बिजली दरों में बढ़ोतरी के खिलाफ आम आदमी पार्टी का प्रदर्शन

  • कहा, जनता को राहत देने के लिए बढ़ोतरी वापस ले सरकार

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। आम आदमी पार्टी ने प्रदेश में बिजली के बढ़े हुए दामों के खिलाफ गांधी प्रतिमा पर एकजुट होकर प्रदर्शन किया और बिजली के बिलों की प्रतियों को जलाया। आप पदाधिकारियों ने बिजली की बढ़ी दरों को वापस लेने का राज्यपाल को संबोधित पत्र जिला प्रशासन को सौंपा।
प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार बिजली के दाम बढ़ाकर मंदी के दौर में आम आदमी की कमर तोड़ रही है। वहीं दूसरी ओर दिल्ली की अरविंद केजरीवाल की सरकार है, जो इसी मंदी में आम आदमी की बचत का सहारा बन रही है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार को केजरीवाल से सीख लेनी चाहिए। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता उत्तर प्रदेश वैभव माहेश्वरी ने उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के उस बयान पर तीखी प्रतिक्रिया जाहिर की जिसमें उन्होंने बिजली के दाम बढ़ाने के लिए पूर्ववर्ती सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि यदि योगी सरकार पिछली सरकार की गलतियों को सुधारने का एक भी कदम उठाती तो बिजली के दाम आधे तक कम किये जा सकते थे। उन्होंने इस वृद्धि को अवैध और अनैतिक बताते हुए इसको तुरंत वापस लेने की मांग की है।

प्रशासन ने राधेलाल स्वीट्स का लाइसेंस किया निलंबित

  • एफएसडीए ने किचन में गंदगी मिलने पर की कार्रवाई

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अलीगंज स्थित राधेलाल स्वीट्स के किचन में गंदगी मिलने के बाद प्रशासन ने दुकान का खाद्य लाइसेंस निलंबित कर दिया। एफएसडीए की टीम आगे की कार्रवाई के लिए सैंपल की रिपोर्ट आने का इंतजार कर रही है।
राधेलाल स्वीट्स में एफएसडीए की टीम ने मंगलवार को छापेमारी की थी। टीम के सदस्यों को किचन में काफी गंदगी मिली थी। देशी घी में मरी हुई मक्खियां मिलने के साथ ही किचन के फर्श और बर्तनों में कीड़े बजबजाते मिले थे। इसके अलावा किचन में कुछ भी मानक के अनुसार नहीं था। एफएसडीए की टीम ने राधेलाल स्वीट्स से मिठाइयों और देशी घी के नौ नमूने लेकर जांच के लिए भेजे थे। एफएसडीए के सीएफएसओ सुरेश मिश्रा ने बताया कि प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर राधेलाल स्वीट्स के खाद्य पदार्थ का लाइसेंस निलंबित कर दिया गया है। मिठाइयों के नमूने की जांच रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

 

 

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.