अयोध्या को बदनाम करने का किया गया प्रयास: सीएम

  • मुख्यमंत्री ने विपक्ष पर साधा निशाना कहा, कार सेवकों पर चलवाई गई थीं गोलियां
  • कई परियोजनाओं का किया निरीक्षण दिगंबर अखाड़े में बने अतिथि गृह का किया लोकार्पण

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मध्यस्थता के जरिये राम जन्मभूमि विवाद हल करने की कोशिशें नाकाम होने के बाद सुप्रीम कोर्ट द्वारा छह अगस्त से इस मामले पर रोजाना सुनवाई के फैसले के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज भगवान राम की नगरी अयोध्या पहुंचे। सीएम ने दिगंबर अखाड़े में बने अतिथि गृह का लोकार्पण किया। सीएम योगी ने सभा को संबोधित करते हुए विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अयोध्या को बदनाम करने का प्रयास किया गया। हमारी कोशिश है कि अयोध्या के आध्यात्मिक गौरव को पहचान मिले।
उन्होंने कहा कि 1990 में कार सेवकों पर कायराना हमला किया गया। उन पर गोलियां चलवाई गई थी, जिसमें कोठारी बंधुओं सहित कई लोगों ने अपने प्राण न्योछावर कर दिए थे। विकट परिस्थितियों में हमें धैर्य बनाए रखना है। हमें भगवान राम से धैर्य सीखना चाहिए। अयोध्या में दो सालों में बहुत काम हुआ। सौन्दर्यीकरण कराया गया। अयोध्या में दीपोत्सव का भव्य आयोजन किया गया। जिस हक से अयोध्या को वंचित किया गया है, वह हक उसे मिलना चाहिए। सीएम ने परमहंस रामचंद्र दास को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उनका पूरा जीवन रामजन्मभूमि को मुक्त कराने के लिए समर्पित रहा। वे रामजन्मभूमि आंदोलन के अगुवा थे। वे राममंदिर निर्माण के लिए जीवनभर संघर्ष करते रहे।.

भगवान राम की प्रतिमा स्थल का किया निरीक्षण
लखनऊ। (4पीएम न्यूज़ नेटवर्क) सीएम योगी आदित्यनाथ ने आज अयोध्या के मीरापुर दोआबा में भगवान राम की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा के प्रस्तावित स्थल का निरीक्षण किया। 221 मीटर ऊंची राम प्रतिमा का काम शुरू हो गया है। इसमें 151 मीटर की प्रतिमा होगी, उसके ऊपर 20 मीटर ऊंचा छत्र बनेगा और नीचे 50 मीटर ऊंचा बेस बनेगा। इसमें राम कथा म्यूजियम, लाइब्रेरी, राम जन्मभूमि मंदिर का इतिहास दर्शाने वाली सामग्री रखी जाएगी।

छह प्रदर्शनकारियों को लिया गया हिरासत में

लखनऊ। अयोध्या में मीरापुर दोआबा में सीएम योगी आदित्यनाथ के पहुंचने से पहले कुछ लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया। यह प्रदर्शन स्थानीय निवासियों ने किया। उनका आरोप है कि भगवान राम की प्रतिमा के लिए सरकार ने जो भूमि अधिग्रहण की है उसका उन्हें समुचित मुआवजा नहीं मिला। आधा दर्जन लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है।

उन्नाव कांड: पीडि़ता के परिजनों से मिली सीबीआई टीम, रिमांड पर ड्राइवर-क्लीनर

  • उन्नाव रेप पीडि़ता हादसा मामले की कर रही है जांच
  • कुलदीप सेंगर और पीडि़ता के चाचा से भी करेगी पूछताछ

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उन्नाव गैंगरेप पीडि़ता हादसा मामले की गुत्थी सुलझाने के लिए सीबीआई की टीम तेजी से सक्रिय हो गई है। वह आज ट्रामा सेंटर पहुंची जहां पीडि़त और उसके वकील भर्ती हैं। टीम ने परिजनों से पूछताछ की। सीबीआई ने इस मामले में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर, उसके भाई मनोज और अन्य के खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास, आपाराधिक साजिश की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।
उन्नाव के विधायक कुलदीप सेंगर पर रेप का आरोप लगाने वाली पीडि़ता अपने परिजनों समेत रायबरेली से उन्नाव लौटते समय रास्ते में सडक़ हादसे का शिकार हो गई थी। उसकी कार और ट्रक के बीच हुई टक्कर में पीडि़ता की चाची और मौसी की मौके पर मौत हो गई थी, जबकि वह खुद और उसके वकील महेंद्र सिंह चौहान गंभीर रूप से घायल हैं। इन दोनों का लखनऊ के केजीएमयू के ट्रामा सेंटर में इलाज चल रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को इस मामले की रिपोर्ट एक सप्ताह के भीतर जमा करने का आदेश दिया है। वहीं कोर्ट ने ड्राइवर और क्लीनर को तीन दिन की सीबीआई रिमांड में दे दिया है। आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर से जेल में पूछताछ करने की सीबीआई को इजाजत मिल गई है। इसके अलावा पीडि़ता के चाचा से भी सीबीआई पूछताछ करेगी।

Loading...
Pin It

Comments are closed.