जेलें बन रहीं अपराधियों के लिए पार्टी का अड़ड़।

  • कार्रवाई के नाम पर छोटे लोगों पर गिरती रही है गाज

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के जेलों की व्यवस्था ठीक नहीं चल रही है। राज्य के अलग-अलग जिलों से जेलों के अंदर अवैध रूप से मोबाइल फोन के इस्तेमाल, जश्न मनाने, वीडियो बनाने और उसे सोशल मीडिया पर अपलोड करने की तस्वीरें वायरल हो रही हैं। इन तस्वीरों से साफ है कि जेलों में जो कुछ भी हो रहा है, वह पुलिस की मिलीभगत से ही हो रहा है। जो सही संकेत नहीं है।
प्रदेश की जेलों में बंद अपराधी कहीं शराब पार्टी की तस्वीरें तो कहीं हत्या करने के बाद उसकी तस्वीरें वायरल करके बताने में सफल हैं कि उनके आगे पुलिस बौनी है। माफिया डॉन और पूर्व सांसद अतीक अहमद के प्रयागराज के नैनी सेंट्रल जेल से गुजरात के अहमदाबाद जेल शिफ्ट होने के बाद नैली जेल के बंदियों ने चैन की सांस ली। प्रयागराज से जेब में नोट की गड्डी लेकर वाराणसी के रास्ते अतीक अहमद के अहमदाबाद जाते ही नैनी जेल में जश्न का माहौल बन गया। नैनी जेल में बंद तमाम शातिर शूटर अपने रंग में आ गए। जेल में ही नॉनवेज के साथ शराब की पार्टी हो गई। नैनी जेल में शूटरों ने शराब और मुर्गे की दावत उड़ाई। सिर्फ इतना ही नहीं, इन सभी ने इस पार्टी का वीडियो भी बनाया और जमकर फोटोग्राफी की। इन शूटरों की पार्टी की तस्वीरें इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। इन तस्वीरों में 50 हजार का इनामी उदय यादव, 25 हजार का इनामी रानू, पार्षद पति राजकुमार और 50 हजार का इनामी गदऊ पासी शामिल है। तस्वीरें सामने आने के बाद बड़ा सवाल यह उठ रहा है कि क्या नैनी सेंट्रल जेल में अपराधियों को सभी सुविधाएं मिलती हैं। जेल के अंदर शराब और कबाब की पार्टी कैसे चल रही थी? जेल प्रशासन क्या कर रहा था? मामला सामने आने के बाद जेल प्रशासन मामले को दबाने में जुटा हुआ है। ऐसा पहले भी हो चुका है कि श्रावस्ती, देवरिया और बरेली जेल में अतीक के रहने के दौरान कई गुर्गे किसी न किसी केस में जमानत तुड़वाकर वहां पहुंच गए। अतीक अहमद नैनी सेंट्रल जेल समेत प्रदेश की कई जेलों में रहा है। इन जेलों में उनसे मिलाई करने वालों की अच्छी खासी संख्या रही है। देवरिया, श्रावस्ती तक प्रयागराज से उनके गुर्गे व करीबी टोली बनाकर जाते रहे हैं।

एडीजी जेल ने तस्वीरों पर दी सफाई
बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद के अहमदाबाद जेल शिफ्ट होने के बाद नैनी सेंट्रल जेल फिर सुर्खियों में है। नैनी जेल में बंद अपराधियों की मुर्गा व शराब पार्टी करते तस्वीरें वायरल हुई हैं। एडीजी जेल चंद्र प्रकाश का कहना है कि यह तस्वीरें होली के समय की हैं। डीआइजी जेल, प्रयागराज से प्रकरण की जांच कराई गई है। बताया गया कि डीआईजी जेल ने अपनी जांच में जेल अधीक्षक समेत तीनों अधिकारियों की भूमिका संदिग्ध पाई है और विभागीय कार्रवाई की संस्तुति की है। इसके अलावा वायरल तस्वीर में नजर आ रहे चार बंदियों को दूसरे जेल में स्थानान्तरित किये जाने की संस्तुति की गई है। इस मामले की सच्चाई सामने आने के बाद मुख्य बंदी रक्षक मूलचंद दोहरे और बंदी रक्षक कृष्ण कुमार को निलंबित भी कर दिया गया है।

गाजीपुर जेल का हाल
सोशल मीडिया पर गाजीपुर जेल में बंद अपराधियों का बेधडक़ मोबाइल पर बात करते और पार्टी करते वीडियो वायरल हुआ है। एडीजी का कहना है कि यह वीडियो फरवरी माह का है। डीआईजी जेल, वाराणसी को इस मामले की जांच सौंपी गई है। गाजीपुर जेल के अधीक्षक से भी जवाब-तलब किया जा रहा है।

रायबरेली जेल की स्थिति
रायबरेली जेल का वीडियो वायरल होने के बाद तत्कालीन वरिष्ठ अधीक्षक समेत छह जेलकर्मियों को निलंबित किया गया था। माफिया अतीक अहमद के गुर्गों के द्वारा लखनऊ निवासी रियल इस्टेट कारोबारी को अगवा कर देवरिया जेल में पीटे जाने के मामले मेंं भी जेल अधीक्षक समेत अन्य जेल कर्मियों को निलंबित करने के साथ ही उनके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया गया है। माना जा रहा है कि नैनी व गाजीपुर जेल के अधिकारियों के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जा सकती है।

वीडियो वायरल होने से खुली पोल

प्रदेश की जेलें अपराधियों के लिए ऐशगाह बनती जा रही हैं। यहां की बैरकों में कुख्यात बंदियों के लिए मुर्गा व शराब पार्टी से लेकर जुए की फड़ तक जम रही हैं। इससे जेलों की सुरक्षा-व्यवस्था से लेकर जेल के भीतर कुख्यात अपराधियों को मिल रही सुविधाओं पर एक बार फिर बड़े सवाल खड़े हुए हैं।
नवंबर 2018 में रायबरेली जेल में अपराधी अंशू दीक्षित व साथियों के मुर्गा व शराब पार्टी का वीडियो वायरल होने के बाद अब नैनी सेंट्रल जेल व गाजीपुर जेल की वायरल हुई कुछ ऐसी ही तस्वीरें फिर सामने आई हैं। चर्चा तो यह भी है कि नैनी जेल की तस्वीरें माफिया अतीक अहमद को यहां से अहमदाबाद जेल भेजे जाने की खुशी में की गई पार्टी की हैं।

 

Loading...
Pin It

Comments are closed.