बलरामपुर अस्पताल में जांच के नाम पर हो रही वसूली

  • ड्डबिना जरूरत वायरल मार्कर की हो रही जांच

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बलरामपुर अस्पताल में मरीजों से खून की जांच के नाम पर पैसे वसूले जा रहे है। इमरजेंसी में भर्ती मरीजों से खून की जांच के लिए रुपए वसूले जा रहे हैं जबकि सरकार की तरफ से मरीजों को 24 घंटे नि:शुल्क इलाज का फरमान है। दूसरे सरकारी अस्पतालों में यह सुविधाएं मिल भी रही हैं।
बलरामपुर अस्पताल में इमरजेंसी में आने वाले मरीजों को भर्ती कर उनकी खून की जांच कराई जा रही है जबकि इन मरीजों को ऑपरेशन की जरूरत नहीं है। बावजूद इसके अस्पताल में मरीजों का वायरल मार्कर व खून आदि की जांच की जा रही है। इन मरीजों से जांच के नाम पर 100 रुपए शुल्क जमा कराया जा रहा है। वहीं कर्मचारियों का कहना है कि निदेशक के निर्देश पर शुल्क लिया जा रहा है। जानकारों की माने तो वायरल मार्कर की जांच ऑपरेशन वाले मरीजों के लिए की जाती है। वहीं अस्पताल के प्रवक्ता एसएम त्रिपाठी का कहना हैं कि जांच का कोई शुल्क नहीं लिया जा रहा हैं अगर इमरजेंसी में जांच के नाम पर कोई शुल्क लिया जा रहा हैं तो इसकी जांच करवा कर कार्रवाई की जाएगी।

घट रहा कठौता झील का जल स्तर

लखनऊ। (4पीएम न्यूज़ नेटवर्क) राजधानी की कठौता झील का जल स्तर एक बार फिर घटने लगा है। शारदा नहर से कठौता को मिलने वाली पानी की सप्लाई 26 अक्टूबर से बंद है। 10 दिन के अंतराल में मंगलवार तक 1200 मीटर लम्बी कठौता झील में दो फुट पानी कम हुआ है। जलकल अफसरों के मुताबिक वर्तमान में 13 फुट पानी कठौता में बचा हुआ है। यहां 15 फुट पानी स्टोर किया जाता है। 17 नवम्बर को शारदा नहर से सप्लाई फिर से चालू कर दी जायेगी। अफसरों का दावा है कि गोमतीनगर, चिनहट और इंदिरानगर को पानी की सप्लाई में किसी प्रकार की समस्या नहीं आने दी जाएगी। पर्याप्त मात्रा में पानी उपलब्ध है।

घटिया निर्माण देख भडक़े एसडीएम, लगाई फटकार

  • लिपिक ने दबाई गड़बड़ी वाली परियोजनाओं की फाइलें
  • मुजेहना में शुरू हुई मनरेगा से कराए गए कार्यों की जांच

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
गोंडा। गांव के श्रमिकों का पलायन रोकने व गांव में ही उन्हें रोजगार उपलब्ध कराए जाने के लिए संचालित महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) में भ्रष्टाचार का दीमक किस कदर लग चुका है यह एसडीएम के निरीक्षण में एक बार फिर से सामने आ गया। मुजेहना ब्लाक के रूद्रगढ़ नौसी गांव में बने गौ आश्रय केंद्र के घटिया निर्माण को देखकर एसडीएम भडक़ गए। उन्होंने कराए गए कामों की फाइल मांगी तो लिपिक ने उन्हे 16 परियोजनाओं में से सिर्फ 12 की फाइल ही उपलब्ध कराई। गड़बड़ी वाली चार फाइलों को उसने दबा लिया। उन्होंने पशुधन प्रसार अधिकारी मनोज वर्मा को जमकर फटकार लगाई।
कटरा बाजार में जांच के दौरान मनरेगा आयुक्त ने बड़े पैमाने पर विकास योजनाओं में गड़बड़ी पकड़ी थी। इस मामले मे बीडीओ समेत चार के खिलाफ प्राथमिक दर्ज कराई जा चुकी है। मुजेहना ब्लाक के जांच की जिम्मेदारी एसडीएम सदर वीर बहादुर यादव समेत जिला युवा कल्याण अधिकारी व ग्रामीण अभियंत्रण के अधिशाषी अभियंता की तीन सदस्यीय कमेटी कर मिली है। एसडीएम को जांच में तमाम गड़बडिय़ां मिलीं। रूद्रगढ़ नौसी गांव में 2.22 करोड़ की लागत से बनाई गए गौ आश्रय केंद्र में पशु शेड का निर्माण बेहद घटिया पाया गया। इंटरलाकिंग का कार्य भी खराब मिला। भूसे की क्वालिटी भी बेहद घटिया मिली।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.