मंत्री ने सीओ को धमकाया, सीएम ने मंत्री को !

  • धमकी देते ऑडियो क्लिप वायरल होने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंत्री स्वाति सिंह को लगाई फटकार
  • सीएम ने पौने एक घंटे तक मंत्री से की पूछताछ, डीजीपी से मामले की रिपोर्ट की तलब
  • धोखाधड़ी मामले में अंसल ग्रुप के खिलाफ दर्ज एफआईआर को लेकर धमकाया था सीओ को
  • विपक्ष ने साधा निशाना

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। यूपी की मंत्री स्वाति सिंह एक नये विवाद में फंस गयीं। सीओ को धमकाने का ऑडियो वायरल होने के बाद सीएम योगी के तेवर चढ़ गये। उन्होंने स्वाति सिंह को बुलाकर उनकी क्लास लगायी और डीजीपी से इस मामले की रिपोर्ट तलब कर ली। विपक्ष ऐसा मौका भला कहा छोड़ता उसने सरकार पर आरोप लगाया कि अब तो साफ हो गया है कि सूबे के मंत्री बिल्डरों से मिलकर जनता के खून पसीने की कमाई को लूटने में लगे हैं।
स्वाति सिंह अंसल ग्रुप को बचाने के चक्कर में हद से आगे चली गईं। एक पीडि़त के एफआईआर दर्ज होने के मामले में उन्होंने सीओ बीनू सिंह को धमकाते हुए कह डाला कि यह एफआईआर कैसे दर्ज हो गयी। यह बहुत हाई प्रोफाइल मामला है। सीेएम की जानकारी में है। स्वाति का यह ऑडियो देखते देखते वायरल हो गया। इस ऑडियो को सुनने के बाद स्पष्ट लग रहा था कि स्वाति अंसल ग्रुप को बचाने में लगी हैं। उससे भी खतरनाक बात यह रही कि उन्होंने इस मामले में सीेएम का नाम भी ले लिया। उनकी बातचीत से ऐसा लगा कि जैसे सीएम भी अंसल को बचाने की कोशिश कर रहे हैं जबकि सीेएम कई बार ऐसे बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई की बात कर चुके हैं जो जनता के पैसे को लूटते हैं। आज सीेएम इस मामले में बहुत नाराज़ थे। सूत्रों का कहना है कि उन्होंने स्वाति सिंह को तलब करके उनकी जमकर क्लास लगायी और डीजीपी से पूरे मामले की रिपोर्ट तलब की है।

मीडिया से बदसलूकी
सीेएम की क्लास के बाद स्वाति सिंह का पारा और चढ़ गया। उन्होंने न्यूज 18 के रिपोर्टर प्रशांत से भी उस समय बदसलूकी कर डाली जब वह उनका पक्ष लेने उनके घर गये थे। मंत्री स्वाति सिंह ने अपना मोबाइल बंद कर लिया है और वे किसी से बात नहीं कर रही हैं।

मामला मंत्री तक सीमित नही, मुख्यमंत्री भी अपराधियों का बचाव कर रहे हैं। मंत्री को बर्खास्त कर आदित्यनाथ जी की भूमिका की जांच होनी चाहिए। क्या होगा न्याय?
-रणदीप सिंह सुरजेवाला,कांग्रेस नेता

उन्नाव में मुआवजे की मांग को लेकर उग्र किसानों ने की तोडफ़ोड़

  • ेेजेसीबी, कार और बस को बनाया निशाना, 13 थानों की पुलिस फोर्स तैनात
  • ट्रांस गंगा सिटी का है मामला, डीएम से हो रही वार्ता

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

उन्नाव। उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण के ड्रीम प्रोजेक्ट उन्नाव ट्रांस गंगा सिटी में आज मुआवजे की मांग को लेकर किसानों ने आपा खो दिया। किसानों ने जेसीबी, कार और बस में तोडफ़ोड़ की। इसके बाद 13 थानों की फोर्स ने मौके पर मोर्चा संभाला। डीएम देवेंद्र कुमार पाण्डेय किसान नेताओं के साथ वार्ता कर रहे हैं।
ट्रांस गंगा सिटी में मुआवजे की मांग को लेकर किसानों का आंदोलन भडक़ गया। किसान नेता हरेंद्र निगम व सुरेंद्र यादव के नेतृत्व में किसानों ने ट्रांस गंगा सिटी पर हल्ला बोल आंदोलन शुरू कर दिया। मौके पर मौजूद यूपीसीडा का चीफ इंजीनियर संदीप चंंद्रा का किसानों ने घेराव कर काम बंद कराने के लिए मजदूरों को खदेडऩा शुरू कर दिया। करीब पांच-छह सौ किसानों ने यूपीसीडा के अधिकारियों का घेराव कर जमकर नारेबाजी करते हुए तोडफ़ोड़ की। तोडफ़ोड़ के दौरान जेसीबी चालक घायल हो गया।
किसानों ने सडक़ पर भी आगजनी की कोशिश कीे। किसानों के बेकाबू होने पर एक प्लाटून पीएसी के साथ 13 थानों की पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची। वहीं काम करने आए मजदूरों को यूपीसीडा के कार्यालय में बैठा दिया गया है। इसके साथ ही पीएसी भी पहुंची। इसके बाद किसान काबू में आ सके। यूपीसीडा के चीफ इंजीनियर संदीप चंद्र ने बताया कि किसानों के आंदोलन के कारण काम शुरू नहीं हो सका है।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.