नगर निगम: बजट में कटौती से भडक़े कर्मचारी, महापौर से लगाई गुहार

  • वेतन-पेंशन व्यय मद में कटौती से फैली निराशा
  • नहीं किया सातवें वेतनमान के अंतर के भुगतान का प्रावधान

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। नगर निगम के सदन में रविवार को वित्तीय वर्ष 2019-20 का बजट पेश किया गया। इस बजट से नगर निगम के अपने ही कर्मचारियों में निराशा है। बजट में नियमित कर्मचारियों के (अधिष्ठान) वेतन-पेंशन व्यय मद में कटौती कर दी गई है। वहीं, सातवें वेतनमान के अन्तर के भुगतान का प्रावधान नहीं किया गया है, जिसके चलते कर्मचारियों को समय से वेतन-पेंशन मिलने की समस्या होना तय माना जा रहा है।
नगर निगम कर्मचारी संघ ने आज सुबह महापौर के नाम पत्र लिख कर मामले से अवगत कराया है। संघ के अध्यक्ष आनंद वर्मा ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा नगर निगम के नियमित/सेवानिवृत्त कर्मचारियों को सातवें वेतनमान के अन्तर की धनराशि का 50 प्रतिशत प्रदान किए जाने का आदेश किया जा चुका है। बावजूद इसके नगर निगम के चालू वित्तीय वर्ष के बजट में सातवें वेतनमान के अन्तर मद में व्यय की जाने वाली धनराशि का प्रावधान बजट व्यय मद में नहीं किया गया है। जिसके चलते नगर निगम कर्मचारियों में निराशा है। संघ की ओर से महापौर संयुक्ता भाटिया से उक्त समस्या के हल करने की मांग की है। गौरतलब है कि नगर निगम में मौजूदा समय में करीब 4700 अफसर-कर्मचारी और 3500 पेंशनर हैं जो बजट से प्रभावित हो रहे हैं।

Loading...
Pin It

Comments are closed.