पानीपत फिल्म निर्माताओं पर कहानी चुराने का आरोप, हाईकोर्ट में केस दर्ज

  • विश्वास पाटिल ने सात करोड़ का मांगा हर्जाना

राजेश्वर पांडेय राज
लखनऊ। फिल्म ‘पानीपत’ विवादों में फंसती नजर आ रही है। पानीपत के ही नाम से मशहूर उपन्यास के लेखक विश्वास पाटिल ने निर्देशक आशुतोष गोवारिकर, निर्माता रोहित शेलाटकर और रिलायंस एंटरटेनमेंट के नाम केस दर्ज किया है।
महाराष्ट्र के मशहूर साहित्यकार विश्वास पाटिल ने छह साल पहले कंगना रनोट के साथ ‘रज्जो’ फिल्म भी बनाई थी। उन्होंने बताया कि ट्रेलर देखने के बाद मैंने पाया कि सीन दर सीन कहानी, मेरे नॉवेल से उठाया गया है। मेरे नॉवेल पर ही एनएसडी के डायरेक्टर वामन केंद्रे ने 20 साल पहले ‘रननगन’ नाम से प्ले भी बनाया था। उसके कॉस्ट्यूम ऑस्कर विनर भानु अथैया ने तैयार किए थे। उसके 400 से ज्यादा शोज मराठी और हिंदी में हुए थे। मराठी लोगों ने उन्हें ‘पानीपाटकर’ की उपाधि भी दी थी। उनके वकील ने सात करोड़ का हर्जाना भी मांगा। पानीपत की तीसरी लड़ाई को नॉवेल की शक्ल देने में लेखक विश्वास पाटिल को छह साल लगे थे। फिलहाल मामला अभी कोर्ट में विचाराधीन है और मेकर्स इस पर अभी तक कोई चर्चा नहीं कर रहे। देखा जाए तो पिछले दो सालों में पानीपत चौथी ऐसी फिल्म हो गई, जो कहानी चुराने और राइट्स न देने के चलते विवादों में आई है। इससे पहले ‘बाला’, ‘मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर’ और ‘खानदानी शिफाखाना’ भी इस तरह के विवादों में घिरे रहे। उन पर भी कहानी चुराने के आरोप लगे। मगर इन सारी फिल्मों के रिलीज पर कोई असर कभी नहीं दिखा। ऐसे दावे कोर्ट की फाइलों में दर्ज होकर एक खबर बनकर रह जाते हैं। हालांकि विश्वास पाटिल खुद एकनामी हस्ती हैं, तो ये कहना मुश्किल है कि उन्होंने सिर्फ चर्चा बटोरने के लिए ये केस किया होगा लेकिन निर्माताओं की सूची ऐसी है कि समझौते के दायरे में वे फिल्म के रिलीज को बेअसर कर ही लेंगे।

 

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.