उपचुनाव के मैदान में दो-दो हाथ करने को तैयार छोटे दल

  • शिवसेना, रालोद और नागरिक एकता पार्टी रणनीति बनाने में जुटीं
  • संगठन और जनाधार बढ़ाने पर दे रही जोर भाजपा समेत बड़े दलों से होगा मुकाबला

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधान सभा उपचुनाव का मैदान सज गया है। बड़े दलों के साथ छोटे दल भी दो-दो हाथ करने को तैयार नजर आ रहे हैं। शिवसेना, रालोद, सुभासपा और नागरिक एकता पार्टी पूरी ताकत से चुनाव लडऩे का मन बना चुकी है। इन पार्टियों के नेता चुनावी रणनीति बना रहे हैं। उपचुनाव वाले क्षेत्रों में जनाधार बढ़ाने और संगठन को मजबूत करने पर नेता जोर दे रहे हैं। इन छोटे दलों का मुकाबला भाजपा, सपा, बसपा जैसे बड़े दलों से होना है।
सूबे की 13 विधान सभा सीटों पर उपचुनाव होना है। भाजपा, सपा और बसपा इन चुनावों में अपने दम पर चुनाव लडऩे को तैयार है वहीं छोटे दल भी कोई कोर कसर नहीं छोडऩा चाहते हैं। पश्चिम उत्तर प्रदेश में खासा प्रभाव रखने वाली रालोद भी उपचुनाव में किस्मत आजमाने उतर रही है। वह सभी सीटों पर चुनाव लडऩे की तैयारी कर रही है। रालोद के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. मकसूद अहमद का कहना कि उनकी पार्टी उपचुनाव की सभी सीटों पर लडऩे की तैयारी कर रही है। पार्टी का शीर्ष नेतृत्व जल्द ही बैठक कर अपनी रणनीति को स्पष्टï कर देगा। सीटों के बारे में जल्द घोषणा कर दी जाएगी। संगठन को मजबूत करने का काम तेजी से चल रहा है। वहीं केंद्र सरकार में भाजपा की सहयोगी शिवसेना यूपी में एकला चलो की नीति पर काम कर रही है। वह यहां भाजपा के साथ मिलकर चुनाव नहीं लड़ेगी। पार्टी के उत्तर प्रदेश प्रमुख संजय ने बताया कि उनकी पार्टी उपचुनाव में केवल छह सीटों पर लड़ेगी। इसके लिए पूरी तैयारियां की जा रही हैं। इन सीटों पर जनाधार बढ़ाने का काम किया जा रहा है और पार्टी पूरी मजबूती से चुनाव लड़ेगी।
इसके अलावा नागरिक एकता पार्टी भी उपचुनाव को लेकर काफी उत्साहित है। वह पूरी तैयारी के साथ मैदान में उतरने की तैयारी कर रही है। पार्टी अध्यक्ष समीम खान का कहना है कि उनके नेता बूथ स्तर पर लगातार बैठक कर रहे हैं। पार्टी जोर-शोर से सदस्यता अभियान चला रही है। उनकी पार्टी उपचुनाव के लिए पूरी तरह से तैयार है और जल्द ही उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की जाएगी।

सहयोगी की तलाश में सुभासपा

लखनऊ। (4पीएम न्यूज़ नेटवर्क) भाजपा की सहयोगी रह चुकी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी भी उपचुनाव को लेकर अपनी तैयारियां तेज कर चुकी है। हालांकि वह उपचुनाव में गठबंधन के लिए सहयोगी की तलाश भी कर रही है। सुभासपा नेता अरुण राजभर का कहना है कि पार्टी संगठन उपचुनाव में पूरी ताकत से लड़ेगी। वे उपचुनाव वाली विधान सभा सीटों पर अपना प्रत्याशी उतारने के लिए अपने संगठन को मजबूत कर रहे हैं। गठबंधन के सवाल पर उन्होंने कहा कि जिस भी पार्टी की विचारधारा उनसे मिलेगी वे उस पार्टी से गठबंधन कर सकते हैं। साथी की तलाश के बीच सुभासपा ने अपने कार्यक्रम भी जारी कर दिए हैं। पार्टी के कार्यक्रम अगले सप्ताह से शुरू हो जाएंगे। ये कार्यक्रम जलालपुर, बलहा और घोसी में तय किए गए हैं।

क्षेत्रीय और जातीय समीकरण पर फोकस
छोटे दल भी बड़े दलों की तरह क्षेत्रीय और जातीय समीकरण पर फोकस कर रहे हैं। उपचुनाव वाली सीटों पर इसी आधार पर रणनीति तैयार कर प्रत्याशियों का चयन किया जाएगा। हालांकि बड़े दलों के सामने इनके ये समीकरण कितना टिक पाएंगे,
ये तो चुनाव परिणाम के बाद ही पता चलेगा।

 

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.