प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए बनेगी नई नीति: योगी

  • कहा, युवाओं के लिए रोजगार व स्वरोजगार के अवसर होंगे उपलब्ध

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि उत्तर प्रदेश को देश का सबसे पसंदीदा पर्यटन स्थल बनाने के लिए नई पयर्टन नीति बनाई जा रही है। कृषि की तर्ज पर इस क्षेत्र में सबसे ज्यादा रोजगार एवं स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। इसी कड़ी में ऐतिहासिक धरोहरों को पयर्टन की दृष्टि से संरक्षित करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।
मुख्यमंत्री बुधवार को गोरखपुर में मुक्तेश्वरनाथ मंदिर परिसर स्थल में ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र की 6.54 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण और 5.04 करोड़ रुपये की परियोजना के शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे। इसके पूर्व उन्होंने वैदिक मंत्रों के बीच बाबा मुक्तेश्वर नाथ का जलाभिषेक किया। इसके बाद अपने संबोधन में कहा कि उत्तर प्रदेश में पर्यटन विकास की अपार संभावनाएं हैं। प्रदेश के धार्मिक, पौराणिक, आध्यात्मिक और ऐतिहासिक तीर्थ स्थलों के संरक्षण और संवर्धन का कार्य शुरू हो चुका है। धार्मिक व ऐतिहासिक स्थलों के संरक्षण और संवर्धन की हमारी जिम्मेदारी है। नई पीढ़ी को अपनी धरोहर को और संरक्षित और संवर्धित कर सौंपना होगा, क्योंकि इसी से हमारा अस्तित्व है। उन्होंने कहा कि हर विधानसभा में एक या दो पर्यटन केंद्रों की स्थापना करने की योजना है। इन्वेस्टर्स समिट में 65 हजार करोड़ के निवेश की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि लाखों युवाओं को रोजगार मिलेगा।

ऐतिहासिक स्थलों का होगा पुनरुद्धार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश में गुरु नानक देव से जुड़े सभी ऐतिहासिक स्थलों के पुनरुद्धार एवं सौंदर्यीकरण की व्यापक योजना बनाई जा रही है। उन्होंने सिख संगत को यकीन दिलाया कि 1984 के सिख दंगों के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। एसआईटी की रिपोर्ट आने के बाद दंगों के गुनहगारों को जेल भेजा जाएगा। उन्होंने मोहद्दीपुर और जटाशंकर गुरुद्वारा के सौंदर्यीकरण एवं सूचना संकुल के निर्माण की परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया।

Loading...
Pin It

Comments are closed.