गोवर्धन मंदिर का होगा जीर्णोद्धार शासन ने स्वीकृत किए 80 लाख

  • रंग लाया सदर विधायक प्रतीक भूषण सिंह का प्रयास
  • कार्यदायी संस्था आवास विकास को मिली जिम्मेदारी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
गोंडा। शहर के ऐतिहासिक सगरा तालाब के बीच बने गोवर्धन मंदिर के दिन बहुरने जा रहे हैं। जल्द ही इस मंदिर का जीर्णोद्धार कराकर इसे भव्य स्वरूप दिया जाएगा। सदर विधायक प्रतीक भूषण सिंह के प्रयास से प्रदेश सरकार ने इस मंदिर के जीर्णोद्धार के लिए 80 लाख रुपये स्वीकृत किए हैं। मंदिर के कायाकल्प की जिम्मेदारी कार्यदायी संस्था आवास विकास को सौंपी गई है। आवास विकास ने इसके लिए टेंडर प्रक्रिया प्रारंभ कर दी है। बरसात का मौसम खत्म होते ही इस पर काम शुरू होने की
उम्मीद है।
शहर के मालवीय नगर स्थित सगरा तालाब का निर्माण प्रथम स्वतंत्रता संग्राम सेनानी व गोंडा नरेश महाराजा देवी बक्श सिंह ने करीब दो सौ वर्ष पूर्व कराया था। वृंदावन की तर्ज पर इस स्थान को विकसित करने के लिए महाराजा ने तालाब के बीचोंबीच टापू बनाकर गोवर्धन पर्वत, श्याम सदन, कृष्ण कुंज व गोवर्धन मंदिर का निर्माण भी कराया गया था, लेकिन बदलते समय व प्रशासनिक उदासीनता के चलते यह तालाब व मंदिर दोनों जीर्णशीर्ण अवस्था में पहुंच गए और 7 एकड़ में बना यह तालाब धीरे-धीरे अतिक्रमण का शिकार हो गया।
वर्ष 1999-2000 में तत्कालीन जिलाधिकारी मार्कण्डेय सिंह ने पहले बार इस तालाब के ऐतिहासिक महत्व व प्राचीन भारतीय स्थापत्य कला के अद्भुत स्वरूप का महत्व समझा और इसके सौन्दर्यीकरण की पहल की। डीएम के निर्देश पर तत्कालीन प्रभागीय वनाधिकारी के मुरलीधर राव ने 16.40 लाख रुपये की लागत से इसके विकास की कार्ययोजना तैयार की थी लेकिन डीएम के तबादले के बाद यह कार्रवाई ठप पड़ गई। वर्ष 2012 में जिले की डीएम रहीं डा. रोशन जैकब ने सागर तालाब को अतिक्रमण से मुक्त कराकर इसके चारों तरफ रास्ते का निर्माण कराया। उन्होंने टापू की सफाई तो करा दिया लेकिन इसी बीच उनका भी तबादला हो गया और तालाब के बीच बने गोवर्धन पर्वत, श्याम सदन, मंदिर और कृष्ण कुंज का विकास नहीं हो सका। प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद सदर विधानसभा से विधायक बने प्रतीक भूषण सिंह ने इस ऐतिहासिक तालाब के विकास की पहल की और शासन स्तर पर इसकी पैरवी शुरू की। विधायक की पैरवी पर राज्य पर्यटन विकास विभाग ने सहमति जताते हुए इस पर खर्च होने वाले बजट का स्टीमेट मांगा था। इस पर नगर पालिका परिषद ने करीब एक करोड़ रुपये का प्रस्ताव शासन को भेजा था। इस प्रस्ताव पर शासन ने गोवर्धन मंदिर के जीर्णोद्धार के लिए 80 लाख रुपये का बजट स्वीकृत किया है और इसके जीर्णोद्धार की जिम्मेदारी कार्यदायी संस्था आवास विकास को सौंपी है। शासन से स्वीकृति मिलने के बाद आवास विकास ने इसके लिए टेंडर प्रक्रिया प्रारंभ कर दी है। बरसात कम होते ही इस पर कार्य शुरू होने की उम्मीद है।

ऐतिहासिक सगरा तालाब व उसके बीच बने गोवर्धन मंदिर के जीर्णोद्धार के लिए दो साल से प्रयास चल रहा था। अब शासन ने इस प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान करते हुए 80 लाख रुपये स्वीकृत किए हैं। इस धनराशि से सगरा तालाब व गोवर्धन मंदिर की पुरानी भव्यता फिर से बहाल हो सकेगी।
-प्रतीक भूषण सिंह, विधायक सदर

 

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.