इंसेफेलाइटिस पर सरकार चौकन्नी, संवेदनशील जिलों में खुलेंगे ट्रीटमेंट सेंटर

  • अगस्त माह से शुरू होंगे ईटीसी, मरीजों को मिलेगा बेहतर इलाज
  • सीएचसी के चिकित्सकों को किया जाएगा प्रशिक्षित गाइड लाइन जारी
  • सरकार के निर्देशों के बाद स्वास्थ्य विभाग ने कसी कमर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। इंसेफेलाइटिस से होने वाली मौतों को कम करने के लिए सरकार पूरी तरह चौकन्नी हो गई है। उसने स्वास्थ्य विभाग को इससे निपटने के लिए गाइड लाइन जारी कर दी है। 11 नए जिलों को चिन्हित किया गया है। यहां अगस्त में इंसेफेलाइटिस ट्रीटमेंट सेंटर खोले जाएंगे। यही पर मरीजों का इलाज किया जाएगा। इंसेफेलाइटिस के बेहतर इलाज के लिए सीएचसी में तैनात चिकित्सकों को प्रशिक्षित किया जाएगा। सरकार के निर्देश के बाद स्वास्थ्य विभाग तैयारियों में जुट गया है।
11 नए जिलों में 96 इंसेफेलाइटिस ट्रीटमेंट सेंटर (ईटीसी) अगस्त माह से शुरू हो जाएंगे। सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों (सीएचसी) पर इलाज की सुविधा मुहैया कराकर उसे ईटीसी के रूप में विकसित किया जाएगा। यहां चार बेड इंसेफेलाइटिस के मरीजों के लिए आरक्षित होंगे। जब मरीज कुछ स्वस्थ हो जाएगा तब उसे जरूरत के मुताबिक जिला अस्पताल या मेडिकल कॉलेज रेफर किया जाएगा। संचारी रोग के निदेशक डॉ. मिथलेश चतुर्वेदी ने बताया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक व स्टाफ को इंसेफेलाइटिस के मरीजों के इलाज के लिए प्रशिक्षत और उपकरणों की व्यवस्था की गई है ताकि अचानक पहुंचने वाले मरीज को तत्काल इलाज मुहैया कराया जा सके। ईटीसी सेंटर के रूप में विकसित किए जाने वाले सीएचसी के सभी चिकित्सकों को इंसेफेलाइटिस के मरीजों के इलाज की गाइड लाइन का प्रशिक्षण दिया जा चुका है। सेंटर शुरू होने से पहले एक बार फिर उन्हें प्रशिक्षण दिया जाएगा।

सांस्कृतिक दल करेंगे जागरूक
सांस्कृतिक दल इंसेफेलाइटिस से लोगों को जागरूक करेंगे। लखनऊ में ऐसे ही लोक संगीत वाले दल ने इस बुखार से बचाव के संदेश को बहुत रोचक ढंग से पहुंचाया था। लिहाजा विभाग ने सभी जिलों के लिए एक-एक दल सांस्कृतिक विभाग से मांगे हैं।

घर-घर दस्तक देगी टीम
बचाव तथा नियंत्रण के लिए ऐसे हर घर में जहां 15 वर्ष से कम उम्र के बच्चे हैं, टीमें दस्तक देंगी। उन्हें यह संदेश दिया जाएगा कि कोई भी बुखार इंसेफेलाइटिस हो सकता है। इलाज में लापरवाही घातक साबित हो सकती है, इसलिए इलाज में देरी न करें। बुखार आते ही तुरंत सरकारी अस्पताल या स्वास्थ्य केंद्र में इलाज कराएं।

यहां चलेगा अभियान
लखनऊ मंडल: लखनऊ, सीतापुर, रायबरेली, उन्नाव, लखीमपुर खीरी और हरदोई
देवीपाटन मंडल: गोंडा, बलरामपुर, बहराइच और श्रावस्ती जिला
फैजाबाद मंडल: बाराबंकी

Loading...
Pin It

Comments are closed.