मैंने प्यार किया रिलीज हुई थी तब मैं हाफ पेंट में घूमता था: प्रभास

भास की हालिया रिलीज फिल्म साहो बॉक्स ऑफिस पर अब तक अच्छा प्रदर्शन कर रही है। बाहुबली के बाद प्रभास अब हिंदी भाषी क्षेत्र में भी अपनी पहचान बनाने में सफल हो गए हैं और फिल्म के हिंदी वर्जन ने मात्र 5 दिनों में सौ करोड़ से ज्यादा का कलेक्शन कर लिया है। पेश है प्रभास से बातचीत।
क्तक्या आने वाले समय में फिर हिंदी फिल्मों में दिखाई देंगे आप?
निर्भर करता है कि मेरे पास कैसी स्क्रिप्ट्स आती हैं। तमिल और तेलुगु तो करता ही हूं। हिंदी भी कर रहा हूं। मलयालम सिनेमा करना है। इसके अलावा भी कुछ और रीजनल सिनेमा है जिसके बारे में सोच रहा हूं।
क्तक्या बाहुबली के बाद दक्षिण और हिंदी फिल्मों में दूरी कम हुई है?
हां, दूरी कम हुई है। लेकिन दक्षिण में तो पहले भी हिंदी फिल्में पसंद की जाती रही हैं। मेरी मां विजयवाड़ा के करीब बसे गन्नावरम नाम के छोटे से शहर से हैं। वहां पर मैंने प्यार किया लगातार 100 से भी ज्यादा दिनों तक चली थी। मेरे नानाजी को ये फिल्म बहुत पसंद थी और वे सलमान खान के फैन बन गए थे।
क्तआपने एक बार कहा था कि बाहुबली के बाद आप ऐसी फिल्म करेंगे जो जल्दी पूरी हो जाए।
हां, लेकिन साहो ने भी बहुत समय ले लिया। मैंने सोचा था कि बाहुबली ऐसी फिल्म थी जिसमें काफी समय लग गया और साहो तो एक साल में खत्म हो जाएगी, लेकिन हमारे एक एक्शन सीक्वेंस को ही फिल्माने में आठ महीने लग गए। 50 लोग हॉलीवुड से आए थे इस एक्शन सीन के लिए।
क्तआपको देख कर लगता है सलमान और शाहरुख के लिए प्रतिद्वंदी आ गया है?
बिल्कुल भी नहीं। मैंने तो कहा ना कि मेरे नाना को सलमान की मैंने प्यार किया पसंद थी। तब मैं शायद हाफ पैंट पहन कर घूमता था। मैं उन दोनों का फैन हूं। एक फैन किसी को कॉम्पिटिशन कैसे दे सकता है? ये दोनों वर्षों से काम करते चले आ रहे हैं। कितने सारे लोगों के लिए प्रेरणा बने हैं।
क्तसाहो में आप थोड़े ग्रे शेड वाले किरदार में नजर आए हैं।
मैं तो बाहुबली के बाद कोई हल्की-फुल्की रोमांटिक फिल्म करना चाहता था, लेकिन साहो आ गई सामने। जहां तक मेरे ग्रे रोल का सवाल है तो ये अच्छा है। ग्रे-शेड सबको पसंद आते हैं। थोड़े इंट्रेस्टिंग भी होते हैं।

 

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.