वेंटिलेटर के लिए ट्रामा और बलरामपुर अस्पताल के बीच भटकता रहा मरीज

  • निराश तीमारदार ने मरीज को निजी अस्पताल में कराया भर्ती

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी में चिकित्सा व्यवस्था पटरी पर आती नहीं दिख रही है। वेंटिलेटर के लिए एक मरीज ट्रॉमा सेंटर और बलरामपुर के बीच दौड़ता रहा। निराशा हाथ लगने के बाद मजबूरन तीमारदार मरीज को लेकर निजी अस्पताल पहुंचे।
बाराबंकी पलिया मसूदपुर के अजूबा (18 वर्ष) सोमवार शाम सडक़ हादसे में जख्मी हो गया था। तीमारदार उसे जिला अस्पताल ले गए, वहां से उसे ट्रॉमा सेंटर रेफर कर दिया गया। रात 11 बजे पिता लतीफ अजूबा को ट्रॉमा सेंटर लेकर आए। आरोप है कि यहां पूरी रात जांच के लिए मरीज और तीमारदारों को दौड़ाया गया। दोपहर 12 बजे वेंटिलेटर खाली नहीं कहकर बलरामपुर अस्पताल भेज दिया गया। बलरामपुर अस्पताल में भी वेंटिलेटर की जरूरत बताई गई और फिर ट्रॉमा रेफर कर दिया गया। मजबूरी में परिवारीजन मरीज को अलीगंज के निजी अस्पताल में ले गए। बलरामपुर अस्पताल के सीएमएस डॉ. ऋषि सक्सेना का कहना हैं कि हमारे पास चार वेंटिलेटर हैं, लेकिन उन्हें चलाने के लिए स्टाफ नहीं दिया गया है।

Loading...
Pin It