योगी की नई सेना तैयार 23 मंत्रियों ने ली शपथ

  • पहले मंत्रिमंडल विस्तार में सभी जाति और क्षेत्र को साधने की कोशिश
  • छह कैबिनेट मंत्रियों, छह राज्य मंत्रियों (स्वतंत्र प्रभार) और 11 राज्य मंत्रियों ने ली शपथ
  • 18 नए चेहरों को किया गया शामिल, राज्यपाल ने दिलाई शपथ, जय श्रीराम के लगे नारे

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अपने पहले मंत्रिमंडल विस्तार में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने क्षेत्रीय और जातिगत समीकरण को साधने की कोशिश की है। पहले मंत्रिमंडल विस्तार में आज छह कैबिनेट मंत्रियों, छह राज्य मंत्रियों (स्वतंत्र प्रभार) और 11 राज्य मंत्रियों ने शपथ ली। इसमें 18 नए चेहरों को शामिल किया गया, जबकि पांच को प्रमोट करके कैबिनेट मंत्री बनाया गया है। इसमें चार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) को प्रमोट कर कैबिनेट मंत्री बनाया गया है, जबकि एक राज्यमंत्री को प्रमोट कर राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बनाया गया है। राजभवन में आयोजित समारोह में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने नवनियुक्त मंत्रियों को शपथ दिलाई।
नए मंत्रियों के शपथ ग्रहण के बाद राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और सीएम योगी आदित्यनाथ ने सभी नवनियुक्त मंत्रियों को पुष्पगुच्छ देकर सम्मानित किया। इस दौरान जय श्रीराम के नारे भी लगे। योगी मंत्रिमंडल विस्तार में 2022 के विधानसभा चुनाव की चिंता साफ दिखी। अपने पहले विस्तार में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने क्षेत्रीय और जातिगत समीकरण को साधने की पूरी कोशिश की है। 23 मंत्रियों में से 6 ब्राह्मïण, दो क्षत्रिय, दो जाट, एक गुर्जर, तीन दलित, दो कुर्मी, एक राजभर, एक गड़रिया, तीन वैश्य, एक शाक्य और एक मल्लाह हैं। इस विस्तार में युवाओं को तवज्जो देने की पूरी कोशिश की गई है। दूसरी ओर जिन क्षेत्रों को अभी तक मंत्रिमंडल में हिस्सेदारी नहीं मिली थी उनका भी ध्यान रखा गया। आगरा, बुंदेलखंड, मुजफ्फरनगर, वाराणसी, बस्ती और कानपुर मंडलों में भारी जीत दर्ज करने के बावजूद प्रतिनिधित्व नहीं मिला था। लिहाजा योगी मंत्रिमंडल के पहले विस्तार में इनको भी पर्याप्त प्रतिनिधित्व दिया गया।

आज हो सकता है विभागों का बंटवारा
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज ही विभागों का बंटवारा कर सकते हैं। कुछ मंत्रियों के विभागों में बदलाव भी संभव है। साथ ही सीएम योगी आज नए मंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। माना जा रहा है कि नए मंत्रियों के सामने सरकार का एजेंडा रखा जाएगा।

पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी ने मारी बाजी
पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय सीट वाराणसी के शहर उत्तरी से दो बार विधायक रहे भाजपा के वरिष्ठ नेता रवींद्र जायसवाल को राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार के रूप में शपथ दिलाई गई है तो राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रहे अनिल राजभर का प्रमोशन कर कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है। वहीं डा. नीलकंठ तिवारी को राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार के रूप में शपथ दिलाई गई है।

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)
नील कंठ तिवारी
कपिल देव अग्रवाल
सतीश द्विवेदी
अशोक कटारिया
श्रीराम चौहान
रवींद्र जायसवाल

राज्य मंत्री
अनिल शर्मा
महेश गुप्ता
आनंद स्वरूप शुक्ल
विजय कश्यप
डॉ. गिरिराज सिंह धर्मेश
लाखन सिंह राजपूत
नीलिमा कटियार
चौधरी उदयभान सिंह
चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय
रमाशंकर सिंह पटेल
अजीत सिंह पाल

महेंद्र सिंह
महेंद्र सिंह भाजपा से एमएलसी हैं। 2016 में असम विधान सभा चुनाव में उन्होंने भाजपा को भारी सफलता दिलाई थी।

सुरेश राणा
सुरेश राणा ने थानाभवन विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव जीता था और वर्तमान में योगी कैबिनेट में गन्ना
मंत्री है।

कमल रानी
वर्तमान में कमल रानी वरुण घाटमपुर से विधायक हैं। 1996 और 1998 में घाटमपुर लोकसभा क्षेत्र से सांसद बनीं थीं।

भूपेंद्र सिंह चौधरी
2016 में उत्तर प्रदेश विधान परिषद के लिए चुने गए। वह 1990 से भाजपा के साथ हैं और विभिन्न पदों पर रहे हैं।

अनिल राजभर
अनिल राजभर शिवपुर
विधानसभा क्षेत्र
से विधायक हैं। पूर्वांचल में इनका काफी प्रभाव है।

रामनरेश अग्निहोत्री
वर्तमान में वे भोगांव विधान सभा सीट से विधायक हैं। इन्होंने मैनपुरी में भाजपा का खाता खोलने का काम किया था।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.