अखिलेश यादव के झांसी पहुंचने से पहले पुलिस महकमे में मचा हडक़ंप, पांच दिन बाद अफसरों को याद आए पुष्पेन्द्र पर दर्ज मुकदमे

  • डीएम झांसी ने पुष्पेन्द्र एनकाउंटर की मजिस्टीरियल जांच के दिए आदेश
  • सपा के 50 से अधिक कार्यकर्ताओं को पुलिस ने पकडक़र जेल में डाला

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। यूपी के झांसी जनपद में पुलिस का खौफनाक चेहरा नजर आया है। पुलिस ने पुष्पेन्द्र यादव एनकाउंटर कांड को लेकर प्रदर्शन करने वाले लोगों को पकडक़र जेल में डाल दिया। सपा मुखिया अखिलेश यादव के झांसी पहुंचने से पहले ही पुलिस ने ट्विटर पर धमकी दी कि पुष्पेन्द्र प्रकरण में भ्रामक खबर/अफवाह न फैलायें। अन्यथा अभियोग पंजीकृत कर विधिक कार्यवाही की जायेगी। डीएम झांसी ने पुष्पेन्द्र एनकाउंटर मामले की मजिस्टिीरियल जांच के आदेश दे दिए हैं। एडीएम मामले की जांच कर रहे हैं। वहीं पांच दिन बाद आज पुलिस ने कहा कि पुष्पेन्द्र पर 5 मुकदमें दर्ज हैं। जबकि यह मुकदमे वर्ष 2014-2015 के और बहुत ही मामूली धाराओं में दर्ज हैं। झांसी पुलिस की ट्विटर पर धमकी देने संबंधी इस हरकत को सीधे तौर पर पुष्पेन्द्र को न्याय दिलाने की मांग कर रहे लोगों और सोशल मीडिया पर सवाल उठाने वाले लोगों को शांत कराने के लिए डाले जा रहे दबाब के रूप में देखा जा रहा है। क्योंकि सपा की तरफ से लगातार पुष्पेन्द्र के एनकाउंटर को हत्या बताते हुए आरोपी दारोगा के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करने और उसकी गिरफ्तारी की मांग की जा रही है।
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस एनकाउंटर की हाईकोर्ट के मौजूदा जज से जांच कराने की मांग करते हुए कहा कि विजय दशमी की सुबह से पहले रात के अंधेरे में झांसी में सत्ता की ताकत झोंककर पुष्पेन्द्र का अंतिम संस्कार करके सरकार ने न्याय की चिता जलाई है।

नियमानुसार हो रही कार्रवाई: एडीजी
एडीजी लॉ एंड ऑर्डर पीवी रामा शास्त्री पुष्पेन्द्र यादव एनकाउंटर मामले में मीडिया के सवालों से बचते नजर आये। उन्होंने कहा कि झांसी में पुष्पेन्द्र के परिजनों ने शव लेने से इनकार कर दिया था। इसलिए पुलिस ने अंतिम संस्कार किया। इस प्रकरण में नियमानुसार कार्रवाई की जा रही है। इंस्पेक्टर छुट्टी लेकर इलाज करा रहे हैं।

फौजी तेज बहादुर भी प्रदर्शनकारियों में शामिल
सपा के 50 से अधिक कार्यकर्ता आज मोंठ तहसील में धरने पर बैठे थे। प्रदर्शनकारियों में आम चुनावों के दौरान वाराणसी से पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव लडऩे की घोषणा के बाद सुर्खियों में आए फौजी तेज बहादुर भी शामिल हैं। हालात पर नियंत्रण बना रहे इसके लिए पुलिस ने 50 से अधिक प्रदर्शनकारियों को जेल भेज दिया है।

किसानों के साथ धोखा है कर्जमाफी: प्रियंका गांधी

  • कहा, बर्बाद फसलों का नहीं मिल रहा मुआवजा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने किसानों का मसला उठाते हुए योगी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने कर्जमाफी के नाम पर किसानों को धोखा दिया है। हकीकत में बर्बाद फसलों का मुआवजा किसानों को नहीं मिल रहा है। प्रियंका ने ट्वीट कर कहा कि यूपी सरकार ने किसानों को परेशान करने के कई तरीके ईजाद किए हैं। कर्जमाफी के नाम पर धोखा किया। बिजली के बिल दोगुना कर दिया। बिल के नाम पर किसानों और गरीबों को जेल में डाला जा रहा है। बाढ़-बारिश से बर्बाद फसल का कोई मुआवजा नहीं मिल रहा है। यूपी में बीजेपी सरकार को किसान की याद केवल विज्ञापन में आती है। उन्हें बिलबोर्ड तक ही सीमित कर दिया गया है। बता दें, इससे पहले भी प्रियंका किसानों के मुद्दे पर हमलावर रही हैं।

यूपी में ध्वस्त हो रही कानून व्यवस्था

बस्ती व सहारनपुर में भाजपा के दो नेताओं की हत्या

  • बस्ती में दिन दहाड़े गोलियों से छलनी कर दिया भाजपा से जुड़े पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष को, सहारनपुर में भाजपा किसान मोर्चा के पूर्व उपाध्यक्ष की गोली मारकर हत्या

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
गोरखपुर। बस्ती जिले के एपीएन पीजी कालेज के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष आदित्य नारायण तिवारी उर्फ कबीर को आज शहर के मालवीय रोड स्थित अग्रवाल भवन परिसर में गोली मार दी गई। घायल कबीर को जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां स्थिति नाजुक देख चिकित्सकों ने प्राथमिक उपचार के बाद लखनऊ रेफर कर दिया। लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। वहीं जनता घटना के लिए पुलिस को जिम्मेदार बता रही है। इसी प्रकार सहारनपुर में मंगलवार को भाजपा किसान मोर्चा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष चौधरी यशपाल सिंह की हत्या कर दी गई। इन दोनों घटनाओं से नाराज होकर जनता सडक़ पर उतर आई। जबकि एनकाउंटर से क्राइम कंट्रोल का पुलिस का दावा फेल साबित हो रहा है। स्थानीय लोगों के मुताबिक आज सुबह दो युवक बाइक पर सवार होकर कोतवाली क्षेत्र स्थित अग्रवाल भवन परिसर में पहुंचे। जब तक लोग कुछ समझ पाते एक युवक ने तमंचे से कबीर पर फायर कर दिया। कबीर ने बचने की कोशिश की तो गोली उनके हाथ को छूते हुए सीने में जा लगी। गोली की आवाज सुनकर आसपास के लोग दौड़ पड़े और एक हमलावर पकड़ा गया। जबकि दूसरा युवक भागते समय पिकौरा शिव गुलाम मोहल्ले में एक व्यक्ति के घर में घुस गया, जिसे भीड़ ने दबोच लिया। खबर लिखे जाने तक पुलिस मौके पर पहुंच गई थी, वह भीड़ को शांत कराने में जुटी रही। वहीं सहारनपुर में देवबंद से अपने गांव मिरगपुर लौट रहे यशपाल सिंह को गोलियों से छलनी कर दिया गया। हत्या की सूचना मिलते ही स्थानीय प्रशासन में खलबली मच गई। सीओ चौब सिंह वर्मा ने बताया की हत्या के मामले में विभिन्न बिंदुओं पर जांच की जा रही है। वर्तमान में स्थिति तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण में है।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.