4PM News! खबरची, कुछ मीठी मिर्ची

मस्त रहे मस्ती में आग लगे बस्ती में

अपने झाड़ूवाले नेताजी के सिर पर चुनावी खुमारी अभी से चढ़ गई है। सो दोबारा सत्ता हथियाने के तमाम हथकंडे अपना रहे हैं। सरकारी खजाने को लुटाने की कसम खा चुके हैं। मुफ्त की माला दिन-रात जप रहे हैं। जनता मरती है तो मरती रहे। बेचारी जनता है कि उनका सांस लेना दूभर हो गया है। राज्य गैंस चेंबर बन गया है लेकिन नेताजी को चुनाव के अलावा कुछ सूझ नहीं रहा है। बडक़ी अदालत ने भी हडक़ाया लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ा। कागजों पर ऐलान कर दिया, यहां की हवा पूरी तरह शुद्ध है। अब कर लो क्या करते हो। नेताजी को कुर्सी चाहिए बस। जनता का क्या है। वह उनके लिए वोटर भर है। वोट पाने के लिए मुफ्त का माल तो दे ही रहे हैं जी। अभी निवेश करेंगे तभी पांच साल मजा मारेंगे न।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.