उपचुनाव: जिताऊ उम्मीदवारों की तलाश में जुटी भाजपा

  • जातीय और क्षेत्रीय समीकरण साधने पर भी फोकस
  • संगठन से लगातार लिया जा रहा है फीडबैक 
  • विपक्ष को घेरने की भी बनाई जा रही रणनीति

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उपचुनाव की तारीख तय होने के साथ ही प्रदेश में सियासी हलचल तेज हो गई है। भाजपा ने भी चुनावी जंग के लिए कमर कस ली है। वह जिताऊ और अच्छी छवि के उम्मीदवारों की तलाश में जुट गई है। संगठन के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से लगातार फीड बैक लिया जा रहा है। इसके अलावा जिन सीटों पर चुनाव होने हंै, वहां जातीय और क्षेत्रीय समीकरण को भी साधने की तैयारी की जा रही है। साथ ही भाजपा उपचुनाव में विपक्ष को घेरने की रणनीति भी बना रही हैं।
उत्तर प्रदेश की 12 विधान सभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। केंद्रीय चुनाव आयोग ने चुनाव की तारीख तय कर दी है। वहीं लोक सभा चुनाव में विपक्षियों को धूल चटाने के बाद भाजपा के हौसले बुलंद हैं। हालांकि उसने पिछले लोक सभा उपचुनाव में मिली शिकस्त से सबक लिया है। वह पूरी ताकत से विधान सभा उपचुनाव लडऩे की तैयारी में जुटी है। कांग्रेस और बसपा ने अपने अधिकांश प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है। सपा ने भी हमीरपुर सीट पर अपना प्रत्याशी उतार दिया है। वहीं अभी भाजपा ने अपने प्रत्याशी मैदान में नहीं उतारे हैं। अब जब चुनाव की तारीख तय हो चुकी है, भाजपा के दिग्गज सक्रिय हो गए हैं। भाजपा जिताऊ और अच्छे छवि के उम्मीदवारों की तलाश में जुट गई है। कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को क्षेत्र में सक्रिय कर दिया गया है। इसके अलावा जिन सीटों पर चुनाव होने हैं, वहां के जातीय और क्षेत्रीय समीकरण पर भी भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की नजर बनी हुई है। दूसरी ओर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी चुनावों को लेकर सक्रिय हो गए हैं। वे पिछले दिनों तीन विधान सभा सीटों सहारनपुर के गंगोह, जलालपुर और प्रतापगढ़ में सभाएं कर चुके हैं। यहां उन्होंने करोड़ों रुपये की सौगातें भी दी हंै। इसके साथ ही भाजपा विभिन्न वर्गों से संपर्क स्थापित करने के लिए सम्मेलनों पर जोर दे रही है। यही वजह है कि वह आईटी और युवा सम्मेलन का आयोजन कर रही है। इसके अलावा दलितों, पिछड़ों और किसानों में अपनी पैठ बनाने के लिए पार्टी ने अनुसूचित मोर्चा, पिछड़ा वर्ग और किसान मोर्चा के सम्मेलनों का आयोजन करने जा रही है। इस सम्मलनों के जरिए भाजपा हर जाति और समुदाय के लोग को साधने की कोशिश करेगी। जिन 12 सीटों पर चुनाव होना है, इसमें दस पर भाजपा का कब्जा रहा है। वहीं रामपुर की सीट सपा और जलालपुर की सीट बसपा के पास थी। भाजपा सभी सीटों पर जीत दर्ज करना चाहती है ताकि 2022 में होने वाले विधान सभा चुनाव से पहले जनता को सकारात्मक संदेश दे सके।

चुनाव के लिए तैयार: मनीष शुक्ल

भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता मनीष शुक्ल का कहना हैं कि भाजपा उपचुनाव के लिए पूरी तरह तैयार है। पार्टी ने चुनाव कार्यालय खोल दिए हैं। संयोजकों की नियुक्ति की जा चुकी है। पार्टी ऐसे प्रत्याशी की तलाश में है जो पुराना कार्यकर्ता और अच्छी छवि का हो।

21 अक्टूबर को इन सीटों पर होंगे चुनाव

प्रदेश की 11 विधान सभा सीटों के लिए उपचुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है। इन सीटों पर 21 अक्टूबर को मतदान होगा। जिन सीटों पर चुनाव होने हैं, उसमें लखनऊ कैंट, मानिकपुर, गंगोह, बलहा, प्रतापगढ़, घोसी, जलालपुर, रामपुर, इगलास, जैदपुर और गोविंदनगर शामिल हैं।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.