मंत्री के निरीक्षण के बाद भी नहीं बदली इंदिरा नगर की सूरत जनसमस्याएं जस की तस

  • जलभराव, गंदगी और जर्जर सडक़ें बनीं पहचान, बारिश ने बढ़ाई मुसीबत
  • वादों को पूरा करने में जिम्मेदार रहे नाकाम, चोक पड़ी हैं नालियां
  • स्थानीय निवासियों का सडक़ों पर निकलना हो गया मुश्किल

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बजबजाती नालियां, जलभराव, जगह-जगह लगे कूड़े के ढेर, जर्जर सडक़ें और आवारा जानवर, यह हाल है विधानसभा पूर्वी के इन्दिरा नगर क्षेत्र के वार्ड इस्माईल गंज प्रथम और द्वितीय का। यहां के शंकरपुरी कालोनी, अवध विहार और हरिहरनगर के निवासी जनसमस्याओं से घिरे हुए हैं। रही सही कसर बारिश ने निकाल दी है। बरसात में यहां के निवासियों को दोगुनी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। तमाम शिकायतों के बाद भी समस्याओं का समाधान नहीं हो रहा है।
उत्तर प्रदेश नगर निगम एवं जल कल कर्मचारी संघ के अध्यक्ष और स्थानीय निवासी शशि कुमार मिश्र ने बताया कि लगभग 6 माह पूर्व नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना ने क्षेत्र का दौरा किया था। उस समय क्षेत्र में युद्धस्तर पर सफाई हुई थी। क्षेत्र के विकास का वादा भी किया गया था लेकिन आज तक कोई भी वादा पूरा नहीं किया गया। यही नहीं यहां तमाम समस्याएं पैदा हो गईं। स्थानीय निवासी अंकुर का कहना है कि बारिश के कारण क्षेत्र में जलभराव की समस्या हो गई है। सफाई न होने के कारण नालियां चोक हो चुकी हैं। नतीजतन बरसात का पानी नालियों की जगह सडक़ के ऊपर से बह रहा है। लोगों का सडक़ों पर निकलना मुश्किल हो गया है। लोगों कहना है कि पिछले कई वर्षों से क्षेत्र का यही हाल है। कुछ साल पहले सीवर लाइन डालने के दौरान ठेकेदारों की लापरवाही का खामियाजा यहां के लोगों को भुगताना पड़ रहा है। सडक़ों के जगह-जगह से धंस जाने के कारण आवागमन बाधित हो गया है।

शिकायतों का नहीं लिया जा रहा संज्ञानइस्माईल गंज प्रथम और द्वितीय में जनसमस्याओं को लेकर जनप्रतिनिध व स्थानीय लोग समय-समय पर नगर निगम से लेकर शासन तक पत्र भेजते रहते हैं लेकिन उनकी समस्याओं का संज्ञान नहीं लिया जा रहा है। लोगों का कहना है कि ये पत्र नगर निगम, शासन के अफसर और नगर विकास मंत्री तक लिखे गए।

जगह-जगह खोद दी गईं सडक़ें
चार साल पहले क्षेत्र में जलनिगम द्वारा सीवरेज और कनेक्टिंग चेम्बर का कार्य शुरू कराया गया था। इसके लिए सडक़ों को जहां-तहां खोद दिया गया। सडक़ों की खुदाई के कारण क्षेत्र में जलभराव की स्थिति पैदा हो गई। वहीं सडक़ें धंसने से लोगों का निकलना मुश्किल हो गया है।

 

Loading...
Pin It

Comments are closed.