लाखों गरीबों को छत मुहैया करवाकर सरकार ने किया नेक काम : सुनील भराला

  • मुख्यमंत्री योगी से मुलाकात कर प्रधानमंत्री जन आवास योजना का फीडबैक सौंपा

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष पंडित सुनील भराला ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। उन्होंने प्रधानमंत्री जन आवास योजना के तहत गरीबों को रहने के लिए आवास दिलाए जाने को सरकार का सबसे सराहनीय कार्य बताते हुए गरीबों की ओर से धन्यवाद दिया। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि प्रदेश में जब से योगी आदित्यनाथ की सरकार बनी है, गरीबों के लिए आवास बनाने का कार्य काफी तेजी से किया जा रहा है। इस योजना से लाभान्वित होने वालों की संख्या देश भर में सर्वाधिक हो गई है। प्रदेश की गरीब जनता को रहने के लिए झोपड़ी तक मयस्सर नहीं हो पा रही थी, लेकिन अब उन गरीबों को रहने के लिए पक्का घर और साथ में शौचालय मिल गया है, जिसकी वजह से गरीब काफी प्रसन्न हैं।
सुनील भराला ने हाल ही में प्रदेश सरकार की जीरो टॉलरेंस नीति के तहत भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ की गई कार्रवाई की जमकर प्रशंसा की है। उन्होंने मुख्यमंत्री से कहा कि भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ सरकार की तरफ से चलाया जा रहा अभियान जनता के बीच तेजी से लोकप्रिय हो रहा है। इसीलिए जनता भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ सरकार की मुहिम में साथ दे रही है। सरकार की ऐसी कल्याणकारी योजनाएं जो श्रमिकों के हित में हैं। उनके बारे में भी जागरूकता फैलाई जा रही है, ताकि समाज के दबे-कुचले लोगों को भी योजनाओं का लाभ मिल सके। सुनील भराला ने श्रम कल्याण परिषद की ओर से गरीबों के कल्याण के लिए किए जाने वाले कार्यों का ब्यौरा भी दिया। जिसमें उन्होंने बताया कि श्रम कल्याण परिषद 29 जनवरी को एक साल पूर्ण होने पर जश्न मनायेगा। इस दौरान परिषद अपनी उपलब्धियों को गिनाएगा और लाभार्थियों को योजना का लाभ दिया जायेगा। यह भी कहा कि आपके निर्देशन में सरकारी मशीनरी तेजी से काम करने लगी है। जिसकी वजह से आम जनता को कार्यालयों का चक्कर काटने से मुक्ति मिल गई है।

मूडीज ने भारतीय अर्थव्यवस्था के आउटलुक को किया निगेटिव

  • कहा, लंबे समय तक चलने वाली मंदी का शिकार

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। आर्थिक मंदी का सामना कर रहे भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए एक और नकारात्मक खबर आई है। रेटिंग एजेंसी मूडीज इनवेस्टर्स सर्विस ने भारत के बारे में अपने आउटलुक यानी नजरिए को स्टेबल (स्थिर) से घटाकर निगेटिव कर दिया है।
मूडीज का कहना है कि पहले के मुकाबले भारतीय अर्थव्यवस्था में जोखिम बढ़ गया है, इसलिए उसने अपने आउटलुक में बदलाव किया है। मूडीज के आउटलुक से इस बात का अंदाजा मिलता है कि किसी देश की सरकार और वहां की नीतियां आर्थिक कमजोरी से मुकाबले में कितनी प्रभावी हैं। गौरतलब है कि इसके पहले अक्टूबर में ही मूडीज इनवेस्टर्स सर्विस ने 2019-20 में जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को घटाकर 5.8 फीसदी कर दिया था। पहले मूडीज ने जीडीपी में 6.2 फीसदी की ग्रोथ होने का अनुमान जारी किया था। इसके पहले भी कई रेटिंग एजेंसियां भारतीय अर्थव्यवस्था में बढ़त और यहां के नजरिए के बारे में अपने अनुमान को घटा चुकी हैं। अप्रैल से जून की तिमाही में भारत के जीडीपी में बढ़त महज 5 फीसदी रही है, जो 2013 के बाद सबसे कम है।
बता दें कि मोदी सरकार ने अगले पांच साल में देश को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने का लक्ष्य रखा है, लेकिन एक्सपर्ट्स का कहना है कि इसके लिए लगातार कई साल तक सालाना 9 फीसदी की ग्रोथ रेट होनी चाहिए।

भीम आर्मी चीफ ने बसपा सुप्रीमो से की एकजुट होने की अपील

  • पत्र लिखकर कहा मतभेद भुलाकर एक मंच पर आएं

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ने बीएसपी सुप्रीमो मायावती को एक चिट्ठी लिखी है, जिसमें आजाद ने देश के मौजूदा हालात को लेकर चिंता जताई है। साथ ही मायावती से अपील की है कि इस माहौल से देश को निकालने के लिए यह जरूरी है कि सभी मतभेद भुलाकर एक साथ एक मंच पर आया जाए।
चंद्रशेखर ने मायावती को 4 पन्नों की चिट्ठी लिखी है। जिसमें उन्होंने लिखा है कि इस वक्त देश एक महत्वपूर्ण मोड़ पर खड़ा है। चिट्ठी में चुनावों के दौरान यूपी किस तरह मजबूत हुई है, इसका जिक्र भी किया गया है। साथ ही चिंता व्यक्त की गई है कि बहुजन समाज से जुड़े लोगों के लिए यह कठिन दौर है। उन्होंने बीजेपी शासन पर आरोप लगाते हुए लिखा कि बीजेपी शासन में बहुजन समाज पर अत्याचार बढ़ा है। अपनी चिट्ठी में चंद्रशेखर ने मायावती से अपील की है कि देश के इस मौजूदा हालात में हमें सभी मतभेद भुलाकर एक साथ बैठना चाहिए और विचार विमर्श करना चाहिए। जिससे की भविष्य के लिए रास्ता खुल सके। इसके अलावा उन्होंने लिखा कि मायावती कांशीराम की कोर टीम की सदस्य रही हैं और उनका अनुभव सबके लिए महत्वपूर्ण है। आजाद ने उम्मीद जताई है कि चिट्ठी के बाद मायावती इस विषय पर चर्चा करने के लिए जरूर समय निकालेंगी।

पीके गुप्ता को लेकर आगरा रवाना हुई ईओडब्ल्यू

  • रिमांड पर लिए गए अधिकारियों से भी पूछताछ जारी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश पावर कार्पोरेशन लिमिटेड के डीएचएफएल पीएफ घोटाला मामले में गिरफ्तार पूर्व अधिकारी पीके गुप्ता तीन दिन की पुलिस रिमांड पर हैं। इसी क्रम में मामले की जांच कर रही यूपी पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) पीके गुप्ता को लेकर आगरा रवाना हो गई है। यहां टीम गुप्ता के आगरा स्थित घर पर छानबीन करेगी। ऐसा भी माना जा रहा है कि इन कागजातों में डीएचएफएल को पीएफ कोटेशन देने से जुड़े कागजात भी हो सकते हैं। उत्तर प्रदेश पावर कार्पोरेशन लिमिटेड के कर्मचारियों के भविष्य निधि को निजी कंपनी डीएचएफएल में निवेश करने के मामले में गिरफ्तार पूर्व एमडी एपी मिश्रा को कोर्ट ने तीन दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा है। पुलिस को 7 नवंबर की सुबह 10 बजे से 10 नवंबर सुबह 10 बजे तक की रिमांड मिली है। बता दें ईओडब्ल्यू ने एपी मिश्रा की 7 दिन की कस्टडी रिमांड की अर्जी दी थी लेकिन कोर्ट ने तीन दिन की रिमांड ही मंजूर की। एपी मिश्रा को मंगलवार को कई घंटे की पूछताछ के बाद ईओडब्ल्यू ने गिरफ्तार किया था। वहीं पीएफ घोटाला मामले में गिरफ्तार सुधांशु द्विवेदी और पीके गुप्ता को भी कोर्ट ने 3 दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड पर भेज दिया है। मामले की जांच कर रही ईओडब्ल्यू को बुधवार शाम 4 बजे से 9 नवंबर शाम 4 बजे तक की रिमांड मिली है।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.