कवियों और शायरों ने समाज में जगाई चेतना: मोहसिना

  • डॉ. सागर आजमी की स्मृति में आयोजित किया गया मुशायरा
  • सपा नेता अरविंद सिंह गोप समेत नामचीन हस्तियों ने की शिरकत

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
बाराबंकी। कवि और शायर अपने समय का सबसे बड़ा पारखी और समाज का दर्पण होता है। उर्दू सरल, मीठी और आकर्षण रखने वाली भाषा है। स्वतंत्रता संग्राम में शायरों एवं कवियों ने अपनी लेखनी से समाज में चेतना की अलख जगाई जिसके परिणामस्वरूप हमें आजादी नसीब हुई। कवियों एवं शायरों का यह कार्य अविस्मरणीय है और रहेगा। सुप्रसिद्ध शायर डॉ. सागर आजमी की स्मृति में आयोजित साहित्यिक एवं सामाजिक संस्था सांझी विरासत के तत्वाधान में आयोजित छठे अखिल भारतीय मुशायरा एवं कवि सम्मेलन में अपने अध्यक्षीय संबोधन में कांग्रेस पार्टी की वरिष्ठï लीडर एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री मोहसिना किदवई ने यह विचर व्यक्त किए।
समारोह के मुख्य अतिथि समाजवादी पार्टी के वरिष्ठï नेता अरविन्द सिंह गोप ने कहा कि देश और महादेव की इस पावन धरती पर गंगा जमुनी परचम हमेशा से ही लहराता रहा है। सहारा न्यूज नेटवर्क के मुख्य कार्यकारी अधिकारी उपेन्द्र राय ने कहा कि सांझी विरासत के दो शब्दों में पूरा हिन्दुस्तान दृष्टिïगोचर होता है। ऐसे वातावरण में जहां कुछ लोग मंदिर मस्जिद के नाम पर अपनी राजनीतिक रोटियों सेंक रहे हैं वहीं सांझी विरासत मुहब्बत का सुखद वातावरण बनाने में व्यस्त है। सांझा संस्कृति को बचाये रखना हम सब की जिम्मेदारी है। इस मौके पर फिल्म जगत की प्रसिद्ध हस्ती रजा मुराद व वरिष्ठï पत्रकार पद्मश्री विनोद दुवा आदि ने संबोधित किया।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.