यूपी में पैर पसार रहा हेपेटाइटिस

  • राजधानी के अस्पतालों में आस-पास के जिलों से भी आ रहे रोगी
  • संक्रमण से फैलता है रोग समय पर इलाज नहीं मिलने पर हो जाता है जानलेवा

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में हेपेटाइटिस तेजी से पैर पसार रहा है। राजधानी लखनऊ में भी इसके रोगियों की संख्या साल-दर-साल बढ़ती जा रही है। यहां के सरकारी अस्पतालों में सैकड़ों मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। आस-पास के जिलों से भी रोगी यहां पहुंचते हैं। वहीं चिकित्सकों का कहना है कि जागरूकता से इस रोग को नियंत्रित किया जा सकता है।
हेपेटाइटिस बी और सी से यूपी में लगभग 80 लाख लोग पीडि़त हैं, जबकि हेपेटाइटिस सी से 20 से 25 लाख लोग पीडि़त हैं। इनकी संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। ग्रामीण क्षेत्रों में स्थितियां और भी खराब हैं। जागरूकता के अभाव के चलते हालात बेकाबू हो रहे हैं। बलरामपुर अस्पताल के डा.सुनील कुमार ने बताया कि हेपेटाइटिस बीमारी वायरस से होती है। यह 6 प्रकार का होता है-ए,बी,सी,डी, ई और जी। इनमें हेपेटाइटिस बी तथा सी बहुत खतरनाक हैं। हेपेटाइटिस ए तथा ई का संक्रमण खाने पीने की वस्तुओं के वायरस से दूषित होने के कारण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। यह हेपेटाइटिस प्राय: छह सप्ताह के अंतराल पर दिखाई देने लगता है और रोगी लगभग बिना किसी जटिलता के पूर्ण रूप से ठीक हो जाता है। इसके विपरीत बी,सी व डी से होने वाला हेपेटाइटिस रक्त एवं असुरक्षित यौन संबंधों के द्वारा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है और आगे चल कर सिरोसिस या कैंसर में परिवर्तित हो जाता है। यह बेहद घातक और जानलेवा होता है।

लक्षण-
ड्ड स्किन या आंखों के सफेद हिस्से का पीला पड़ जाना
ड्डएक सप्ताह या ज्यादा दिन तक बुखार का रहना
ड्डभूख कम लगना या नहीं लगना
ड्डबार-बार उल्टी जैसा मन होना

.केजीएमयू में निशुल्क जांच व उपचार
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की ओर से केजीएमयू में हेपेटाइटिस सी की निशुल्क जांच व उपचार की व्यवस्था की गयी है। साथ ही अन्य अस्पतालों में भी इलाज की व्यवस्था है।

मसालेदार व फास्ट फूड को खाने से करें परहेज

हेपेटाइटिस से संक्रमित मरीज को डॉक्टर से नियमित जांच करवानी चाहिए। यह संक्रमण बारिश के दौरान अधिक फैलता है, इसलिए इस मौसम में तैलीय, मसालेदार, मांसाहारी और भारी खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें। फास्ट फूड, केक, पेस्ट्री, चॉकलेट्स, एल्कोहॉल आदि से परहेज करना चाहिए।

हरी सब्जियां खाएं व पिएं नारियल पानी

हेपेटाइटिस से बचने के लिए मरीज को हरी सब्जियां, विटमिन सी युक्त खट्टे फल, पपीता, नारियल पानी, सूखे खजूर, किशमिश, बादाम और इलायची का सेवन करना चाहिए।

अस्पतालों में हेपेटाइटिस के इलाज का पूरा बंदोबस्त है। यह बेहद घातक होता है। यदि समय पर इनका उपचार न किया जाए तो यह लिवर की गंभीर बीमारी जैसे लिवर सिरोसिस और लिवर कैंसर का रूप धारण कर
सकती है।
-डॉ. नरेंद्र अग्रवाल, सीएमओ

Loading...
Pin It

Comments are closed.