पौधरोपण में लापरवाही बरतने वाले वन दारोगा व वन रक्षक सस्पेंड, सीओ को नोटिस

4पीएम में खबर छपने के बाद वन संरक्षक ने कराई जांच, दोषी मिले अफसर

  • 4पीएम ने ‘पौधरोपण अभियान को पलीता, सूख गए 24 हजार पौधे’ शीर्षक से छापी थी खबर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
गोंडा। तरबगंज तहसील में कराए गए पौधरोपण अभियान में लापरवाही बरतने वाले क्षेत्र के वन दारोगा और वन रक्षक पर निलंबन की गाज गिरी है। देवी पाटन मंडल के वन संरक्षक ने जांच में दोषी पाए जाने पर दोनों अफसरों को निलंबित कर दिया है। साथ ही तरबगंज क्षेत्र के क्षेत्राधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है। बता दें, 4पीएम ने अपने 3 सितंबर के अंक में ‘पौधरोपण अभियान को पलीता, सूख गए 24 हजार पौधे’ शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी। इसके बाद देवी पाटन मंडल के आयुक्त ने वन विभाग के अफसरों को फटकार लगाई थी और मामले की जांच के निर्देश दिए थे। खबर प्रकाशन के बाद मंडल के मुख्य वन संरक्षक की टीम मौके पर गई थी और पौधरोपण अभियान की सच्चाई की पड़ताल की। इस पड़ताल में फारेस्टर, फारेस्ट गार्ड और सीओ फारेस्ट की लापरवाही सामने आई थी। जिसे गंभीरता से लेकर कार्रवाई की गई है।
मुख्यमंत्री के पौधरोपण अभियान के तहत वन विभाग को तरबगंज के ग्राम पंचायत नारायणपुर तथा ग्राम पंचायत बौरिहा में 125 बीघा जमीन पर जुलाई माह में पौधरोपण करना था। इसी तरह ग्राम पंचायत सिंगहा चंदा के खाले दुबरा में 11 हजार, ग्राम पंचायत अकबरपुर  में 6 हेक्टेयर  में 6 हजार, तरबगंज पकड़ी अमदही मार्ग पर 55 सौ व करनैलगंज नवाबगंज मार्ग पर 55 सौ पौधे रोपित किए जाने थे। इसके लिए वन विभाग ने 40 हजार पौधों को सडक़ किनारे बाग में रखवाया था। लेकिन इसमें से करीब 16 हजार पौधे ही रोपे गए। बाकी सभी पौधे सडक़ किनारे ही डंप पड़े रहे और सूख गये। उधर वन विभाग के अफसरों ने कागजों में इन सभी पौधों को रोपित दिखाकर लाखों रुपये हड़प लिए। इस मामले में क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता घनश्याम जायसवाल ने वन विभाग के अफसरों पर पौधरोपण के लिए भेजी गई धनराशि को हड़पने का आरोप लगाते हुए इसकी शिकायत की थी। 4पीएम ने पौधरोपण अभियान को पलीता लता रहे लोगों की कारिस्तानी को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। इस खबर का संज्ञान लेकर देवी पाटन मंडल के आयुक्त महेंद्र कुमार ने वन विभाग के अफसरों को मामले की जांच के निर्देश दिए थे। इसके अलावा मंडल के चीफ कंजर्वेटर विष्णु सिंह की टीम भी मौके पर जांच के लिए पहुंची थी। जांच के दौरान टीम ने पाया कि पौधरोपण के लिए लगाए मजदूरों को मजदूरी की भुगतान नहीं किया गया जिससे मजदूरों ने इस अभियान से किनारा कर लिया। इससे जो पौधे इन गांवों में भेजे गए थे उनमें से अधिकतर पौधे डंप पड़े रह गए और सूख गए। इस मामले में वहां के वन दारोगा अनिल कुमार सिंह, वन रक्षक सोहबत लाल व वन क्षेत्राधिकारी के.के मिश्रा की लापरवाही सामने आई थी। जांच के बाद मंडल के वन संरक्षक एके शुक्ला ने वन दारोगा अनिल कुमार सिंह व वन रक्षक सोहबत लाल को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है। साथ ही क्षेत्राधिकारी के.के मिश्रा को कारण बताओ नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है। प्रभागीय वनाधिकारी राजकुमार तिवारी ने बताया कि लापरवाही बरतने वाले दोनों अफसरों को सस्पेंड कर दिया गया है। साथ ही जो पौधे बच गए हैं उन्हें फिर से रोपित कराया जा रहा है।

डीएम ने एक सप्ताह में मांगी पौधरोपण की सत्यापन रिपोर्ट

पौधरोपण अभियान में लापरवाही सामने आने के बाद डीएम गोंडा ने भी नाराजगी जताई है। डीएम डा. नितिन बंसल ने प्रभारी वन अधिकारी राजकुमार तिवारी से एक सप्ताह के भीतर पौधरोपण अभियान की सत्यापन रिपोर्ट मांगी है। इस खुलासे और कार्रवाई के बाद वन विभाग के अफसरों में खलबली मची हुई है।

जमीन चयन से लेकर गड्ढे बनाने तक में लापरवाही

प्रभागीय वन अधिकारी राजकुमार तिवारी ने बताया कि जांच के दौरान यह बात भी सामने आई कि पौधरोपण के लिए जिस जमीन का चयन किया गया वह भी सही नहीं है। चयनित जमीन पर बड़ी-बड़ी घास उगी हुई है। ऐसी जमीन पर 8 फिट से उपर के पौधे रोपित किए जाते तो वह बच सकते थे लेकिन वहां पर छोटे पौधों का रोपण कर दिया गया जो दिखाई ही नहीं पड़े और रखरखाव के अभाव में सूख गए। इसके अलावा निर्धारित संख्या में पौधरोपण के लिए गड्ढे भी नहीं खोदे गए।

4पीएम ने छापी खबर तो महापौर ने लिया संज्ञान, नगर आयुक्त से खरीद-फरोख्त का ब्यौरा तलब

  • मार्ग प्रकाश विभाग ने जेम पोर्टल से सामान की खरीदारी की प्राथमिकता को दरकिनार कर अखबारों में छपवाया टेंडर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। नगर निगम के मार्ग प्रकाश विभाग की ओर से पिछले दिनों लाइटिंग संबंधी सामान की खरीद के लिए वार्षिक निविदा सूचना अखबारों में प्रकाशित की गई। मगर यह खरीदारी जेम पोर्टल से नहीं की गई। इस मामले को जब 4पीएम ने प्रमुखता से छापा तो महापौर संयुक्ता भाटिया ने मामले का संज्ञान लेते हुए नगर आयुक्त इन्द्रमणि त्रिपाठी को पत्र लिखा। महापौर ने बताया कि नगर आयुक्त से खरीदारी का ब्यौरा मांगा गया है।
4पीएम ने शुक्रवार के अंक में ‘जेम पोर्टल को ठेंगा दिखाकर लाखों की खरीदारी पुरानी व्यवस्था से कर रहा नगर निगम’ शीर्षक से एक खबर छापी थी। जिसमें खुलासा किया गया कि नगर निगम ने बीते 29 जुलाई को मार्ग प्रकाश विभाग की ओर से लाइटिंग संबंधी सामान की खरीद के लिए वार्षिक निविदा सूचना अखबारों में प्रकाशित की थी। इसमें हाईलोजन, वायर, माइक, पर्दा, सिस्टम, इलेक्ट्रानिक कर्टन, एलईडी, रिफ्लेक्टर, स्विच, स्टील ट्यूबलाइट, पोल की आपूर्ति होनी थी। वहीं, 4 सितम्बर को टेंडर प्रक्रिया भी सम्पन्न हो गई। जबकि दूसरे विभागों में जेम पोर्टल के माध्यम से जरूरत की चीजें खरीदी जा रही हैं।
इस मामले में नगर निगम के मार्ग प्रकाश प्रभारी राम नगीना त्रिपाठी का कहना है कि जेम पोर्टल पर जब कभी सामान उपलब्ध नहीं होता या सामान मार्केट से महंगा होता है तो टेंडर प्रकाशित किया जाता है। बता दें कि सरकारी विभागों में की जा रही खरीदारी में पारदर्शिता लाने और कमीशनबाजी को खत्म करने के लिए सरकार ने जेम पोर्टल से खरीदारी के निर्देश दिए थे। इस मामले में नगर आयुक्त से कई बार बात करने का प्रयास किया गया लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने इटावा के डीएम जेबी सिंह को किया सम्मानित

  • लिंगानुपात के आंकड़ों में बढ़ोतरी की वजह से प्रदेश का प्रथम जिला बना इटावा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने दिल्ली के द अशोका होटल चाणक्यपुरी में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान लिंगानुपात की दर बढ़ाने का अभूतपूर्व काम करने में सफल होने को लेकर इटावा के डीएम जेबी सिंह को सम्मानित किया। यह उपलब्धि जिले की तरफ से बेटी बचाओ, बेटी पढाओ समेत अनेकों मुहिम चलाकर लोगों को जागरूक करने के परिणाम स्वरूप मिली है। लिंगानुपात बढ़ाने को लेकर सम्मानित होने वाला इटावा यूपी का अकेला जनपद है। जेबी सिंह के मुताबिक वर्ष 2014-15 में इटावा जनपद में लिंगानुपात जहां 1000 पुरुषों पर 887 था, वह 2018-19 में बढक़र 1000 पुरुषों पर 939 महिला हो गया है। यह बहुत बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है। इसलिए केंद्रीय मंत्री ने जिले में लिंगानुपात बढऩे को लेकर इटावा को सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया। वह उम्मीद करते हैं कि प्रदेश के अन्य जिलों में भी बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ अभियान के ऐसे ही बेहतर परिणाम आएंगे।

 

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.