डांट से बचने के लिए दो छात्रों ने बनाई अपहरण की झूठी कहानी

  • दोनों छात्र कई दिनों से नहीं जा रहे थे स्कूल
  • सआदतगंज का मामला, पूछताछ में सच्चाई आई सामने

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। स्कूल नहीं जाने और घर वालों की डांट से बचने के लिए दो छात्रोंं ने अपहरण की झूठी कहानी बना दी। काफी मशक्कत के बाद पुलिस ने इस मामले का पर्दाफाश किया।
इंस्पेक्टर सआदतगंज महेशपाल सिंह ने बताया कि मीट की दुकान चलाने वाले मोहम्मद चांद परिवारीजनों के साथ दरिया वाली मस्जिद के पास वजीरबाग में रहते हैं। उनका बेटा मोहम्मद रियाज (15) मोअज्जम नगर में बीएसडी इंटर कॉलेज में कक्षा-9 में पढ़ता है। वह सोमवार को अपने घर पहुंचा। उसने परिवारीजनों को बताया कि स्कूल में कक्षा- 6 में पढऩे वाले मोहम्मद उमैर और वह साथ में थे। स्कूल के पास से उन दोनों को मारुति वैन सवार पांच बदमाशों ने अगवा कर लिया। इसके बाद वैन सवार काफी देर उसे कार से घुमाते रहे। रियाज ने बताया कि वैन बालागंज के पास पहुंची तो उसने और उमैर ने गाड़ी के अंदर पड़ी शीशे की बोतल चुपके से उठा ली। इसके बाद वैन का शीशा तोड़ कर शोर मचाया दिया। वैन सवार बदमाश घबरा गए। इसी बीच रियाज और उमैर वैन से निकल कर भाग निकले। अपहरण की सूचना पर पुलिस रियाज से मिलने पहुंची। उसने पुलिस को पूरा घटनाक्रम बताया। इसके बाद पुलिस रियाज और उमैर को लेकर स्कूल पहुंची। वहां पता चला कि दोनों स्कूल पहुंचे ही नहीं थे। दोनों कुछ दिनों से स्कूल ही नहीं आ रहे थे। पुलिस ने स्कूल के पास लगे सीसीटीवी कैमरे चेक किए। कोई वैन नहीं दिखाई दी। इसके बाद पुलिस रियाज को लेकर उन रास्ते पर गई जो उसने बताये थे। उन रास्तों पर भी पुलिस को कुछ नहीं मिला। इसके बाद पुलिस ने उमैर से अलग से पूछताछ की। उसने पुलिस को बताया कि अपहरण की कहानी झूठी थी। उसने पुलिस को बताया कि गैरहाजिर होने पर स्कूल और घर पर डांट न पड़े इसलिए पूरी कहानी बनायी।

लम्बी छुट्टी पर एलडीए वीसी, सचिव एमपी सिंह को मिली जिम्मेदारी

लखनऊ। (4पीएम न्यूज़ नेटवर्क) एलडीए वीसी प्रभुएन सिंह व्यक्तिगत कारणों से लम्बी छुट्टी पर चले गए हैं। उनकी अनुपस्थिति में सचिव एमपी सिंह कार्यवाहक उपाध्यक्ष के रूप में कार्य करेंगे। इसके लिए वीसी ने शासन से अनुमति लेकर सचिव को कार्यभार सौंप दिया है। बताया जा रहा है कि वीसी नौ अगस्त तक छुट्टी पर रहेंगे। गौरतलब है कि पिछले दो साल से अधिक समय से प्रभुएन सिंह एलडीए में वीसी की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं।

केजीएमयू के एक और डॉक्टर ने दिया इस्तीफा

लखनऊ। (4पीएम न्यूज़ नेटवर्क) केजीएमयू में डॉक्टरों के इस्तीफे थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। इंडोक्राइनोलॉजी विभाग के इकलौते डॉ. मधुकर मित्तल ने इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफा कुलसचिव राजेश राय को सौंपा है। डॉ. मित्तल के इस्तीफे से केजीएमयू में डायबिटीज और थॉयराइड से पीडित मरीजों के इलाज से मुश्किल आएगी। गौरतलब है कि यहां करोड़ों की धोखाधड़ी के आरोपी रोटोमैक समूह के चेयरमैन विक्रम कोठारी भर्ती है। वह करीब दो माह से अधिक समय से प्राइवेट वार्ड में भर्ती है। यहां उसका इलाज चल रहा है।

 

Loading...
Pin It