मेहनत से ही लिखी जाती है तकदीर: सर्वेश गोयल

अगर परिवार में बड़े स्तर का व्यापार होता है तो आमतौर पर बच्चे भी उसी व्यापार में शामिल हो जाते हैं मगर सर्वेश गोयल ने जब अपने परिवार की कई पीढिय़ों से चल रहे व्यापार को छोडक़र दस साल पहले जंगल जैसे इलाके में शानदार स्कूल बनाने की सोची तो सभी ने कहा यह आत्मघाती फैसला है। सरकारी सिस्टम ने भी उनको परेशान करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। एक दौर ऐसा भी आया जब पिता ने कहा जिंदगी भर का कमाया सब कुछ तबाह हो गया मगर इतिहास ऐसे ही लिखे जाते हैं। इन परेशानियों से जूझते हुए आज जीडी गोयनका स्कूल पूरे लखनऊ की शान बन चुका है। चाहे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह हों या सीएम योगी आदित्यनाथ, पूर्व राज्यपाल राम नाईक हों या पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सभी इस स्कूल में आये और इसकी सराहना की। पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी यहां के बच्चों से मिलकर बहुत खुश हुए तो उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने सर्वेश का सम्मान करते हुए उनकी उपलब्धि की सराहना की। रणवीर सिंह, दीपिका पादुकोण, अभय देयोल, अर्जुन कपूर, वरूण धवन , आलिया भट्ट जैसी दर्जनों फिल्मी हस्तियां इस स्कूल में आकर बच्चों से मिल चुकी हैं। सर्वेश गोयल ने स्कूल की पढ़ाई को अंतराष्ट्रीय मानकों तक पहुंचा दिया है। 4पीएम के संपादक संजय शर्मा ने सर्वेश गोयल से उनके जीवन संघर्ष और सफलता के विभिन्न पहलुओं पर बातचीत की। पेश हैं उसके अंश…

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.