्था है, उससे हिंदू समाज का कोई संबंध नहीं। वह एक राजनैतिक स्पर्धा है। वहीं उन्होंने विहिप द्वारा तैयार मॉडल का समर्थन करते हुए कहा कि इस मॉडल के लिए भारत का प्रत्येक नागरिक समर्पित है। इस पर सुप्रीम कोर्ट में भी चर्चा हुई है इसलिए इसी मॉडल के अनुरूप मंदिर का निर्माण होना चाहिए। अगर चाहें तो इसका विस्तारीकरण हो, साथ ही ट्रस्ट के निर्माण को लेकर कहा कि हम यही चाहते हैं कि राम जन्मभूमि न्यास के सदस्य और राम मंदिर निर्माण के ट्रस्ट में शामिल साथी और अन्य बुद्धिजीवियों को इसमें शामिल किया जाए। वहीं विश्व हिंदू परिषद ने अविमुक्तेश्वरानंद पर पलटवार करते हुए कहा है कि यह विवाद का विषय नहीं है। अयोध्या में राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण को लेकर कार्य पिछले 30 वर्षों से किया जा रहा है। आज जिस मॉडल को लेकर जन-जन तक आंदोलन हुआ इसे उन्होंने अपने रक्त से सिंचित किया है। आज उस मॉडल को नकारा नहीं जा सकता। रामालय ट्रस्ट समाज को भ्रमित करने का काम कर रहा है, जो दुर्भाग्यपूर्ण है।
विहिप के शरद शर्मा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट से राम मंदिर के पक्ष में फैसला आने के बाद इस प्रकार के तमाम लोग सामने आ रहे हैं। यही लोग सिर्फ राम मंदिर निर्माण में बाधा पहुंचाने का काम कर रहे हैं। इन लोगों का मंदिर निर्माण से कोई भी संबंध नहीं है। भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर कोई व्यक्ति नहीं बल्कि समाज द्वारा बनाया जाना है।
गौरतलब है कि रामालय न्यास के सचिव जगद्गुरु स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के शिष्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने विश्व हिंदू परिषद पर हमलावर होते हुए कहा था कि संतों की पूर्व में राय थी कि प्लाट मिल जाए, तब नक्शा बनवाया जाए लेकिन उसके बावजूद पत्थर खरीद कर उसका मॉडल बनवा दिया गया। अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि जो मौजूदा मॉडल है, वह 130 फीट ऊंचा है और अमित शाह कह रहे हैं कि जो भगवान राम के मंदिर का शिखर होगा, वह आकाश शिखर का होगा।

शिवांगी बनीं नौसेना की पहली महिला पायलट

  • आज से उड़ाएंगी डोर्नियर विमान

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
कोच्चि। आज भारत के लिए ऐतिहासिक दिन है। नौसेना को उसकी पहली महिला पायलट मिल गई है। सब लेफ्टिनेंट शिवांगी भारतीय नौसेना की पहली महिला पायलट बन गई हैं। कोच्चि में आज उन्होंने अपनी ऑपरेशन ट्रेनिंग पूरी कर ली है। वह आज से ही कोच्चि में ऑपरेशन ड्यूटी में शामिल हो जाएंगी। वह आज से फिक्सड विंग सर्विलांस डोर्नियर विमानों को उड़ाएंगी।
इस मौके पर भारतीय नौसेना की सब लेफ्टिनेंट शिवांगी ने कहा कि मैं बहुत लंबे समय से इसकी कोशिश कर रही थी और आखिरकार वह यहां है, इसलिए यह एक शानदार एहसास है। मैं अपने प्रशिक्षण के तीसरे चरण को पूरा करने के लिए उत्सुक हूं। शिवांगी का जन्म बिहार के मुजफ्फरपुर शहर में हुआ है। शुरुआती प्रशिक्षण के बाद पिछले साल उन्हें भारतीय नौसेना में शामिल किया गया था। उन्हें इंडियन नेवल एकेडमी, एझिमाला में 27 एनओसी कोर्स के हिस्से के रूप में एसएससी (पायलट) के रूप में भारतीय नौसेना में शामिल किया गया था।

निकाह हलाला को चुनौती देने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का तुरंत सुनवाई से इंकार

  • कहा, सर्दियों के अवकाश के बाद होगी सुनवाई

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने निकाह हलाला और बहुविवाह प्रथाओं को चुनौती देने वाली याचिका की त्वरित सुनवाई से आज इंकार कर दिया। याचिकाकर्ता भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय ने मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली खंडपीठ के समक्ष मामले का विशेष उल्लेख किया और त्वरित सुनवाई का अनुरोध किया।
न्यायमूर्ति बोबडे ने कहा कि वह मामले की सुनवाई अदालत में सर्दियों की छुट्टियों के बाद करेंगे। उपाध्याय ने एक जनहित याचिका दायर करके मुस्लिमों में प्रचलित निकाह हलाला और बहुविवाह प्रथाओं को असंवैधानिक करार देने की मांग की है। गौरतलब है कि निकाह हलाला के तहत एक व्यक्ति अपनी पूर्व पत्नी से तब तक दोबारा शादी नहीं कर सकता जब तक कि वह महिला किसी अन्य पुरूष से शादी कर उससे शारीरिक संबंध नहीं बना लेती और फिर उससे तलाक लेकर अलग रहने की अवधि (इद्दत) पूरा नहीं कर लेती।

जनता की जेब काट रही केंद्र सरकार: प्रियंका

  • मोबाइल कंपनियों द्वारा कॉल दर बढ़ाने पर कांग्रेस महासचिव ने साधा निशाना

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने निजी क्षेत्र की प्रमुख मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनियों द्वारा इंटरनेट व कॉल की दर बढ़ाने को लेकर केन्द्र सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि भाजपा अपने अमीर दोस्तों को फायदा पहुंचाने के लिए गरीबों की जेब काट रही है।
प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट किया कि भाजपा पिछले 6 सालों से मोबाइल इंटरनेट और कॉल सस्ता करने की डींगें हांकती थी। अब इसकी भी हवा निकल गई। भाजपा ने बीएसएनएल और एमटीएनएल को कमजोर किया और बाकी कम्पनियों के लिए कॉल और डेटा महंगा करने का रास्ता खोला। भाजपा अपने अमीर दोस्तों को फायदा पहुंचाने के लिए लगातार जनता की जेब काट रही है। गौरतलब है कि कंपनियों ने अपनी कॉल दरें बढ़ा दी हैं।

बैठक

बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. सतीश चन्द्र द्विवेदी ने बेसिक शिक्षा निदेशालय में विभागीय बैठक ली और जरूरी दिशा निर्देश दिए।

विरोध प्रदर्शन

विकलांग दिवस पर अपनी मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन करते लोग।

प्रदूषण नियंत्रण दिवस

1090 चौराहे पर राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस के अवसर पर पर्यावरण सुरक्षा मार्च आयोजित किया गया। मंत्री दारा सिंह चौहान ने इस मार्च को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.