हमीरपुर कांड के गुनहगारों को दिलवाएंगे फांसी की सजा: बृजलाल

  • आरोपियों के खिलाफ पाक्सो एक्ट के तहत की जाएगी कार्रवाई
  • सप्ताह भर पहले ही राष्ट्रपति ने कानून को दी है मंजूरी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। हमीरपुर में अनुसूचित जाति की 11 वर्षीया बालिका की रेप के बाद हत्या किए जाने के मामले में आरोपियों पर प्रिवेंशन आफ चिल्ड्रेन सेक्सुअल आफेन्सेस एक्ट के ताजा कानून के तहत भी कार्रवाई की जाएगी। एक हफ्ते पहले ही राष्ट्रपति ने इस नए कानून को मंजूरी दी है। इसमें 12 साल से कम उम्र के बच्चों से बलात्कार के मामलों में फांसी की सजा का प्रावधान है। इसके साथ उपरोक्त मामले में बलात्कार, हत्या, एससी/एसटी एक्ट और पाक्सो एक्ट की धाराएं भी लगाई गई हैं।
उत्तर प्रदेश एससी-एसटी आयोग के चेयरमैन बृजलाल ने मंगलवार को हमीरपुर में घटनास्थल का मौका मुआयना और पीडि़त पक्ष से मुलाकात के बाद उन्होंने बताया कि आयोग के निर्देश पर पुलिस अधीक्षक हमीरपुर द्वारा इस घटना की जांच के लिए एक टीम गठित की गई है। विवेचना का प्लान तैयार कर लिया गया है ताकि विवेचना के दौरान कोई महत्वपूर्ण बिन्दु छूटने न पाए। एक महीने के भीतर इसमें आरोप पत्र लगाकर फास्ट ट्रैक कोर्ट में इसका ट्रायल शुरू कर दिया जाएगा ताकि दोषियों को फांसी की सजा दिलाई जा सके। बृजलाल ने बताया कि हमीरपुर की उक्त घटना में एक अभियुक्त पप्पू खान को गिरफ्तार किया जा चुका है। दूसरा अभियुक्त वीरू सिंह फरार है जिसकी गिरफ्तारी भी जल्द कर ली जाएगी।

Loading...
Pin It