संक्रामक बीमारियों से निपटने की कवायद शुरू, लगेंगे स्वास्थ्य मेले

  • प्रदेश के सभी जिलों में होगा आयोजन, लोगों को किया जाएगा जागरूक
  • स्थानीय विधायक और सांसद भी व्यवस्थाओं पर रखेंगे नजर
  • मरीजों को निशुल्क जांच और इलाज की मिलेगी सुविधा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। स्वास्थ्य विभाग ने संक्रामक व अन्य बीमारियों से निपटने की कवायद तेज कर दी है। इसके लिए प्रदेश के सभी जिलों में एक माह का स्वास्थ्य मेला आयोजित किया जाएगा। इसकी सारी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। मेले में लोगों को निशुल्क इलाज भी मुहैया कराया जाएगा। मेले में क्षेत्रीय विधायक और सांसद भी शिरकत करेंगे। इसके अलावा लोगों को बीमारियों को लेकर जागरूक भी किया जाएगा।
राजधानी सहित प्रदेश के 75 जिलों में चिकित्सा सेवाओं को बेहतर करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने कमर कस ली है। इसके तहत ब्लाक और जिलों में स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया जाएगा। सभी ग्राम पंचायतों के एएनएम सेंटर और टीकाकरण सेंटरों पर इनका आयोजन किया गया है। मेले में गर्भवती महिलाओं, किशोरियों और छोटे बच्चों आदि का नि:शुल्क उपचार के साथ स्वास्थ्य संबंधी टिप्स दिए जाएंगे। मेले में पौष्टिक आहार का वितरण किया जाएगा। ब्लाक के समस्त सीएससी, पीएचसी, एएनएम एवं टीकाकरण केन्द्रों पर यह मेला लगाया जाएगा। इन कैंपों पर सरकार की ओर से निशुल्क जांच कराई जाएगी। एक विशेषज्ञ डॉक्टर की तैनाती की जाएगी। इसके अलावा एक लैब टेक्नीशियन और फार्मासिस्ट भी तैनात किए जाएंगे। गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने सभी जिलों के सीएमओ को स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के निर्देश दिए थे। प्रमुख सचिव स्वास्थ्य देवेश चतुर्वेदी ने बताया कि सभी जिले के सीएमओ को स्वास्थ्य मेला आयोजित करने का आदेश दिया गया है। साथ ही क्षेत्रीय विधायक और सांसद को एक पत्र लिखकर कार्यक्रम में शामिल होने और जनता को जागरूक करने की अपील करने का अनुरोध किया गया है।

डेंगू और स्वाइन फ्लू का प्रकोप
प्रदेश में डेंगू और स्वाइन फ्लू का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। इसके अलावा मलेरिया ने भी अपने पांव पसार लिए हैं। स्वाइन फ्लू से अब तक राजधानी में पांच लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं सैकड़ों लोग डेंगू और स्वाइन फ्लू की चपेट में आ चुके हैं और उनका विभिन्न अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है।

व्यवस्था को दुरुस्त करने के निर्देश
संक्रामक और मच्छरजनित बीमारियों को देखते हुए सभी अस्पतालों में व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिए गए हैं। हालांकि इन निर्देशों के बावजूद डेंगू वार्ड तो बनाए गए है लेकिन अभी तक स्वाइन फ्लू के मरीजों के इलाज के लिए अलग वार्ड नहीं बनाए गए हैं। हालांकि अधिकारियों का दावा है कि सभी मरीजों के इलाज की पर्याप्त व्यवस्था की गई है।

कुपोषित बच्चों पर भी रहेगी नजर
मेले में कुपोषित बच्चों पर भी नजर रखी जाएगी। चिन्हित बच्चों को सरकार की ओर से निशुल्क इलाज और योजना के तहत पौष्टिïक भोजन उपलब्ध कराया जाएगा। गौरतलब है कि स्वास्थ्य विभाग कुपोषित बच्चों की पहचान के लिए अभियान भी चला रहा है।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.