विश्वासघात

मॉम! मैं सोच रही थी! कि आज रात को मैं शिखा के घर पर ही रुक जाऊंगी। थोड़ी कम्बाइन्ड स्टडी करनी है, वो परसों मैथ्स का टेस्ट है न उसी की तैयारी करनी है। किताबें समेटते हुए चारू बोलती जा रही थी! पर बेटा रात को किसी के घर रुकना मुझे तो ठीक नहीं लगता। मॉम! नाराज होती हुई चारू ने कहा, देखो न पापा मां जाने नहीं दे रहीं। पापा मां पर नाराज होते हुए बोले, अरे रुक जाने दो ना चारू को उसकी सहेली के घर, एक रात की ही तो बात है। अपने बच्चों पर विश्वास करना सीखो! जाओ बेटा! जाओ! चारू ने पापा को थैंक्स कहा और अपनी स्कूटी से निकल गयी। रात का एक बजा था, फोन की घनघनाहट सुन कर वर्मा जी घबरा कर उठे, फोन पर आवाज आयी, मि. वर्मा आप तुरन्त थाना गांधी नगर आने का कष्ट करें। यह सुनकर वर्मा जी की सांसें गले में अटक गयीं, डर रहे थे की कहीं कोई अनहोनी ना हुई हो। कहीं बेटी को तो कुछ… बदहवास थाने पहुंचे, देखा दस-पंद्रह लडक़े लड़कियां मुंह छिपाये बैठे थे उनमें अपनी चारू को पहचानने में जरा भी देर नहीं लगी। देखिये वर्मा जी! ये बच्चे दिल्ली के बाहर एक फार्म हाउस में ड्रग्स के साथ रेव पार्टी करते हुए पकड़े गये हैं! आप लोग न जाने अपने बच्चों को कैसे संस्कार देते हैं। न जाने इतनी रात गए घर से बाहर निकलने की परमीशन कैसे दे देते हैं आप लोग, शर्म आनी चाहिए! वर्मा जी का सिर शर्म से झुका जा रहा था, वो बस एक ही बात सोच रहे थे, जब उन्होंने अपनी बेटी पर इतना विश्वास किया तो आखिर क्यों उनकी बेटी ने उनके साथ विश्वासघात कर दिया! दोस्तों, इस दुनिया में कोई है जो आपका सबसे अधिक ध्यान रखता है सबसे अधिक आपका भला चाहता है। तो वो आपके माता-पिता हैं। वो आपको ऊपर से सख्त लग सकते हैं पर उनके भीतर आपके लिए आपार प्रेम होता है। इसलिए कभी भी आपको उस प्रेम का नाजायज फायदा नहीं उठाना चाहिए, कभी भी आपको उनके विश्वास के साथ विश्वासघात नहीं करना चाहिए!

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.