जिलों में हो रहा सत्ता का दुरुपयोग: अखिलेश

  • कहा, सरकार ने छीना जनता का अमन चैन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि प्रदेश में भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के चलते जनता का अमन चैन छिन गया है। राज्य के हालात चिंतनीय हो चले हैं। लोकसभा चुनावों के बाद तो जिलों में सत्ता का घोर दुरुपयोग होने लगा है।
अखिलेश यादव ने जारी बयान में कहा कि निर्दोष मारे जा रहे हैं। अपराधिक धाराओं में फर्जी फंसाकर अल्पसंख्यकों का उत्पीडऩ किया जा रहा है। महिलाओं और छात्राओं के साथ रोजाना दुष्कर्म की घटनाएं हो रही है। राज्य भर में जीवन अस्त-व्यस्त और भयग्रस्त है। किसानों, गरीबों, नौजवानों और अल्पसंख्यकों पर अन्याय हो रहा है। थानों में पीडि़त की सुनवाई होती नहीं उल्टे उसका ही उत्पीडऩ किया जाता है। भाजपा राज में जनता अपने को असहाय पा रही है।

उद्यमियों की शिकायतों के निस्तारण में लापरवाही

  • डीएम ने जताई नाराजगी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उद्यमियों की समस्याओं के निस्तारण में कई विभाग रुचि नहीं ले रहे हैं। अधिकारियों की लापरवाही के कारण लंबित शिकायतों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इस बात की जानकारी डीएम कौशल राज शर्मा की उद्यमियों की समस्याओं के निस्तारण के लिए बने निवेश मित्र पोर्ट की समीक्षा में मिली। निवेश पोर्टल पर 1231 शिकायतों का निस्तारण नहीं हुआ है। बता दें, किसी उद्यमी को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से एनओसी चाहिए तो किसी को बिजली कनेक्शन। किसी को विधिक एवं माप विभाग में पंजीकरण कराना है तो कोई अग्निशमन की एनओसी के लिए भटक रहा है। निवेश के लिए आने वाले उद्यमियों को ऐसी तमाम समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। उनकी शिकायतों के निस्तारण में कुछ विभाग लापरवाही बरत रहे हैं।

सरकार को घेरने की तैयारी में विपक्षी पार्टियां

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। यूपी विधानमंडल के दोनों सदनों में इस बार भी जोरदार हंगामा होना तय है। लोकसभा चुनाव के बाद पहली बार विधानसभा बैठ रही है। इसमें विपक्ष अलीगढ़ की घटना सहित कानून-व्यवस्था व गन्ना किसानों का बकाया सहित कई मुद्दों पर राज्य सरकार को घेरने की रणनीति बना रहा है, वहीं राज्य सरकार भी विपक्ष को करारा जवाब देने की तैयारी कर रही है। सत्र 18 जुलाई से शुरू हो रहा है। सपा, बसपा और कांग्रेस जैसे प्रमुख विपक्षी दल प्रदेश की कानून-व्यवस्था को लेकर सरकार को घेरने की रणनीति बना रहे हैं। इस रणनीति को विपक्षी दलों की विधानमंडल दलों की आगामी बैठकों में अंतिम रूप दिया जाएगा। वहीं विधानसभा अध्यक्ष सत्र शुरू होने से पूर्व संयुक्त बैठक करेंगे।

Loading...
Pin It

Comments are closed.