प्रदेश में पर्यटन की अपार संभावनाएं सरकार करेगी सहयोग: सीएम योगी

  • कहा, संभावनाओं को वास्तविकता में बदल रही सरकार
  • मुख्यमंत्री ने यूपी टे्रवल मार्ट का किया उद्घाटन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग और फिक्की के तत्वावधान में यूपी ट्रेवल मार्ट के पांचवे संस्करण का आयोजन राजधानी के क्लार्क अवध होटल में किया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसका उद्घाटन किया। सीएम ने कहा कि प्रदेश में पर्यटन के विकास की असीम संभावनाए हैंं और सरकार संभावनाओं को वास्तविकता में बदल रही है। सरकार टूर ऑपरेटर्स का सहयोग करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की राजधानी में फिर से यह कार्यक्रम हो रहा है जिसमें डेढ़ दर्जन से अधिक देशों के 50 से अधिक टूर ऑपरेटर्स हिस्सा ले रहे हैं। टूर ऑपरेटर्स की भूमिका पर्यटक और पर्यटन के बीच एक सेतु की होती है। हमारे यहां पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। भारत सरकार ने बौद्ध सर्किट के लिए जिस कार्य को क्रियान्वित किया है उसमें यूपी के छह स्थल शामिल हैं। जैन धर्म के 24 तीर्थंकरों में से 23 उत्तर प्रदेश से जुड़े हैं। रामायण सर्किट के तहत राम-जानकी व रामवनगमन मार्ग पर तेजी से कार्य हो रहा है। उन्होंने कहा कि अयोध्या, मथुरा, काशी, विंध्यवासिनी व देवीपाटन धाम यहां मौजूद हैं। इन स्थलों पर लाखों की संख्या में पर्यटक पहुंचते हैं। प्रयागराज कुंभ बेहतर सुविधा देने का उदाहरण हैं। 48 दिनों में 24 करोड़ श्रद्धालु यहां आए। प्रयागराज कुंभ ने एक मानक स्थापित किया है। सरकार ने 15वां प्रवासी भारतीय दिवस वाराणसी में आयोजित किया। अयोध्या में दीपोत्सव का सफल आयोजन किया गया। 11 नए एयरपोर्ट पर काम चल रहा है। जेवर में ग्रीनफील्ड इंटरनेशनल एयरपोर्ट बना रहे हैं। बुंदेलखंड और पश्चिमी यूपी में एक्सप्रेस वे जल्द बनाए जाएंगे। पर्यटन के विकास से रोजगार के अवसर बढ़ेंगे।

रूस जाएंगे सीएम, कई एमओयू पर होंगे हस्ताक्षर

लखनऊ। (4पीएम न्यूज़ नेटवर्क) मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज शाम रूस दौरे पर रवाना होंगे। इस दौरे का नेतृत्व मुख्यमंत्री करेंगे। यूपी का यह प्रतिनिधिमंडल कृषि, खाद्य प्रसंस्करण तथा ऊर्जा व नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्रों में परस्पर सहयोग के संबंध में विचार-विमर्श करेगा। इन क्षेत्रों में एमओयू हस्ताक्षरित किए जाएंगे। सीएम योगी के साथ 50 उद्यमी भी जाएंगे। रूस के अमूर ओब्लास्ट प्रांत के साथ खाद्य एवं प्रसंस्करण, कृषि इंडस्ट्री, डेयरी और रिन्यूएबल एनर्जी सेक्टर को लेकर एमओयू साइन किए जाएंगे। वहीं उद्यमियों और रूस के अधिकारियों के साथ छह सेशन होंगे।

कांग्रेस में मंथन, नया अध्यक्ष चुनने के लिए बनाई पांच टीम

  • पार्टी मुख्यालय में बैठक, दौड़ में मुकुल वासनिक व मल्लिकार्जुन खडग़े सबसे आगे
  • सोनिया और राहुल ने प्रक्रिया से दूर रहने का लिया फैसला, बैठक छोड़ीें

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली। राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद पार्टी का नया अध्यक्ष चुनने को लेकर कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने पार्टी मुख्यालय पर बैठक की। कांग्रेस ने नया अध्यक्ष चुनने के लिए पांच टीमें बनाई हैं। सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने नए अध्यक्ष के नाम पर सहमति बनाने की प्रक्रिया से खुद को दूर रखने का फैसला किया है। दोनों बैठक छोडक़र चले गए हैं। सोनिया गांधी ने कहा कि हम (सोनिया और राहुल) सहमति बनाने की प्रक्रिया का हिस्सा नहीं होंगे। बैठक में प्रियंका गांधी, पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह, अहमद पटेल, एके एंटनी शामिल थे। नए नए अध्यक्ष की रेस में महाराष्ट्र के युवा कांग्रेस नेता मुकुल वासनिक व मल्लिकार्जुन खडग़े का नाम सबसे आगे है। सीडब्ल्यूसी के तमाम सदस्य अगले दो-तीन दिन तक बाकी नेताओं से चर्चा करके नाम तय करने की प्रक्रिया पूरी करेंगे। राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा था कि सीडब्ल्यूसी अकेले पार्टी अध्यक्ष के नाम पर फैसला नहीं करेगी। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव और सीडब्ल्यूसी सदस्य मिलकर एक नाम की घोषणा कर सकते हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री व गांधी परिवार के वफादार मल्लिकार्जुन खडग़े और मुकुल वासनिक अध्यक्ष की दौड़ में सबसे आगे बताए जा रहे हैं।

सपा के पूर्व राज्यसभा सांसद संजय सेठ और सुरेंद्र नागर भाजपा में शामिल

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सपा नेता सुरेन्द्र सिंह नागर और संजय सेठ भाजपा में शामिल हो गए। दोनों ही राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हुए हैं। भाजपा महासचिव भूपेंद्र यादव ने दोनों नेताओं को भाजपा की सदस्यता दिलाई। सुरेन्द्र नागर और संजय सेठ सपा के बड़े चेहरे रहे हैं। इससे पहले सपा के राज्यसभा सदस्य नीरज शेखर भी पार्टी और राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हुए थे। सुरेंद्र नागर पश्चिमी उत्तर प्रदेश का बड़ा चेहरा रहे हैं। संजय सेठ भी प्रमुख पद पर सपा में रहे हैं। संजय सेठ ने राज्यसभा में जम्मू कश्मीर पुनर्गठन बिल आने से पहले सपा और राज्यसभा दोनों से इस्तीफा दे दिया था। उच्च सदन में उनका कार्यकाल 2022 तक था। कहा जा रहा है कि सेठ और नागर के इस्तीफे से खाली हुई सीटों पर उपचुनाव कराए जाने के बाद भाजपा इन दोनों को फिर से राज्यसभा भेजेगी।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.